Take a fresh look at your lifestyle.

कैथल में तीसरी बार फिर औंधे मुंह गिरा जिला परिषद का विपक्ष,सुखविंदर कौर आंधली की सरदारी बरकरार

कैथल जिला परिषद चेयरपर्सन सुखविंदर कौर आंधली की सरदारी बरकरार
अविश्वास लाने में असफल रहे बागी पार्षद, तीसरी बार फिर औंधे मुंह गिरा विपक्ष
कैथल, 09 दिसम्बर (कृष्ण प्रजापति): जिला परिषद के लगभग 14 पार्षदों ने जिला परिषद चेयरपर्सन सुखविंदर कौर आंधली और वाइस चेयरमैन मुनीष कठवाड़ के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के मंसूबे उस समय धरे के धरे रह गए जब बैठक में अधिकारियों के बार-बार बुलाने के बाद भी कोई भी पार्षद अविश्वास प्रस्ताव लेकर बैठक में नहीं पहुंचा और चेयरपर्सन सुखविंदर कौर आंधली की चेयरमैनी बरकरार रही। यह कोई पहला वाक्य नहीं बल्कि तीसरा वाक्य है, जब जिला परिषद की चेयरपर्सन और वाइस चेयरमैन के खिलाफ अविश्वास लाने के लिए विरोधी खेमे के पार्षद जिला प्रशासन से तारीख ले चुके थे। इससे पहले भी दो बार यही जिला पार्षद अविश्वास लाने के लिए बैठकें आयोजित कर चुके हैं और जिला परिषद चेयरपर्सन व वाइस चेयरमैन के लिए यह पांचवी परीक्षा थी क्योंकि सबसे पहली परीक्षा जिला पार्षद बनने के समय दी गई थी, उसके बाद चेयरपर्सन और वाइस चेयरमैन की कुर्सी के लिए भी दौड़-धूप की गई और तीन बार अविश्वास प्रस्ताव को कामयाब न होने की सूरत में यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि जिसके माथे पर ताज परमात्मा द्वारा लिखा होता है, उसको कोई भी इंसानी ताकत धराशाई नहीं कर सकती। सुखविंदर कौर आंधली ने कहा कि वह तो शुरु से ही यह बात कहती रही है और आज भी कह रही हैं कि उनके किसी भी जिला पार्षद द्वारा हमारे खिलाफ अविश्वास लाने की योजना बनी ही नहीं क्योंकि तीन बार में एक बार भी कोई भी पार्षद अविश्वास लाने के लिए बैठक में नहीं पहुंचा और हमेशा की तरह जिला परिषद का परिवार एक था, एक है और एक ही रहेगा। उन्होंने कहा कि सरकार के नारे ‘सबका साथ सबका विकास’ के तहत कार्य किया है, यदि ऐसा कार्य न किया होता तो आज परिवार बिखर जाता। जिला परिषद के चेयरमैन प्रतिनिधि हरदीप आंधली ने कहा कि एक कहावत के अनुसार दिमाग तो बीरबल में भी बहुत था लेकिन राजा अकबर बना था, बेशक विरोधी ताकत किसी की कुर्सी गिराने में कितनी ताकत लगा दे लेकिन उससे ज्यादा मजबूती कुर्सी पर बैठा हुआ व्यक्ति लगाता है क्योंकि उसे परमात्मा पर विश्वास होता है और उस परमात्मा के विश्वास पर चलते हुए वह व्यक्ति कभी असफल ही नहीं होता और सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ता है। जिला पार्षद रवि तारावाली ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल, प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला, प्रदेश महामंत्री अधिवक्ता वेदपाल, राज्यमंत्री कमलेश ढांडा, जिला जिलाध्यक्ष अशोक गुर्जर, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार कृष्ण बेदी की इस पूरे प्रकरण में अहम भूमिका रही और विरोधी ताकत धराशाई हुई। वाइस चेयरमैन मनीष कठवाड़ ने कहा कि हम जनता द्वारा चुने हुए नुमाइंदे