Take a fresh look at your lifestyle.

 अशोक गहलोत का बयान बहुत ही डरावना,कानून रद्द नहीं किया तो रूस और पाकिस्तान की तरह भारत के टुकड़े हो जाएंगे।

-राजकुमार अग्रवाल –
अशोक गहलोत का बयान बहुत ही डरावना,कानून रद्द नहीं किया तो रूस और पाकिस्तान की तरह भारत के टुकड़े हो जाएंगे।

भारत के हालातों से जुड़ी दो घटनाएं एक साथ हुई। दोनों ही घटनाएं डरावनी हैं। पहली घटना पाकिस्तान के लाहौर के करीब ननकाना साहब स्थित गुरुद्वारे पर मुस्लिम कट्टरपंथियों द्वारा पत्थरबाजी और सिक्ख श्रद्धालुओं को धमकी दी है। कट्टरपंथियों ने ननकाना साहिब गुरुद्वारे में भजन कीर्तन करने का विरोध किया। जो श्रद्धालु गुरुद्वारे में अरदास के लिए आए थे उन पर पत्थर बरसाए गए। कट्टरपंथियों ने यह भी मांग की कि ननकाना साहिब की जगह इस स्थान का नाम गुलाम अली मुस्तफा रखा जाए। मुस्लिम कट्टरपंथियों की धमकी के बाद सिक्खों में दशहत का माहौल है। यह पहली घटना नहीं है, जब पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों और उनके धार्मिक स्थलों को निशाना बनाया गया है। पाकिस्तान में अक्सर ऐसी वारदातें होती हैं। यही वजह है कि धर्म के आधार पर प्रताडि़त सिक्ख भारत में आ जाते है। केन्द्र सरकार ने ऐसे सिक्खों और अन्य अल्पसंख्यकों को ही भारत में नागरिकता देने का कानून बनाया है। तीन जनवरी की ननकाना साहिब की घटना दर्शाती है कि पाकिस्तान में धर्म के आधार पर अल्पसंख्यकों को परेशान किया जा रहा है। ननकाना साहिब में जब सिक्ख समुदाय के लोगों को पत्थरों से मारा जाएगा और उन्हें गुरुद्वारे में भजन कीर्तन भी नहीं करने दिए जाएंगे तो ऐसे सिक्ख कहां शरण लेंगे? ऐसे प्रताडि़त सिक्खों का पहला अधिकार अपने देश भारत पर ही होगा। यदि भारत में नागरिकता नहीं दी जाएगी तो क्या उन्हें मरने के लिए पाकिस्तान में छोड़ दिया जाए? इस सवाल का जवाब उन लोगों को देना चाहिए जो इन दिनों भारत में सीएए का विरोध कर रहे हैं। पूर्व में इसी तरह धर्म के आधार पर प्रताडि़त होकर आए लाखों पाकिस्तानी भारत में शरणार्थी बन कर रह रहे हैं। संशोधित कानून से ऐसे शरणार्थियों को ही नागरिकता मिलनी है ताकि वे अपने देश में सम्मान के साथ रह सकें। ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हमले को लेकर देश भर के सिक्ख समुदाय में  रोष व्याप्त है। 4 जनवरी को दिल्ली स्थित पाकिस्तानी दूतावास  के बाहर सिक्ख समुदाय के लोगों ने प्रदर्शन किया। सिक्ख समुदाय केन्द्र सरकार से दखल की मांग कर रहा है। आरोप लगाया गया है कि गुरुद्वारे के ग्रंथी की लड़की को अगवा कर जबरन धर्म परिवर्तन करवाया गया है। पंजाब के मुख्यमंत्री केप्टन अमरंदर सिंह ने भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मामले में दखल देने का आग्रह किया है।
कांग्रेस के मुख्यमंत्री का डरावना बयान:
एक ओर पाकिस्तान में 3 जनवरी को ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर पत्थरबाजी हुई तो वहीं इसी दिन राजस्थान की कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि यदि नागरिकता कानून रद्द नहीं किया गया तो पाकिस्तान, रूस की तरह भारत के टुकड़े हो जाएंगे। गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री ही नहीं बल्कि इस देश में 55 वर्षों तक शासन करने वाली कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ और जिम्मेदार नेता भी हैं। यदि गहलोत जैसे राजनेता देश के टुकड़े होने वाले बयान देंगे तो देश के हालातों का अंदाजा लगाया जा सकता है। सवाल उठता है कि आजादी के 70 वर्षों में क्या फिर देश के ऐसे हालात हो गए हैं जिससे भारत का विभाजन हो सकता है? 1947 में भी धर्म के आधार पर भारत का विभाजन कर पाकिस्तान बनाया गया। गहलोत को बताना चाहिए कि सीएए से देश में किस समुदाय की नागरिकता छीनी जा रही है, जिसकी वजह से देश के टुकड़े हो जाएंगे? सीएए से तो पाकिस्तान से धर्म के आधार पर प्रताडि़त अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता मिलेगी। क्या प्रताडि़त हिन्दुओं, सिक्खों, जैन, ईसाई, बौद्ध व पारसी को नागरिकता देने से रूस की तरह भारत के टुकड़े हो जाएंगे? यह माना कि गहलोत इन दिनों राजनीतिक संकट के दौर से गुजर रहे हैं। 3 जनवरी को भी केन्द्रीय गृहमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमितशाह की गहलोत के गृह जिले जोधपुर में सीएए के समर्थन में बड़ी सभा थी। शाह को जवाब देने के लिए गहलोत स्वयं भी तीन जनवरी को जोधपुर में ही रहे। गहलोत राजनीतिक दृष्टि से भाजपा और अमित शाह को जवाब दें, इस पर किसी को भी एतराज नहीं होगा, लेकिन यदि गहलोत देश के टुकड़े होने की बात कहेंगे तो फिर सवाल उठेंगे। गहलोत बताएं कि वे कौन से तत्व है जो सीएए के विरोध में देश के टुकड़े करवा देंगे? गहलोत के ताजा बयान को किसी भी दृष्टि से देश हित में नहीं माना जा सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

एन एस एस शिविर में किया गया श्रमदान एवं विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण     |     हरियाणा के दो नेताओ की लड़ाई ,कुंडू से टकराना भारी पड़ेगा ग्रोवर को     |     तोशाम-नौवीं कक्षा के छात्र से दुष्कर्म करने का मामला     |     hariyana-क्या फायदा ऐसे कानून और आयुक्तों का जो जनता ने मांगी फैलसा देने में फ़िसड्डी है     |     e paper 27-01-2020     |     Chandigarh: मां की निर्ममता, ढाई साल के मासूम बच्चे को बेड के बॉक्स में किया बंद, हुई मौत     |     अब भोंक कर दिखाओ कुतो ,सीएम आने तक ,कुत्तों को पांव व मुंह बांध कर गड्ढे में डाला     |     e paper 26-01-2020     |     एन एस एस शिविर में मनाया गया राष्ट्रीय मतदाता दिवस     |     नेहरू युवा केन्द्र के बैनर तले किया गया मतदाता रैली का आयोजन     |    

error: Don\'t Copy
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9802153000