Atal hind
उत्तर प्रदेश टॉप न्यूज़ राजनीति राष्ट्रीय

1952 के बाद पहली बार इन 18 गांवों में नहीं होगा प्रधानी का चुनाव,यूपी पंचायत चुनाव 2020

1952 के बाद पहली बार इन 18 गांवों में नहीं होगा प्रधानी का चुनाव,यूपी पंचायत चुनाव 2020

  लखीमपुर (अटल हिन्द ब्यूरो )
1952 से यह पहला मौका होगा जब 68 वर्षों बाद यूपीuttar pardesh) के लखीमपुर(lakhimpur) जिले के निघासन में ग्राम प्रधान का चुनाव नहीं होगा। निघासन और इसके अठारह मजरों के बाशिंदे इस बार त्रिस्तरीय पंचायत (panchayat)चुनाव में वोट नहीं डाल पाएंगे। सन 1952 में दयाशंकर पांडे की प्रधानी से शुरू हुई इस ग्राम पंचायत की आखिरी प्रधान गीतादेवी होंगी। इसकी वजह दिसंबर 2019 से निघासन को टाउन एरिया का दर्जा मिलना है। इसमें शामिल किए गए रकेहटी गांव और इसके सुक्खनपुरवा मजरे के लोग भी अपने यहां के प्रधानी चुनाव में वोट नहीं डाल सकेंगे। रकेहटी और सुक्खनपुरवा गांव भी निघासन नगर पंचायत में शामिल किए गए हैं।

गीतादेवी होंगी निघासन पंचायत की आखिरी ग्राम प्रधान
इस साल के आखिर में होने जा रहे पंचायत चुनावों में निघासन शामिल नहीं होगा। हालांकि अभी यहां नगर पंचायत कार्यालय नहीं बन पाया है और न ही अफसरों और स्टाफ की तैनाती हो सकी है लेकिन टाउन एरिया घोषित हो जाने के बाद यहां यह बदलाव जरूर आ गया है। सन 1952 में शुरू हुए पंचायती चुनावों में दयाशंकर पांडे इस ग्राम पंचायत के पहले ग्राम प्रधान बने थे। बुजुर्ग लोग बताते हैं कि तब चुनाव की बजाय हाथ उठाकर प्रधान चुन लिए जाते थे। दस दिसंबर 2015 को हुए चुनावों में गीतादेवी (geeta devi)ने पूर्व ग्राम प्रधान और अपनी प्रतिद्वंदी किशनावती को 509 वोटों से शिकस्त देकर सीट कब्जाई थी। तब शायद उनको भी यह गुमान नहीं रहा होगा कि उनका नाम यहां के इतिहास में आखिरी ग्राम प्रधान के रूप में दर्ज होने वाला है।

निघासन समेत ये गांव भी नहीं ले सकेंगे पंचायत चुनाव में हिस्सा
निघासन समेत यहां के अठारह मजरों के लोग भी ग्राम पंचायत चुनाव में अपना वोट नहीं डाल पाएंगे। इनमें मोहनलालपुरवा, राजारामपुरवा , हीरालालपुरवा, भजनपुरवा, छींटनपुरवा, बिहारीपुरवा, बस्तीपुरवा, बोझिया, हरनाम बोझिया, परागीपुरवा, सुर्जपुर, प्रीतमपुरवा, नकटहा, नकटहापुरवा, बुद्धीपुरवा, चौधरीपुरवा, टापरपुरवा और प्रेमनगर के बाशिंदे भी निघासन टाउन एरिया का हिस्सा बन जाने से ग्राम पंचायत चुनाव में अपने प्रधान और वार्ड मेंबरों को नहीं चुन पाएंगे। हालांकि रकेहटी ग्राम पंचायत में से खुद रकेहटी गांव और उसका सुक्खनपुरवा मजरा निघासन टाउन एरिया में शामिल कर लिया गया है लेकिन इस ग्राम पंचायत का नाम अभी भी रकेहटी ही चल रहा है। एसडीएम ओमप्रकाश गुप्ता बताते हैं कि अभी तो रकेहटी के नाम से ही ग्राम पंचायत चल रही है। अगर शासन का निर्देश होगा तो इसे कोेई और नाम दिया जा सकता है या फिर इसके मजरों को पड़ोस की ग्राम पंचायत में शामिल किया जा सकता है या रकेहटी नाम ही चलता रह सकता है।

दिसंबर में मुख्यमंत्री ने की थी टाउन एरिया की घोषणा
2015 तक हुए ग्राम पंचायत चुनावों में निघासन भी शामिल हुआ करता था। यहां के लोग लंबे अरसे से तहसील मुख्यालय और तमाम अन्य सरकारी दफ्तर तथा सुविधाएं होने के कारण इसको टाउन एरिया बनाने की मांग कर रहे थे। 2006 में पहली बार इसे नगर पंचायत बनाने की फाइल शासन को भेजी गई थी। तेरह साल तक लखनऊ से निघासन तक दर्जनों चक्कर काटने के बाद आखिरकार तीन दिसंबर 2019 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसे नगर पंचायत बनाना मंजूर कर लिया। पंद्रह वार्डों वाली इस टाउन एरिया में रकेहटी और इसके सुक्खनपुरवा गांव को भी शामिल किया गया है।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

क्यों ट्विटर पर मोदी रोज़गार दो ट्रेंड होकर भी ढेर हो गया ?

admin

हरियाणा में 30 हजार एकड़ पंचायती जमीन पर अवैध कब्जे

admin

हमें उजाले बाहर ही नहीं, भीतर भी करने होंगे

admin

Leave a Comment

URL