हैं यदि कोई विरोधी ताकतें किसी भी प्रकार की ओछी मानसिकता का परिचय देकर इस प्रकार की हरकत करता है तो जनता उन्हें सबक सिखाने का काम भी कर सकती है। उन्होंने कहा कि वे विरोधियों के खिलाफ कोई बड़ी बात नहीं कहेंगे लेकिन इतना जरूर है कि जिसके भाग्य में कुर्सी लिखी जाती है उसको कोई छीन नहीं सकता। पार्षदों के अविश्वास प्रस्ताव लाने में असफल रहने पर जिला परिषद चेयरपर्सन सुखविंदर कौर आंधली व वाइस चेयरमैन मनीष कठवाड़ की सरदारी ज्यों की त्यों बरकरार है। उधर जिला प्रशासन द्वारा आज मामले की नजाकत को भांपते हुए जिला परिषद कार्यालय के बाहर भारी पुलिस बल तैनात किया गया था लेकिन अविश्वास प्रस्ताव बैठक शांतिपूर्ण रही।
बॉक्स– आपको बता दें कि गत 18 नवंबर को लगभग 14 पार्षदों ने डीसी के नाम एक ज्ञापन एडीसी को सौंपा था जिसमें सभी 14 पार्षदों के हस्ताक्षरयुक्त ज्ञापन व हल्फ़िया बयान थे जिसमें वार्ड नंबर 1 से सुदेश करोड़ा, वार्ड 2 से अंजू जागलान, वार्ड 3 से संदीप कोटड़ा, वार्ड 4 से पतासो देवी मटौर, वार्ड 5 से सुमन कुराड़, वार्ड 6 से शकुंतला वजीरखेड़ा, वार्ड 7 से सुदेश बबली, वार्ड 8 से मुसिया, वार्ड 10 से रेणु बाला, वार्ड 12 से भाग सिंह खनौदा, वार्ड 13 से सुरजीत पबनावा, वार्ड 14 से नीलम सिरसल और वार्ड नंबर 20 से कमलेश बलबेहड़ा शामिल थे, जिनमें से अधिकतर पार्षद भाजपा समर्थित थे।
बॉक्स– 2 पार्षदों की दगाबाजी के कारण गिरा अविश्वास प्रस्ताव : जागलान 
वार्ड नंबर 2 से जिला पार्षद अंजू जागलान व वार्ड 12 से पार्षद भाग सिंह खनौदा ने कहा कि 13 पार्षदों का बहुमत अभी उनके साथ है तथा 2 पार्षदों द्वारा ऐन मौके पर दगाबाजी करने के कारण अविश्वास पेश नहीं हो पाया। उन्होंने कहा कि अगर विकास कार्यों की ग्रांट में मनमर्जी चलाई तो वे डटकर विरोध करेंगे अपने हिसाब से सदन में विकास कार्यों को लेकर बराबर की ग्रांट मुहैया करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि जिन पार्षदों ने एडीसी को अविश्वास प्रस्ताव पत्र लाने का हलफनामा सौंपा था उनमें से सुदेश और एक अन्य पार्षद को छोड़कर सभी पार्षद आज भी एकजुट हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

e paper 26-01-2020     |     एन एस एस शिविर में मनाया गया राष्ट्रीय मतदाता दिवस     |     नेहरू युवा केन्द्र के बैनर तले किया गया मतदाता रैली का आयोजन     |     दिल्ली: भजनपुरा में कोचिंग सेंटर की इमारत गिरी, पांच छात्रों की मौत     |     भ्रम फैलाकर 2015 का विधानसभा चुनाव जीते केजरीवाल, : अमित शाह     |     मतदाता दिवस पर रैली एवं संगोष्ठी का किया गया आयोजन     |     मतदाता दिवस पर किया गया रैली एवं संगोष्ठी का आयोजन     |     हरियाणा में गौशालाएं और नंदी शालाएं घोर अवस्था की शिकार हैं?     |     शैमरॉक स्कूल के प्रांगण में सिमटा नजर आया लघु भारत, 28 राज्यों की वेशभूषा में नजर आए विद्यार्थी     |     22 साल के लड़के और 60 साल की महिला के बीच हुआ प्यार,शादी करने पर अड़े     |    

error: Don\'t Copy
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9802153000