Take a fresh look at your lifestyle.
corona

ऐसा कौन सा सूचना तंत्र है कि जनता द्वारा चुनाव में मतदान करने के बाद तुरंत ही एक्ज़िट पोल तैयार हो जाता है?

मतलब साफ़ है कि चंद लोगों की राय को पूरे सूबे की राय बता कर टीआरपी का खेल खेला जा रहा है।

ऐसा कौन सा सूचना तंत्र है कि जनता द्वारा चुनाव में मतदान करने के बाद तुरंत ही एक्ज़िट पोल तैयार हो जाता है?

Exit Poll 2019

प्रकाशपुन्ज पाण्डेय, राजनीतिक विश्लेषक

Exit Poll Political analysisप्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने एक राजनीतिक विश्लेषण करते हुए कहा है कि कल यानी 21 अक्टूबर 2019 को महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के साथ ही भारत के विभिन्न प्रदेशों में बहुत सी सीटों पर उप-चुनाव भी सम्पन्न हुआ। लेकिन चुनाव खत्म होने के बाद महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के पूर्वानुमान (एक्ज़िट पोल) में पूरा मीडिया जोर शोर से जुट गया। हर चैनल पर केवल एक्ज़िट पोल ही दिखाया जा रहा था। दर्शकों की उत्सुकता बढ़ाने के लिए जल्दी जल्दी ब्रेक लिए जा रहे थे ताकि लोग टेलीविजन सेट छोड़कर कहीं न जा सकें। आपको क्या लगता है कि ऐसा कौन सा सूचना तंत्र है कि जनता द्वारा चुनाव में मतदान करने के बाद तुरंत ही एक्ज़िट पोल तैयार हो जाता है? (What do you think is the information system that the exit poll is ready immediately after the people vote in the election?)मतलब जो सर्वे कंपनियों के द्वारा पहले से ही रिपोर्ट तैयार कर ली जाती है। मतलब साफ़ है कि यह एक “ओपिनियन पोल है, न कि एक्ज़िट पोल।”(Is an opinion poll, not an exit poll.)

प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा कि भारत की कुल जनसंख्या 137 करोड़ से अधिक है जिसमें कुल 90 करोड़ योग्य मतदाता हैं। महाराष्ट्र में कुल जनसंख्या लगभग 12 करोड़ है जिसमें लगभग 8.9 करोड़ योग्य मतदाता हैं और हरियाणा में कुल जनसंख्या लगभग 2.85 करोड़ है जिसमें लगभग 1.75 करोड़ योग्य मतदाता हैं। ग़ौरतलब है कि महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव में किसी भी बूथ पर 100 % मतदान नहीं हुआ। मतलब साफ़ है कि चंद लोगों की राय को पूरे सूबे की राय बता कर टीआरपी का खेल (Trp games)खेला जा रहा है। अब बात करते हैं कि पिछले लोकसभा चुनाव में एक्ज़िट पोल के आंकड़े लगभग एग्जैक्ट पोल में कैसे तब्दील हो गए? तो मुझे लगता है कि यह पूरा खेल इलेक्शन मैनेजमेंट का है। अगर थोड़ा सा पीछे चलते हैं तो पिछले साल विधानसभा चुनाव में छत्तीसगढ़ के बारे में जो ओपिनियन और एक्ज़िट पोल थे उनमें भारतीय जनता पार्टी को दो तिहाई बहुमत मिलते दिख रहा था लेकिन हुआ इसके विपरीत।

प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा कि अगर ईवीएम की बात करें तो आए दिन मीडिया रिपोर्ट्स के माध्यम से पता चलता रहता है कि ईवीएम में कोई ना कोई टेंपरिंग मतलब छेड़छाड़ की गई है जिससे मतदाता कोई भी बटन दबाए तो वोट किसी एक पार्टी को ही जाता है। अगर इस बात में ज़रा सी भी सच्चाई है (जोकि चुनाव आयोग को संज्ञान में लेते हुए अपनी निष्पक्षता को स्पष्ट करना चाहिए) (Taking into consideration the Election Commission should clarify its fairness)तो फिर दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में चुनाव पद्धति पर ही सवालिया निशान(Question mark) खड़ा हो जाता है।

प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा कि अब बात करते हैं चुनावों में एक्ज़िट पोल के नतीजों में तब्दील होने पर। देखा जाए तो यह नतीजे ऐसे ही आने चाहिए क्योंकि भारतीय जनता पार्टी का इलेक्शन मैनेजमेंट इतना तगड़ा है कि उसके सामने बाकी पार्टियाँ पानी कम चाय लगती हैं। वहीं विपक्ष में जो बिखराव है वह भी इसका एक मूल कारण है। मेरे सर्वे के अनुसार देश और देश के लगभग सभी राज्यों में आम जनता मौजूदा भारतीय जनता पार्टी की सरकार से नाराज़ चल रही है लेकिन जनता के पास उपयुक्त पर्याय ना होने के कारण जनता एक्सपेरिमेंट नहीं करना चाहती है। मतलब किसी और को नहीं चुन रही है क्योंकि जनता देख रही है कि जब विपक्ष खुद ही प्रयासरत नहीं है, खुद ही बिखरा पड़ा है, खुद ही हताश है, तो जनता क्या कर सकती है। इसीलिए कहा गया है कि ईश्वर भी उसी की मदद करता है, जो अपनी मदद खुद करता है और वैसे भी भारत हो या विश्व का कोई भी देश, “एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए मजबूत विपक्ष का होना बेहद ही जरूरी है।” बाकी भारत में सब ठीक है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

faridabad-बच्चे की पुलिस पिटाई को लेकर नया मोड़,बेकसूर निकला पोलिस कर्मी      |     पुंडरी में कोरोना वायरस पोजिटिव केस होने की झूठी अफवाह वायरल करने वाले पर मामला दर्ज, किया गिरफ्तार     |     तलवानी गांव मे मानव युवा विकास क्लब के सदस्यो ने गाव मे किया सैनिटाइजर का छिड़काव।     |     कैथल बिग ब्रेकिंग – कैथल में कॉलोनियों को सैनिटाइजेशन करने में अपनाई जा रही है भेदभाव की नीति     |     अधिकारियो की अनावश्यक कार्यवाही को बन्द करके, मजदूरो को सारी सुविधाये उपलब्ध करवाई जाये – सन्दीप खेडा     |     गुहला-चीका की जनता जरूरत में इनसे करें सम्पर्क      |     बाबैन में सफाई कर्मीयों को वितिरित किए मास्क, गलब्ज व सैनिटाईजर, बीड सुजरा में ग्रामीणों ने लगाई गांव में आने-जाने वालो पर पाबंदी     |     कलायत   की जनता जरूरत में इनसे करें सम्पर्क      |     पुण्डरी   की जनता जरूरत में इनसे करें सम्पर्क      |     दुकानों पर भीड जुटाने वाले दुकानदारों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाही : साहब सिंह     |    

error: Don\'t Copy
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9802153000