Take a fresh look at your lifestyle.
corona

हरियाणा की जनता की कमाई को यूँ लुटाती है सरकारें ,.जेल में बंद आरोपी ex विधायक को  हर माह 2.22 लाख रूपये पेंशन….. जमीनी हकीकत को दर्शाती पूरी रिपोर्ट जरूर पढ़ें

बस आम आदमी ही करे त्याग नेता तो बस भाषण पेलने के लिए हैं…….

(Governments spoil the earnings of the people of Haryana,. 2.22 lakhs pension every month to the accused MLA who is locked in the jail… .. Read the full report reflecting the ground reality)

जमीनी हकीकत को दर्शाती पूरी रिपोर्ट जरूर पढ़ें….
इंटरनेट की आभासी दुनिया में अपना अधिकतर समय बिताती अधिकांश युवा पीढ़ी सिर्फ और सिर्फ राजनीति का नाम आने पर मुंह सिकोड लेती है और वोटिंग तक के लिए समय नहीं निकालती लेकिन युवा पीढ़ी को जानना चाहिए कि शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार उनका अधिकार है। आम जनता की गाड़ी खून पसीने की कमाई को नेता अपनी सुख-सुविधाओं भत्तों पेंशन आदि में डकार कर ले जाते हैं और आम आदमी को पता नहीं चलता और नेताओं का पेट जब इस मात्र से भी नहीं भरता तो सामने आने लगते हैं बड़े-बड़े घोटाले…. एक बार विधायक बनने से जिंदगी आसानी से कट जाती है आंकड़े यही बयां करते हैं।
आरटीआई एक्टिविस्ट पीपी कपूर(PP KAPOOR) ने गत 8 अक्टूबर को पूर्व विधायकों की पेंशन (Legislators pension)की राशि जानने के लिए हरियाणा विधानसभा में आरटीआई लगाई थी, इस संबंध में विधानसभा सचिवालय के राज्य जन सूचना अधिकारी एवं सीनियर लॉ ऑफिसर शोभित शर्मा ने 30 अक्टूबर को पत्र द्वारा सूचनाएं भेजी, जिससे खुलासा हुअा कि हरियाणा के कुल 262 पूर्व विधायकों की मासिक पेंशन पर प्रति वर्ष 22.93 करोड़ रूपये खर्च किए जा रहे हैं। कपूर ने बताया कि पिछले 5 वर्षों में पूर्व विधायकों की मासिक पेंशन में दो सौ प्रतिशत से ज्यादा तक की वृद्धि की गई है। जहां पांच वर्ष पहले इनकी न्यूनतम मासिक पेंशन 20,250/- रूपये प्रति माह थी। वहीं अब यह न्यूनतम मासिक पेंशन 51,750/- रूपये हो चुकी है। कुल 161 पूर्व विधायकों को 51,750 रूपये मासिक पेंशन दी जा रही है। जबकि 39 पूर्व विधायकों को 90,543/- रूपये प्रति माह पेंशन मिल रही है।

वहीं जेल में बंद हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला को हर माह 2.22 लाख रूपये पेंशन बतौर पूर्व विधायक दी जा रही है।जेल बंद अजय चौटाला को 51,750/- रूपये पैंशन मिल रही है। पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल की विधवा जसमा देवी को डबल पैंशन मिल रही है। खुद पूर्व विधायक होने के नाते जसमा देवी को 51,750 रूपये प्रतिमाह तथा पूर्व मुख्यमंत्री की विधवा होने के नाते 99,619 रूपये प्रतिमाह पारिवारिक पैंशन मिल रही है। विश्व के सबसे अधिक धनी उद्योगपतियों की सूची में शामिल व जिन्दल ग्रुप की चेयरमैन सावित्री जिंदल को प्रतिमाह 90,563/- रूपये पैंशन मिल रही है। जबकि वह 642 अरब रूपए(8.8 अरब डॉलर) सम्पति की मालिक भी हैं।

