Atal hind
Uncategorized

हिन्दी सेवा के लिए डॉ. वंदना सेन दिल्ली में सम्मानित

हिन्दी सेवा के लिए डॉ. वंदना सेन दिल्ली में सम्मानित
ग्वालियर। वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. वंदना सेन को दिल्ली के कॉन्सिट्यूशन क्लब में आयोजित एक सम्मान समारोह में हिन्दी सेवा सम्मान प्रदान किया गया है। यह सम्मान उन्हें लम्बे समय से इनके द्वारा की जा रही हिन्दी सेवा के लिए दिया गया। डॉ. वंदना सेन पिछले दो दशक से लेखन क्षेत्र में सक्रियता के साथ कार्य करते हुए हिन्दी के उन्नयन की दिशा में कार्य कर रही हैं।
इस गरिमामयी कार्यक्रम में अतिथियों के रूप में देश के वरिष्ठ पत्रकार एवं पूर्व राज्यसभा सदस्य तरुण विजय, उत्तरप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अतुल गर्ग, भाजपा नेता शाजिया इल्मी, के. जी. सुरेश, राजीव रंजन, प्रो. संजय द्विवेदी तथा कार्यक्रम संयोजक नीरज कुमार दुबे सहित प्रमुख व्यक्तित्व मंच पर उपस्थित रहे।
हिन्दी की प्रसिद्ध एक वेबसाइट प्रभा साक्षी के तत्वावधान में आयोजित किए गए इस सम्मान समारोह में डॉ. वंदना सेन के अलावा देश के चयनित लेखकों को भी यह सम्मान प्रदान किया गया। जिसमें ललित गर्ग नई दिल्ली, राकेश सेन जालंधर, डॉ. प्रभात कुमार सिंघल कोटा, देवेंद्र राज सुथार, उत्तरप्रदेश के संजय तिवारी, डॉ. कृष्ण गोपाल मिश्रा, अरुण खार, रवींद्र राम नारायण, हेमंत तिवारी आदि शामिल हैं। डॉ. वंदना सेन वर्तमान में ग्वालियर के पीजीवी विज्ञान महाविद्यालय में सहायक प्राध्यापक के पद पर सेवाएं दे रहीं हैं।
इस कार्यक्रम में डिजीटल मीडिया में राष्ट्रभाषा हिन्दी एवं क्षेत्रीय भाषाओं की भूमिका पर एक परिचर्चा भी आयोजित की गई। जिसमें इस बात पर विशेष बल दिया कि आज मीडिया में जिस प्रकार से हिन्दी शब्दों के स्थान पर अन्य भाषाओं के शब्द प्रयुक्त हो रहे है, वह सभी लेखकों के लिए चिंतनीय हैं। इस प्रकार की सोच को बदलने की आवश्यकता है। परिचर्चा में वक्ताओं ने विचार व्यक्त करते हुए देश और समाज-निर्माण में पत्रकारों एवं साहित्यकारों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया एवं डिजिटल मीडिया में हिन्दी की सशक्त प्रस्तुति में प्रभासाक्षी की सेवाओं को उल्लेखनीय बताया।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Leave a Comment

URL