HARIYANA-पवन ने पसीना बहाने में नहीं की कोई लाचारी, अब तोशाम हल्के की जनता की बारी…

पवन ने पसीना बहाने में नहीं की कोई लाचारी, अब तोशाम हल्के की जनता की बारी…..
आप प्रत्याशी पवन हिंदुस्तानी ने तोशाम हल्के के राजनैतिक समीकरण बिगाडे।
विष्णु दत्त शास्त्री,

HARIYANA–तोशाम, 17 अक्तूबर।  आम आदमी पार्टी (aam admi party)के तोशाम से प्रत्याशी पवन हिंदुस्तानी (Pawan Hindustani)ने हल्के में मेहनत करने में कोई कोर कसर नहीं छोडी है वे पिछले करीबन 4 साल से निरंतर हल्के में आम आदमी पार्टी )AAP)के लिए पसीना बहा रहे हैं। इस दौरान वे डोर टू डोर अभियान के तहत हल्के के करीबन 111 गावों व ढाणियों में 3-3 बार जाकर प्रत्येक ग्रामीण से मिल चुके हैं। अपनी मेहनत के बलबूते उन्होंने तोशाम हल्के में पार्टी का ग्राफ भी बहुत तेजी से बढाया है। गत दिनों पवन की मेहनत को देखकर कुछ ग्रामीण महिलाओं के मुंह से भी सहसा ये शब्द निकले थे कि इस झाडू के निशान आले टोपी आले नै हांडदे कई दिन होगे इबकै इसका ए वोट द्यांगे मेहनती छोरा सै। इस प्रकार हल्के में पवन हिंदुस्तानी आम आदमी पार्टी का प्रचार-प्रसार करने में कोई कोर कसर नहीं छोड रहे हैं। 31 मार्च 2019 को जब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हरियाणा बचाओ रोड शो के दौरान तोशाम पहुंचे तो पवन हिंदुस्तानी ने स्थानीय अनाज मंडी में हजारों की संख्या में भीड इकट्ठी कर अपनी ताकत का अंदाजा लगा दिया था कि अबकि बार तोशाम में आम आदमी पार्टी विपक्ष के बडे नेताओं के लिए सिर दर्द बन सकती है वहीं गत दिनों तोशाम की जाट धर्मशाला में हुए कार्यकर्त्ता सम्मेलन में पहुंचे प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद ने भी आम आदमी पार्टी के समर्थन में एकत्रित हुई भीड को देखकर पवन हिंदुस्तानी की पीठ थपथपाई और कहा कि अबकि बार उन्हें ही तोशाम विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतारा जाएगा।
तत्पश्चात् पवन हिंदुस्तानी के चुनावी मैदान में आते ही तोशाम हल्के के राजनैतिक समीकरण भी बिगडते नजर आए। पवन हिंदुस्तानी ने पिछले 4 सालों में आजतक अपनी मेहनत में कोई कसर नहीं छोडी है। इसी बीच दिल्ली के मटियाला से विद्यायक गुलाब सिंह, मुंडका से विद्यायक सुखबीर सिंह दलाल व विद्यायक धीरज सिंह टोकस ने भी पवन हिंदुस्तानी के साथ रहकर दिल्ली की तर्ज पर हरियाणा में भी काम करने का अनुभव सांझा किया है। आगामी चुनावों में हिंदुस्तानी को मेहनती होने के साथ-साथ हल्के के गांव बागनवाला का मूल निवासी होने का भी फायदा मिलेगा वहीं इसमें सोने पे सुहागा आम आदमी पार्टी की ईमानदार छवि व दिल्ली के विकास कार्यों से भी होगा। क्योंकि पवन हिंदुस्तानी गांव-गांव जाकर दिल्ली में केजरीवाल सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों का हवाला देकर ग्रामीणों को समझा रहें हैं कि जब दिल्ली में शिक्षा, स्वास्थ्य और विकास कार्य इतने बेहतर हो सकते हैं तो हरियाणा में क्यों नहीं। जिसका सीधा-सीधा फायदा आगामी चुनावों में पवन हिंदुस्तानी को मिलता दिख रहा है हरियाणा के ग्रामीण भी चाहते हैं कि यहां भी गांव-गांव में मोहल्ला क्लिनीक हो, यहां भी सरकारी स्कूल दिल्ली की तर्ज पर बनें इसी चाहत के चलते ग्रामीण पवन हिंदुस्तानी का भरपूर समर्थन करके उन्हें सिर-आंखों पर बैठा रहे हैं। बल्कि गत दिनों विपक्ष के चौधरी बंसीलाल परिवार की सदस्या उनकी पुत्री सुमित्रा ने भी गांव लेघां में पवन हिंदुस्तानी के डोर-टू-डोर अभियान के तहत पवन को जीत का आशीर्वाद देकर कहा भी था कि दिल्ली जैसे स्कूलों की जरुरत हमारे हल्के के बच्चों को भी है। आखिरकार पवन हिंदुस्तानी ने अपनी मेहनत व पार्टी की ईमानदारी और विकास कार्यों को लोगों तक पहुंचा दिया है अब जनता जनार्दन की बारी है कि 21 अक्तूबर को होने वाले चुनाव में जनता किसके पक्ष में मतदान करती है और राजनैतिक उंट 24 अक्तूबर को किस करवट बैठता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: