Take a fresh look at your lifestyle.

कलायत में भगवान कपिल मुनि धाम सरोवर की विभिन्न स्थानों से परिक्रमा धंसी

कलायत में भगवान कपिल मुनि धाम सरोवर की विभिन्न स्थानों से परिक्रमा धंसी
ऐतिहासिक धरोहर पर मंडराने लगे खतरे के बादल
अटल हिंद/ तरसेम सिंह
कलायत में सांख्य दर्शन प्रवर्तक भगवान कपिल मुनि धाम सरोवर परिक्रमा के अचानक विभिन्न स्थानों से धंस गई है। इस स्थिति से विश्व की  ऐतिहासिक धरोहरों में शामिल स्थल के स्वरूप पर खतरे के गहरे बादल मंडराने लगे हैं। जिस प्रकार परिक्रमा व इसके साथ लगती सुरक्षा दीवारें बुरी तरह से दरकी है उसकी यदि कुरुक्षेत्र बोर्ड ने जल्द सुध नहीं ली तो हालात ज्यादा बिगड़ सकते हैं। बड़ी तादाद में हर रोज पर्यटक और श्रद्धालु धाम का रुख करते हैं। धाम परिसर में भगवान श्री कपिल मुनि, पंच रथ शैली से निर्मित शिव मंदिर,मां कात्यायनी दुर्लभ मंदिर, श्री राम दरबार, महाकाली और दूसरे देवी-देवताओं के प्रसिद्ध मंदिर हैं। इसके साथ ही वर्ष 2005 से सरोवर में सरस्वती की जलधारा फूटने का भी सिलसिला जारी है। इस महत्वपूर्ण विषय को लेकर राष्ट्रीय सरस्वती अनुसंधान केंद्र, भू-वैज्ञानिक और अन्य विषयों के नामी वैज्ञानिक कलायत श्री कपिल मुनि धाम की महत्ता पर नजर रखें हैं। सरस्वती अनुसंधान केंद्र के वैज्ञानिकों ने करीब नौ वर्ष पहले यह स्पष्ट किया था कि सरोवर से जो धारा फूट रही है वह सरस्वती की है। सुनहरी कणों के साथ बह रहे पानी को उन्होंने तथ्यगत साक्ष्य माना था। वे यह दावा करते आए हैं कि यदि सरस्वती की तलाश पूरी करते हुए इसे विकसित किया जाता है तो हरियाणा में पानी के एक बड़े संकट से निपटने की राह आसान हो सकती है। सांख्य दर्शन प्रवर्तक भगवान कपिल मुनि मंदिर सरोवर तट पर स्थित पंचरथ शैली से निर्मित शिव मंदिर का निर्माण सातवीं शताब्दी में हुआ। उत्तर भारत का अजूबा कहे जाने वाला प्राचीन शिवालय बगैर चूना और मिट्टी के तैयार किया गया है। प्राचीन काल के शिल्पकारों ने हुनर से ईंटों को तराशते हुए मंदिर का मजबूती से निर्माण किया। शिवालय निर्माण में प्रचूर मात्रा में फूलपत्तियों व अन्य नमूनों का अलंकरण है।
श्राप से मुक्ति पाने से प्रसन्न राजा ने करवाया था शिवालय निर्माण :
श्री कपिल मुनि धाम मुख्य पुजारी वेद प्रकाश गौतम और कृष्ण गौतम ने बताया कि कलायत में राजा शालीवान द्वारा सातवीं-आठवीं शताब्दी में शिव मंदिर का निर्माण करवाया गया था। बताया जाता है कि विशेष श्राप से श्री कपिल मुनि सरोवर में मुक्ति पाने से प्रसन्न राजा ने शिवालय निर्माण का कार्य किया था। भारत में इसे विशेष धरोहर के रूप में जाना जाता है।
15केएलटी 02 कपिल मुनि धाम परिक्रमा मार्ग की दरकी दिवार

Leave A Reply

Your email address will not be published.

एन एस एस शिविर में किया गया श्रमदान एवं विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण     |     हरियाणा के दो नेताओ की लड़ाई ,कुंडू से टकराना भारी पड़ेगा ग्रोवर को     |     तोशाम-नौवीं कक्षा के छात्र से दुष्कर्म करने का मामला     |     hariyana-क्या फायदा ऐसे कानून और आयुक्तों का जो जनता ने मांगी फैलसा देने में फ़िसड्डी है     |     e paper 27-01-2020     |     Chandigarh: मां की निर्ममता, ढाई साल के मासूम बच्चे को बेड के बॉक्स में किया बंद, हुई मौत     |     अब भोंक कर दिखाओ कुतो ,सीएम आने तक ,कुत्तों को पांव व मुंह बांध कर गड्ढे में डाला     |     e paper 26-01-2020     |     एन एस एस शिविर में मनाया गया राष्ट्रीय मतदाता दिवस     |     नेहरू युवा केन्द्र के बैनर तले किया गया मतदाता रैली का आयोजन     |    

error: Don\'t Copy
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9802153000