Take a fresh look at your lifestyle.
corona

मनोहर लाल खट्टर के अलावा अन्य सभी नेताओं के बदले  किरदार  साख दांव पर,दुष्यंत चौटाला के सामने बड़ी चुनौती

मनोहर लाल खट्टर के अलावा अन्य सभी नेताओं के बदले  किरदार  साख दांव पर

(In addition to Manohar Lal Khattar, the role of all other politicians at stake, Dushyant Chautala faces a big challenge)

=राजकुमार अग्रवाल=
kaithal । नई सरकार के गठन के साथ ही प्रदेश की सियासी शतरंज के किरदारों में बहुत बड़ा फेरबदल आ गया है विधानसभा सत्र के दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के अलावा अन्य सभी नेताओं के बदले हुए किरदारों की साख दांव पर लग गई है। सभी नेताओं को अपनी नई भूमिका के साथ न सिर्फ सदन के अंदर न्याय करना होगा बल्कि प्रदेश की जनता के बीच रहकर खुद को जन हितैषी नेता भी साबित करना होगा।

सरदार को साबित होना होगा असरदार

मुख्यममंत्री मनोहर लाल खट्टर(Manohar Lal Khattar,) को खुद को असरदार नेता के रूप में साबित करना होगा। मुख्यमंत्री की दूसरी पारी खेल रहे मनोहर लाल खट्टर के कंधों पर पार्टी हाईकमान ने दोबारा यह जिम्मेदारी डाली है कि वह जोरदार सरकार चलाते हुए भाजपा को 2024 के चुनाव में दोबारा से अपने बलबूते पर बहुमत की सरकार बनवाने का काम करें।बिना बहुमत की सरकार के साथ इस बार मनोहर लाल खट्टर को समझौतों के साथ सरकार चलानी होगी। उन्हें अब गठबंधन सहयोगी जेजेपी के मुखिया दुष्यंत चौटाला के साथ मिलकर बेहतरीन सरकार देनी होगी।सीमित विकल्पों के साथ मनोहर लाल खट्टर को खुद को एक दमदार और असरदार मुख्यमंत्री के रूप में साबित करने की बड़ी चुनौती मिली है।

बड़ी छाप छोड़ने की चुनौती

जननायक जनता पार्टी बनाने के 10 महीने के अंदर ही प्रदेश सरकार में सांझीदार बनकर उप मुख्यमंत्री बनने वाले दुष्यंत चौटाला(Dushyant Chautala) के सामने खुद की बड़ी छाप छोड़ने की बड़ी चुनौती है।प्रदेश के युवाओं का बड़ी संख्या में समर्थन हासिल करने वाले दुष्यंत चौटाला ने समर्थकों के अलावा जनता में भी बेहतर के बेहतरीन नेता बनने की उम्मीद जगाई है।उनके कंधों पर यह जिम्मेदारी है कि वे बेहतरीन तरीके से काम करते हुए न सिर्फ सरकार के सुत्रधार के रूप में काम करें बल्कि उसके साथ साथ अपनी पार्टी को सीमित दायरे के बाहर निकाल कर पूरे प्रदेश में मजबूती से खड़ी करें।सरकार में निर्णायक भूमिका निभाते हुए उनको गठबंधन सहयोगी के रूप में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलना होगा बल्कि साथ-साथ खुद की भी सक्षम नेता के रूप में छवि बनानी पड़ेगी।दुष्यंत चौटाला को न सिर्फ सरकार के संकटमोचक के रूप में कार्य करना होगा बल्कि उसके साथ मिले विभागों में जोरदार परफॉर्मर्स देते हुए जेजेपी को कांग्रेस और भाजपा के बराबर की सियासी ताकत बनाना होगा।उन्होंने बेहद प्रतिभाशाली सांसद के रूप में पूरे देश का ध्यान आकर्षित किया था अब उन्हें उप मुख्यमंत्री के रूप में खुद को एक काबिल नेता के रूप में साबित करना होगा।

इमानदारी से निभानी होगी जिम्मेदारी

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा (Former Chief Minister Bhupendra Hooda)ने पिछले 5 साल के दौरान कांग्रेस पार्टी के प्रति अपनी जवाबदेही को इमानदारी से नहीं निभाया था। उन्होंने कई मौकों पर विपक्षी नेता के बजाय भाजपा के सहयोगी के रूप में कार्य करके दिखाया था। कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी को भी उन्होंने कोई सहयोग नहीं दिया था। कांग्रेस को 31 विधायक भूपेंद्र हुड्डा के कारण नहीं मिले हैं बल्कि भाजपा के प्रति नकारात्मक वोटिंग के कारण मिले हैं।अशोक तंवर के साथ 36 के आंकड़े के चलते भूपेंद्र हुड्डा ने कांग्रेसी की मजबूती के लिए कोई भी कदम नहीं उठाए थे। अब नेता प्रतिपक्ष के रूप में उन्हें न केवल सरकार के गलत फैसलों पर सवाल उठाने होंगे बल्कि इसके साथ-साथ फील्ड में भी कांग्रेस की मजबूती के लिए काम करना होगा।भूपेंद्र हुड्डा को अपनी गलतियों से सबक लेते हुए साथी वरिष्ठ नेताओं को ठिकाने लगाने की वजह उनका सहयोग लेकर सियासत करनी होगी।भूपेंद्र हुड्डा को नेता प्रतिपक्ष रूप के रूप में अपनी जवाबदेही को जवाबदेही को ईमानदारी से निभाना होगा। बात यह है कि मनोहर लाल खट्टर की अगुवाई में भाजपा ने जेजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाकर बड़ी चुनौती को स्वीकार किया है। भाजपा ने जेजीपी के साथ गठबंधन करके टिकाऊ सरकार हासिल कर ली है।अब दोनों ही पार्टियों को जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने वाली सरकार देनी होगी।मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के अनुभव और उपमुख्यमंत्री चौटाला को अपनी प्रतिभा का भरपूर इस्तेमाल करते हुए प्रदेश को विकास के मार्ग पर सरपट दौड़ाने वाली सरकार देनी होगी।दोनों ही नेताओं के कंधों पर जहां सरकार की कामयाबी का पूरा दारोमदार टिका है वहीं दूसरी तरफ दोनों को अपनी पार्टियों को मजबूत भी करना होगा।कांग्रेस के तीखे वारों से बचने के लिए दोनों ही नेताओं को एक समान कदमताल मिलाकर चलते हुए असरदार सरकार चलानी होगी।पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा को विपक्ष के नेता के रूप में अपनी भूमिका को पूरी जिम्मेदारी से निभाना होगा। पिछले 5 साल के दौरान भूपेंद्र हुड्डा कई अवसरों पर अपने ही पार्टी के खिलाफ काम करते हुए नजर आए थे। उस समय अशोक तंवर के साथ पंगा होने के चलते भूपेंद्र हुड्डा ने पार्टी की मजबूती के लिए कोई काम नहीं किया था।इस बार कुमारी शैलजा के साथ मिलकर उन्हें कांग्रेस को भाजपा और जेजेपी के पहले विकल्प के रूप में खड़ा करना होगा।इनेलो को खात्मे की कगार पर लाने वाले अभय चौटाला को भी ऐलनाबाद की जनता ने सुधर जाने का अंतिम अवसर दिया है। इनेलो की सियासत को जिंदा रखने के लिए अभय चौटाला को अपनी बचकाने बयानों से दूर हटकर गंभीरता की सियासत करनी होगी और खुद की नाकामियों को परे रखते हुए सकारात्मक सियासत करनी होगी।सभी बड़े नेताओं के बदले हुए किरदारों के बीच में नई सरकार का स्वरूप अलग नजर आ रहा है। मनोहर लाल खट्टर और दुष्यंत चौटाला की जोड़ी जहां जोरदार दमखम दिखाते हुए अपनी कामयाबी की छाप छोड़ने का भरपूर प्रयास करेंगे वहीं दूसरी तरफ विपक्ष के नेता सरकार को घेरने के अवसर नहीं छोड़ेंगे।अब देखना यह है कि प्रदेश की सियासी शतरंज पर बदली हुई भूमिका में कौन-कौन किरदार सही चाल चलते हुए खुद को बचाने में सफल होते हैं और कौन-कौन से नेता शिकस्त के शिकार होते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

बिग ब्रेकिंग : छत्तीसगढ़ एस्मा हुआ लागू….इमरजेंसी ड्यूटी से कोई इनकार नहीं कर सकेगा     |     हजारों लोगों का भूखे पेट पैदल मार्च, एक लाख सत्तर हजार करोड़ में क्या इनका हिस्सा नहीं?     |     हरियाणा पुलिस ने “डीएसपी के रीडर“ को मोर बनाया     |     Coronavirus :india राज्यवार मरीजों की संख्या, अब तक आंकड़ा 850 से पार     |     अमेरिका में  1,00,000 से ज्यादा संक्रमित, 1500 से अधिक लोगों की मौत     |     दिल्ली से यूपी के लिए 200 बसों का इंतजाम     |     पानीपत ब्रेकिंग*पत्नी, पुत्री और पुत्र की गोली मारकर हत्या, फिर की खुदकुशी     |     e paper     |     हरियाणा  एक दिन में 800 कोरोनावायरस संदिग्ध मिले, 11671 पहुंचे आइसोलेशन में     |     बड़ी लापरवाही: 15 लाख लोग विदेशों से आए सबकी नहीं हुई जांच     |    

error: Don\'t Copy
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9802153000