Atal hind
Uncategorized

15 शहर जहां नागरिकता कानून को लेकर हो रही हिंसा, जानें देशभर में कहां-कहां हो रहा है प्रदर्शन

15 शहर जहां नागरिकता कानून को लेकर हो रही हिंसा, जानें देशभर में कहां-कहां हो रहा है प्रदर्शन
दिल्ली समेत देश के कई शहरों में इस समय नागरिकता कानून के खिलाफ जबरदस्त प्रदर्शन हो रहे हैं। दिल्ली के मंडी हाउस और लाल किला इलाके में आज जमकर हंगामा हुआ। सिर्फ दिल्ली ही नहीं देश के अलग-अलग शहरों में भी प्रदर्शन हो रहे हैं।
नई दिल्ली: दिल्ली समेत देश के कई शहरों में इस समय नागरिकता कानून के खिलाफ जबरदस्त प्रदर्शन हो रहे हैं। दिल्ली के मंडी हाउस और लाल किला इलाके में आज जमकर हंगामा हुआ। सिर्फ दिल्ली ही नहीं देश के अलग-अलग शहरों में भी प्रदर्शन हो रहे हैं। दिल्ली से चंडीगढ़ तक, लखनऊ से पटना तक और हैदराबाद से बेंगलुरु तक इस वक्त लोग सड़क पर हैं। लाल किले के बाहर धारा 144 लागू होने के बावजूद प्रदर्शन हो रहे हैं। हंगामे की आशंका की वजह से पूरे यूपी में इस वक्त धारा 144 लागू है। विधानसभा के बाहर समाजवादी पार्टी ने आज विरोध प्रदर्शन किया। वहीं, पटना में भी सुबह से ही हंगामा हो रहा है।

देशभर में कहां-कहां प्रदर्शन?

1. दिल्ली- नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली के लाल किले से पैदल मार्च शुरू किया है। इस दौरान प्रदर्शनकारी सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। लाल किले के पास पुलिस लोगों से प्रदर्शन नहीं करने की अपील कर रही है। क्योंकि इलाके में धारा 144 लागू है। लाल किले के इलाके में धारा 144 लागू है। ऐसे में प्रदर्शन के लिए पहुंचे लोगों को हिरासत में लिया जा रहा है। प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली में 19 मेट्रो स्टेशन बंद, जामिया, जसोला विहार, शाहीन बाग, विश्वविद्यालय समेत कई स्टेशन बंद कर दिए गए है। दिल्ली में लालकिला, मंडी हाउस और राजघाट पर प्रदर्शन हो रहा है।


2. पटना- पटना में भी पप्पू यादव की पार्टी के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर कर नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध कर रहे हैं। आलम ये है कि जन अधिकार पार्टी के समर्थकों ने पूरे ट्रैफिक पर कब्जा जमा लिया है। पटना के डाकबंगला चौराहे पर हथकड़ी पहनकर समर्थकों के साथ पप्पू यादव ने प्रदर्शन किया और कहा कि सरकार ने देश के आत्मा को कैद किया है। मोदी सरकार देश को सीरिया बनाना चाहती है और हिटलर जैसा बर्ताव कर रही है।

3. लखनऊ- लखनऊ में भी समाजवादी पार्टी के विधायकों ने विरोध-प्रदर्शन किया है। एसपी विधायकों ने विधानसभा के बाहर नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन किया।

4. बेंगलुरु- बेंगलुरु में प्रदर्शन के दौरान लोग आज़ादी के नारे भी लगा रहे हैं। बेंगलुरु में धारा 144 लागू होने के बावजूद प्रदर्शनकारी गांधीगीरी करने उतरे लेकिन पुलिस ने उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी और हिरासत में ले लिया। इस दौरान एक प्रदर्शनकारी गांधी जी के भेष में नजर आया और एक पुलिसवालों को गुलाब का फूल देने लगा। बावजूद इसके पुलिस ने इनलोगों को भी हिरासत में लिया।

5. संभल- उत्तर प्रदेश के संभल में प्रदर्शन के दौरान हिंसा हुई। संभल में प्रदर्शनकारियों ने चार रोडवेज बसों में आग लगाई और पुलिस चौकी पर पथराव किया। इलाके में भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती हुई है।


6. कलबुर्गी (कर्नाटक)– कर्नाटक के कलबुर्गी में नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन हो रहा है और कानून वापस लेने की केंद्र से मांग की जा रही है।

7. चंडीगढ़ में मुस्लिमों का प्रदर्शन- CAA के खिलाफ चंडीगढ़ में मुस्लिम संगठन का प्रदर्शन हो रहा है। उन्होंने नागरिकता कानून को बताया संविधान के खिलाफ बताया और सरकार से कानून वापस लेने की मांग की।

8. जम्मू- जम्मू में NSUI का प्रदर्शन हो रहा है। प्रदर्शनकारी जमकर नारेबाजी कर रहे हैं।

9. गुरुग्राम- दिल्ली में प्रदर्शन की वजह से दिल्ली-गुरुग्राम हाईवे पर लंबा ट्रैफिक जाम लग गया है। गुरुग्राम में बार्डर सील होने की वजह से

10 किमी लंबा जाम लग गया है। पुलिस एक-एक गाड़ी की तलाशी ले रही है।

10. दरभंगा- नागरिकता कानून के खिलाफ बिहार के दरभंगा में CPI-M का प्रदर्शन, लहेरियासराय में रेलवे पटरी पर प्रदर्शन हो रहा है।

11. अहमदाबाद- गुजरात के अहमदाबाद पर CAA के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन हो रहा है इस दौरान पुलिस ने लाठीचार्ज किया।
12. त्रिवेंद्रम- केरल के त्रिवेंद्रम में भी लेफ्ट पार्टियों का प्रदर्शन हो रहा है। प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए पानी की बौछार की जा रही है।

13. कोच्चि- कोच्चि शहर में भी हजारों छात्र सड़कों पर उतरे और नागरिकता कानून के खिलाफ नारेबाजी की।
14. कोलकाता- कोलकाता में CAA के खिलाफ प्रदर्शन, अभिनेत्री अपर्णा सेन की अगुवाई में प्रदर्शन हो रहा है।

15. चेन्नई- चेन्नई यूनिवर्सिटी के छात्रों का तीसरे दिन प्रदर्शन जारी है। कमल हासन को अंदर जाने की नहीं मिली इजाजत नहीं मिली तो उन्होंने गेट से ही छात्रों को संबोधित किया।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Leave a Comment

URL