इसके अलावा सर्वाधिक मासिक पेंशन 2.38 लाख रूपए रेवाड़ी के पूर्व विधायक कैप्टन अजय सिंह यादव ले रहे हैं। पेंशन धारकों में पूर्व विधायक चन्द्रावती 2,22525/-, प्रो सम्पत सिंह 2,14, 763/-, ऐलनाबाद के पूर्व विधायक भागीराम 1,91,475/-, शमशेर सिंह सुरजेवाला 1,75,950/-, अशोक अरोड़ा 1,60,425/-, हरमोहिन्द्र सिंह चट्ठा 1,60,425/-, चन्द्रमोहन बिश्नोई 1,52,663/-, धर्मवीर गाबा 1,52, 663/-, खुर्शीद अहमद 1,52,663/-, फूलचंद मुलाना 1,68,188/-, मांगेराम गुप्ता 1,68,188/-, शकुंतला भगवाडिय़ा 1,68,188/-, बलबीरपाल शाह 2,07,000/-, सतबीर कादियान 1,29,375/-, स्वामी अग्रिवेश 51,750/-, शारदा रानी 1,37,138/-, देवीदास सोनीपत 1,21,613/-, दिल्लू राम कैथल 1,13,850/-, कमला वर्मा 1,13,850/-, कंवल सिंह हिसार 1,21,613/-, निर्मल सिंह अंबाला 1,52,663/-, मोहम्मद इलयास 1,37,138/- रूपये प्रति माह शामिल हैं। कुल 262 पूर्व विधायकों को पेंशन दी जा रही है।

कपूर ने बताया कि पारिवारिक पेंशन योजना के तहत कुल दिवंगत 129 पूर्व विधायकों की पत्नियों पर कुल 3.15 करोड़ रूपए वार्षिक खर्च किया जा रहा है। पांच वर्षों में इस पारिवारिक पेंशन में दो सौ प्रतिशत वृद्धि की गई है। पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल की विधवा जसमा देवी 99,619/-, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र हुड्डा की माता हरदेवी विधवा रणवीर हुड्डा 23,288/-, पूर्व स्पीकर कुलदीप शर्मा की माता शारदा रानी विधवा प० चिरंजीलाल 34,931/-, प्रभात शोभा पंडित विधवा प्रभात शेर सिंह 51,750, पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल की पुत्रवधु किरण चौधरी विधवा सुरेन्द्र सिंह 12,937/- मासिक पैंशन ले रही है।

पांच वर्ष पूर्व विधायकों की विधवाओं की न्यूनतम मासिक पारिवारिक पेंशन 6750/- प्रति माह थी। इसे अब न्यूनतम 12,937/- किया जा चुका है। कपूर ने कहा कि इन विधायकों ने सभी सुख-सुविधाओं, मोटे वेतन, पैंशनें अपने लिए रख लिए। जबकि अपना सारा जीवन देश के विकास व निर्माण में खपा देने वाले मजदूरों, किसानों, आम नागरिकों को पेंशन के नाम पर झुनझुना पकड़ाया जाता है। एक ओर जहां आम नागरिकों से सिलेंडर की सब्सिडी ना लेने की सरकार अपील कर रही है वहीं ये पूर्व विधायक इतनी भारी भरकम पेंशन ले रहे हैं।

वहीं रोडवेज की बसों के लिए पैसे की कमी का बहाना बताकर रोडवेज का निजीकरण किया जा रहा है। लेकिन पूर्व विधायकों की पेंशन के लिए पैसे की कमी नहीं है। कपूर ने कहा कि साधन सम्पन्न पूर्व विधायकों को स्वेच्छा से इन भारी भरकम पेंशनों का परित्याग करके आदर्श प्रस्तुत करना चाहिए। इन पेंशनों को तत्काल बंद किया जाना चाहिए

Leave A Reply

Your email address will not be published.

जेजेपी पर कोरोना का प्रभाव  नहीं चल रहा सब कुछ ठीक, , पार्टी नेताओं में नहीं एकजुटता     |     एक दवा लेने और दूसरा जा रहा था पूजा करने,,,,और फिर ,,,,     |     हरियाणा  में 22 पॉजिटिव मिले  , 12521 लोग विदेश से लौटे हैं     |     हरियाणा ने पंजाब-दिल्ली-राजस्थान और यूपी की सीमाएं सील     |     hariyana-कोरोना लड़ाई में सेफ जोन में नजर आने लगा हरियाणा     |     कैथल जिला में कोरोना वायरस का कोई भी मामला नही-हरदीप दून     |     पलायन कर रहे मजदूरों को बाबैन के सरकारी स्कूल में रोके स्थानीय प्रशासन : एडीजीपी अलोक राय     |     संकट की घड़ी मे भूखे को भोजन खिलाना सबसे बड़ा पुण्य : अशोक सिंघल     |     कानून की अवहेलना करने वालों के खिलाफ की जाएगी कार्रवाही : रमेश चन्द     |     दौलत राम एंड संस रोजाना कर रहा भोजन की 800 पैकिंग     |    

error: Don\'t Copy
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9802153000