कोरोना का कहर -टारगेट सौ का , घर से निकले दस और अभियान फुस्स !

कोरोना का कहर

टारगेट सौ का , घर से निकले दस और अभियान फुस्स !

पटौदी में संदिग्द्ध की जांच, सरकार के लिए बड़ी चुनौती

अभी तक हो चुके पांच केस कोविड 19 संक्रमित कंफर्म

शुक्रवार को जांच वास्ते लिये गए थे 15 लोगों के सेंपल

फतह सिंह उजाला

Hail of corona-Target hundred, ten more expeditions got out of the house!Investigation of the suspect in Pataudi, a big challenge for the governmentFive cases of Kovid 19 infected confirmed so far Samples of 15 people were taken for investigation on Friday

 

पटौदी। पटौदी में अभी तक कोरोना कोविड 19 संक्रमण के पांच केस कंफर्म होने के साथ ही शासन-प्रशासन के हाथ पांव फूले हुए हैं, कि कहीं और पाॅजिटिव केस सामने नहीं आये। इसके लिए सभी पीड़ितों के परिजनों सहित अन्य संदिग्द्धों की जांच के लिए सेंपल भी लिये जा चके हैं, जिनका आंकड़ा 50 से अधिक है। अब बात करते हैं पटौदी पालिका क्षेत्र में संक्रमित पाये गए वार्ड 11, 12,  13 और 14 के मुस्लिम लोगों की। इसके बाद में बैठक हुई और जांच के लिए मुस्लिम वर्ग सहित इनके प्रतिनिधियों ने शर्त रख दी कि पटौदी में ही जांच हो तो कराने के लिए तैयार हैं।

शनिवार को पटौदी के कोविड संक्रमित पाये गए मुस्लिम वार्डो के लोगों ने अपनी जांच कराने के नाम पर प्रदेश सरकार, स्वास्थ्य मंत्री सहित जिला प्रशासन औैर स्वास्थ्य विभाग को जोर का झटका और भी जोर से दे दिया। सूत्रों के मुताबिक उच्च सरकारी स्तर पर स्थानीय प्रशासन पर इलाके के लोगों में कोरोना का आतंक और इसके फैलने की संभावना को लेकर अधिकाधिक लोगों की एक दिन में जांच का टारगेेट तय किया, इसके लिए सेंपल लेने वाली टीम भी मौजूद रही। लेकिन बीते कई दिनों की स्थानीय प्रशासन की बनाई गई योजना सहित रणनीति की ही शनिवार को ही हवा निकल गई और परिणाम वही ढ़ाक के तीन पात सामने आया है।

 

पत्नी उत्तेजित होगी?ऐसी कौन सी चीज है जो आप अपनी पत्नी के साथ करते हैं(Special time for sex)

 

 

खासकर मुस्लिम समुदाय को कोेविड 19 संक्रमण की जांच के लिए प्रेरित करने के लिए शक्रवार को विभिन्न पार्षदों, नंबबरदारों, एक मुस्लिम महिला सहित कुल 15 लोगों की गुरूग्राम से आाई टीम के द्वारा जांच के लिए सेंपल लिये गए। इस आंकड़े को शासन और प्रशासन ने मुस्लिम समुदाय का उत्साह समझ लिया। इन 15 लोगों की जांच से कुुछ ही दिन पहले सात लोगों की भी पटौदी में ही जांच के लिए सेंपल लिये गए। अब शनिवार को जो भी कुछ हुआ वह हैरान करने से अधिक सरकार के लिए सरदर्दी बढ़ाने वाला ही साबित हो रहा है।

डरता तो वो प्रधानमंत्री था…. इस प्रधानमंत्री से तो दुश्मन थर्राता है…

 

सूत्रों के मुताबिक पटौदी नागरिक और स्वास्थ्य विभाग प्रशासन के द्वारा कोविड 19 संक्रमण की जांच को लेकर अपने स्ता पर युद्ध  स्तरीय तैयारी कर ली। उच्च सरकारी निर्देशानुसार शनिवार को कोविड 19 संक्रमण के जांच के लिए एक सौ सेंपल लेने का टारगेेट तय किया गया, लेकिन हुआ इसके एक दम उलट काम। इस बात से भी इंकार नहीं कि मुस्लिम बहुल वार्ड के लोगों ने अपने ही चुने पालिका प्रतिनिधियों को ही सहयोग के नाम पर ठेंगा दिखा दिया। शनिवार को पटौदी पालिका के संबंधित वार्डो के लोगों की कोविड 19 संक्रमण की जांच के वास्ते सेंपल लेने के लिए पटौदी के टीम के सदस्य अग्रवाल वाटिका परिसर  पहुंच गये। लेकिन हैरानी तब हुई जब दिन भर में बहुत मुश्किल से दस लोग ही अपनी जांच के सेंपल देने के लिए राजी हुए और मौके पर पहुंचे।

hariyana-राजनेताओं & अधिकारियों ने कोरोना को लेकर कैसे उड़ाई PM मोदी आदेशों/निर्देशों की धज्जियां?

 

शनिवार को इनकी हुई जांच
पटौदी में शनिवार को कोविड 19 संक्रमितों की पहचान के लिए जांच सहित सेंपल लिये गए, उनमें मोहम्म्मद आलम पुुत्र जुलफिकार वार्ड 12, मोेहहम्मद अली पुत्र वली मोहम्म्द वार्ड 9, इलियास पुुत्र इसलाम वार्ड 12, नसीम पुुत्र मोहम्मद अली वार्ड 9, मोेहहम्मद इमरान पुत्र सईद अहमद वार्ड 11, आरिफ पुत्र युनूस वार्ड 11, अब्दुुल सत्तार पुुत्र अब्दुल गरीब- राजस्थान बिकानेर इमाम, मोेलवी जालवाली मस्जिइ वार्ड 12, दिलखुश पुत्र महावीर वार्ड 7, मोेहम्मद खालिउ पुत्र बाबू खालिद वार्ड 11 और फन्नू पुत्र लीलू वार्ड 13 के नाम ही शामिल है। इसके विपरीत एक दिन पहले 15 लोगों के द्वारा अपनी जांच कराई गई, अब ऐसा क्या हुआ और क्या कारण रहा कि शनिवार को कुल दस लोग ही जांच के लिए सामने आये।

सेंपल  टीम के साथ नहीं डाक्टर
सूत्रों के मुताबिक कोविड 19 संक्रमण की जांच  से पहले डाक्टर ही वैरीफाई करता है कि, संबंधित व्यक्ति में कोई लक्षण है अथवा नहीं। इसके बाद ही लैब टेकनिशियन टीम के सदस्य को जांच के लिए सेंपल लेने होते हैं। लेकिन हैरानी की बात यह है कि लैब टेकनिशियन टीम के साथ जिसमें दो महिला और एक पुरूष शामिल है, इस टीम के साथ कोई भी डाक्टर मौजूद नहीं रह रहा है। पूरी टीम की बात करें तो साथ में एंबुलेंस तथा उसका चालक भी शामिल है। अब एक समस्या और भी महिला लैब टेकनिशियन के साथ है कि रविवार को दो महिला लैब टेकनिशियन ही सेंपल लेंगी, तीसरा पुरूष कथित रूप से छुटृटी पर होगा। ऐसे में कही भी कथित विरोध की स्थ्तिी में महिला लैब टेकनिशियन के लिए अपनी सुरक्षा भी चिंता बनी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *