यात्री ट्रेनें बंद,फिर भी रेलवे ने कमाए 45 करोड़ रुपये

यात्री ट्रेनें बंद,फिर भी रेलवे ने कमाए 45 करोड़ रुपये
पिछले साल अप्रैल में कमाए थे 211़,अब 255 करोड़

 

Passenger trains closed, yet Railways earned Rs 45 crore
211 earned in April last year, now 255 crores

 

अंबाला(अटल हिन्द ब्यूरो )हरियाणा,पंजाब,चंडीगढ़,उत्तर प्रदेश का कुछ हिस्सा और हिमाचल प्रदेश से रोज 1.75 लाख यात्री ट्रेनों में सफर करते हैं। लॉकडाउन में सबकुछ बंद है,सवारी गाडिय़ों के पहिये भी थमे हैं। बावजूद इसके अंबाला रेल मंडल ने पिछले साल का आमदनी का रिकार्ड तोड़ते हुए 45 करोड़ से अधिक रुपया कमाया है। अप्रैल 2019 में यात्रियों की बढ़ती संख्या के बाद रेल मंत्रालय ने स्पेशल ट्रेनों से आमदनी बढ़ा ली थी। लेकिन इस बार परिस्थितियां अलग होने के कारण यात्रियों से एक रुपये की आय रेलवे को नहीं हुई।

Hariyana-सीएम के बयानों से  सरकार के आदेशों को ठेंगा, प्राईवेट स्कूलों की लूटखसोट का पढ़ें पूरा अंकगणित

 

 

इसके बाद भी मंडल की वाणिज्य शाखा ने सर्वश्रेष्ठ कमाई की। कोरोना वायरस के कारण देश ही नहीं बल्कि दुनिया की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ा है, ऐसे में भी रेलवे के कुछ मंडल आमदनी बढ़ाकर रिकार्ड कायम कर रहे हैं जिसकी खुद रेल मंत्री पीयूष गोयल ट्वीट कर सराहना कर रहे हैं। खास बात ये भी रही कि रेलवे को किसी कर्मी को टीए-डीए नहीं देना पड़ा,एक तरह से ये भी बचत हुई।

 

big news- सोनीपत में 3 करोड़ की शराब से भरे ट्रक पकड़े,तार किस बड़े चेहरे से जुड़े हुए हैं ???

 

रेल टूरिज्म एंड कैटरिंग कॉरपोरेशन (आइआरसीटीसी) वेबसाइट या फिर अंबाला मंडल के 137 स्टेशन से कंप्यूटरीकृत आरक्षण टिकट या सामन्य टिकट खरीदने पर मंडल की ही आमदनी बढ़ती है। पिछले साल अप्रैल 2019 की बात करें तो मंडल ने यात्रियों को टिकट बिक्री कर 56.98 करोड़ की आमदनी की। लेकिन,अप्रैल 2020 में यह आमदनी रेलवे की शून्य रही। फिर भी रेलवे ने माल ढुलाई से आय कर ली। यहां से विभिन्न राज्यों में मालगाडिय़ों से सीमेंट,गेहूं,चावल, दवाइयां और जरूरी सामान सप्लाई हो रहा।

 

 

पिछले साल अप्रैल 2019 में मालगाडिय़ों से मंडल ने 146.04 करोड़ की आमदनी की थी जो इस बार 286.81 है। यानी की लॉकडाउन में 100.77 करोड़ की आमदनी अधिक रही है। दरअसल,रेलवे की करीब 70 फीसद आय का साधन माल ढुलाई ही है। यही कारण है कि लॉकडाउन में भी अंबाला रेल मंडल अर्थव्यवस्था पर असर नहीं पडऩे दे रहा। डीआरएम जीएम सिंह और सीनियर डीसीएम हरि मोहन की मॉनीटिरिंग और फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एफसीआइ) और प्राइवेड कंपनियों से मॉल ढुलाई के लिए तालमेल बना हुआ है।

 

ईमानदार  Haryana सरकार के अपने संतरी -मंत्रियों के खर्चे कैसे निकलेंगे ? जनता की तो बाद में सोचेंगे 

 

डीआरएम जीएम सिंह ने बताया कि 255 करोड़ की अब तक की उच्चतम फ्रेट आय दर्ज की है। 570 रैकों में (मालगाडिय़ां) 1.45 मीट्रिक टन लदान कर मंडल के इतिहास की सर्वश्रेष्ठ मासिक लदान का रिकॉर्ड बनाया है। रिकॉर्ड 59 उच्च क्षमता वाली अन्नपूर्णा ट्रेनों के साथ कुल 62 उच्च क्षमता वाली ट्रेनों का अप्रैल में लदान कर स्थापित किया गया। पिछले साल 2019 की तुलना में औसत प्रतिदिन लदान में 72 फीसद,खाद्यन्न के लदान में 140 फीसद,उर्वरक के लदान में 55 फीसद और कंटेनर यातायात में 45 फीसद की वृद्धि दर्ज की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *