Take a fresh look at your lifestyle.

शौर्य, साहस एवं त्याग के प्रतीक थे गुरु गोबिंद सिंह

शौर्य, साहस एवं त्याग के प्रतीक थे गुरु गोबिंद सिंह

झज्जर :  झज्जर जिलामुख्यालय के अंतिम छौर पर बसे वीरों की देवभूमि कहे जाने वाले गांव धारौली  की सामाजिक संस्था मां-मातृभूमि सेवा समिति द्वारा त्याग, वीरता, शौर्य और धैर्य की प्रतिमूर्ति और मिसाल, सिखों के दसवें, खालसा पंथ के संस्थापक गुरु गोविंद सिंह जी की 353वीं जयंती के उपलक्ष्य पर कोसली (रेवाड़ी) के सरकारी स्कूल के सामने श्री कृष्णा कोचिंग सेंटर में छठा नेत्रदान जागरूकता शिविर कार्यक्रम का आयोजन किया गया ।

 

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बाबा श्री शिवपुरी जी महाराज, 19वें मठाधीश, बाबा मुक्तेश्वरपुरी मठ, कोसली, रेवाड़ी ने गुरु गोबिंद सिंह जी की प्रतिमा पर दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया । बाबा शिवपुरी जी महाराज ने कहा कि गुरु गोविंद सिंह जी ने अन्याय व अधर्म के विरुद्ध लड़ते-लड़ते अपना सर्वस्व अर्पण कर दिया, ‘अधर्म के सामने उन्होंने कभी हार नहीं मानी। धर्म की रक्षा के लिए उन्होंने अपने चार पुत्रों और स्वयं के प्राणों का बलिदान दिया था। बाबा शिवपुरी जी महाराज ने कहा कि नेत्रदान के जरिए हम दूसरों की जिंदगी में छाए अंधेरे को दूर कर सकते हैं और उनकी बेरंग दुनिया में खुशियां लौटा सकते हैं।

 

कार्यक्रम में सुप्रसिद्ध कवयित्री डा. लाज कौशल, असिस्टेंट प्रोफेसर, राजकीय महाविद्यालय, कोसली विशेष अतिथि  के रूप में शिरकत की जबकि मन्नू जांगड़ा,संचालक, श्री कृष्णा कोचिंग सेंटर, कोसली ने अध्यक्षता  की । डा. लाज कौशल, असिस्टेंट प्रोफेसर, राजकीय महाविद्यालय, कोसली और  मन्नू जांगड़ा, संचालक, श्री कृष्णा कोचिंग सेंटर, कोसली ने संयुक्त रूप से कहा कि हम सभी को नेत्रदान करने का भी संकल्प लेना चाहिए, ताकि किसी नेत्रहीन व्यक्ति का जीवन रोशनी से भर जाए।

 

नेत्रहीनो को मिले रोशनी, इसलिए समाज सेवी राहुल राव कोसली, अनिल कुमार कोसली, मोहित शर्मा  भाकली, मोहित कुमार भैरमपुर, नितिन यादव कोसली, शिवम जिनागल भाकली, राज्य शिक्षक पुरस्कार विजेता मास्टर भूदत्त शर्मा कोसली, रणबीर सिंह धनिया गांव, संदीप यादव कोसली, सविंदर सिंह कोसली, मोहित राव कोसली, छत्रपाल (मन्नू जांगड़ा) कोसली, नरेंदर कोसली, अश्वनी कुमार भाकली, सौरभ यादव कोसली,  अजय  यादव कोसली, सुधीर यादव भाकली, मास्टर प्रवीण कुमार कोसली, नीरज कोसली , भूपिंदर कोसली, दक्ष कोसली, यश कोसली, चिराग कोसली आदि तेईस युवाओं ने मरणोपरांत नेत्रदान का संकल्प लिया ।

 

डा. लाज कौशल कोसली, कविता यादव कोसली, ज्योति यादव कोसली,  नमिता  जांगड़ा भिवानी, नीलम कोसली, कमलेश कोसली और मोनिका यादव कोसली आदि सात महिलाओं (नारी शक्ति)  ने भी मरणोपरांत नेत्रदान का संकल्प लिया ।

 

15 बार रक्तदान कर चुके युद्धवीर सिंह लांबा, अध्यक्ष “मां-मातृभूमि सेवा समिति” वीरों की देवभूमि धारौली ने उपस्थित सभी अतिथियों एवं मरणोपरांत नेत्रदान का संकल्प लेने वालों सभी का हार्दिक धन्यवाद किया । युद्धवीर सिंह लांबा ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को जीते जी रक्तदान और मरणोपरांत आंखें दान करने का संकल्प लेना चाहिए।

 

नेत्रदान जागरूकता शिविर कार्यक्रम के अंत में  युवा साहित्यकार श्री नवल पाल प्रभाकर साल्हावास की दो किताबें,  सिर्फ तुम (काव्य संग्रह) और सात पेंडिंग केस (कहानी संग्रह) का विमोचन किया गया ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

e paper 26-01-2020     |     एन एस एस शिविर में मनाया गया राष्ट्रीय मतदाता दिवस     |     नेहरू युवा केन्द्र के बैनर तले किया गया मतदाता रैली का आयोजन     |     दिल्ली: भजनपुरा में कोचिंग सेंटर की इमारत गिरी, पांच छात्रों की मौत     |     भ्रम फैलाकर 2015 का विधानसभा चुनाव जीते केजरीवाल, : अमित शाह     |     मतदाता दिवस पर रैली एवं संगोष्ठी का किया गया आयोजन     |     मतदाता दिवस पर किया गया रैली एवं संगोष्ठी का आयोजन     |     हरियाणा में गौशालाएं और नंदी शालाएं घोर अवस्था की शिकार हैं?     |     शैमरॉक स्कूल के प्रांगण में सिमटा नजर आया लघु भारत, 28 राज्यों की वेशभूषा में नजर आए विद्यार्थी     |     22 साल के लड़के और 60 साल की महिला के बीच हुआ प्यार,शादी करने पर अड़े     |    

error: Don\'t Copy
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9802153000