16 मई तक Lockdown का पालन होता है तो ताजा केस नहीं आएगा

केंद्र सरकार ने किया दावा 16 मई तक कोरोना वायरस लॉकडाउन (Lockdown) का पालन होता है तो कोविड-19 (COVID-19) को ताजा केस नहीं आएगा. इसके साथ ही प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) ने भी इसे लेकर एक ग्राफ शेयर किया है.

 

 

The central government has claimed that if the corona virus lockdown is followed till May 16, then Kovid-19 (COVID-19) will not get a fresh case. Along with this, Press Information Bureau (PIB) has also shared a graph about this.

नई दिल्ली : कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) महामारी का कहर देश में रोजाना बढ़ रहा है. इस खतरनाक वायरस की चपेट में आने के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. कोरोना से निपटने के लिए केंद्र सहित सभी राज्य सरकारें एकजुट होकर काम कर रही हैं. इसी कड़ी में केंद्र सरकार ने शुक्रवार को दावा किया कि अगर 16 मई तक कोरोना वायरस लॉकडाउन (Lockdown) का पालन होता है तो कोविड-19 (COVID-19) को ताजा केस नहीं आएगा. इसके साथ ही प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) ने इसे लेकर एक ग्राफ शेयर किया है. पीआईबी (Press Information Bureau) ने वर्तमान में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या को अगर लॉकडाउन नहीं होता उससे तुलना करते हुए ग्राफ ट्वीट किया है.

 

 

india-देश के लाखों दुकानदारों को राहत आज से सभी दुकानों को खोलने की मिली छूट

स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि भारत में कोरोनो वायरस लॉकडाउन बहुत कारगर रहा है. वरना कोविड-19 से संक्रमितों की संख्या मौजूदा समय में दोगुनी पहुंच जाती. बताना चाहते है कि केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय की प्रेस कांफ्रेंस के दौरान नीति आयोग के सदस्य और अधिकार प्राप्त समूह 1 के अध्यक्ष डॉ. वीके पॉल ने कहा कि देश में लागू लॉकडाउन कोविड-19 को धीमा करने और जान बचाने में प्रभावी साबित हुआ है. क्योंकि भारत में फिलहाल 23,000 कोरोना के मामले हैं अगर ऐसा होता तो आज ये 73,000 तक पहुंच सकते थे ज्ञात हो कि देश में कोरोना वायरस की चपेट में आने से 723 लोगों की मौत हुई है. साथ ही कोविड-19 से संक्रमितों की संख्या 23452 तक पहुंच गई है. भारत में कोरोना के 17 हजार 915 एक्टिव मामले हैं. जबकि 4814 लोग इलाज के बाद ठीक हुए हैं और अस्पताल से अपने घर चले गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *