हरियाणा में धूल फांक गए बड़े-बड़े मंत्री, मुख्यमंत्री पद के दावेदार हो सकते हैं गुर्जर ?

(Big ministers in Haryana, can be a contender for the post of Chief Minister?)हरियाणा में धूल फांक गए बड़े-बड़े मंत्री, मुख्यमंत्री पद के दावेदार हो सकते हैं गुर्जर ?
चंडीगढ़ (अटल हिन्द ब्यूरो ) भाजपा के 75 पार के नारे को जोरदार झटका लगा है। भाजपा 40 से नीचे ही सिमटकर रह गई है। जबकि कांग्रेस ने जोरदार प्रदर्शन करते हुए अच्छी सीटें जीती हैं। भाजपा के अधिकांश दिगगज नेता व मंत्रियों को जनता ने धूल में मिला दिया है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला सहित हरियाणा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे कैप्टन अभिमन्यु, शिक्षामंत्री रामविलास शर्मा, ओमप्रकाश धनखड़, लोकल बॉडी मंत्री कविता जैन, मनीष ग्रोवर, कृष्ण बेदी, विधानसभा अध्यक्ष कंवरपाल गुर्जर तथा प्रेमलता सहित अनेक उम्मीदवार बुरी तरह से हारे हैं।(Many candidates including state president Subhash Barala, cabinet minister in Haryana government, including Captain Abhimanyu, education minister Ram Vilas Sharma, Omprakash Dhankar, local body minister Kavita Jain, Manish Grover, Krishna Bedi, assembly speaker Kanwarpal Gurjar and Premlata have been badly defeated.) बताया गया है कि इस हार के बाद भाजपा में गहरी निराशा है। 75 पार का नारा देने वाले भाजपा के अध्यक्ष बराला व मुख्यमंत्री मनोहर लाल का अति विश्वास भाजपा को ले बैठा। हालांकि समाचार लिखे जाने तक भाजपा का इरादा निर्दलीय विधायकों के साथ सरकार बनाने का है। वहीं पता चला है कि राज्य में शानदार प्रदर्शन करने वाली जेजेपी ने भी भाजपा का साथ देने का मन बनाया है। इससे भाजपा सरकार तो बना लेगी, मगर यह सरकार पूर्ण बहुमत वाली नहीं होगी।
भाजपा की 40 सीटों में फरीदाबाद जिले का बड़ा योगदान रहा है। फरीदाबाद ने भाजपा की झोली में तिगांव, ओल्ड फरीदाबाद, बडख़ल, बल्लभगढ़, पलवल, होडल व हथीन सीटों को डाला है। इससे भाजपा की प्रतिष्ठा काफी हद तक बची है। सूत्रों का कहना है कि हरियाणा में पीएम मोदी व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के अनेक जनसभाएं करने के बावजूद भाजपा अपने बूते सरकार बनाने में सफल नहीं हो पाई है। इससे भाजपा को करारा झटका लगा है। जिससे नाराज शाह ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला को कड़ी फटकार लगाए जाने की बातें सामने आ रही हैं। जिसके बाद बराला ने अपने पद से त्याग पत्र दे दिया। वहीं चर्चा है कि हरियाणा में मनोहर लाल की कुर्सी पर भी खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। देखते हैं कि राज्य में भाजपा किस पार्टी के सहयोग से अपनी सरकार बना पाती है। वहीं राज्य में चर्चा हैकि जिस प्रकार से फरीदाबाद ने भाजपा को बड़ी जीत दिलवाई है, उसे देखते हुए केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। फिलहाल इस चर्चा पर पूरे प्रदेश की नजरें लगी हुई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: