Take a fresh look at your lifestyle.
corona

दुष्यंत को भाजपा ने दिया तगड़ा झटका, हरियाणा में मिलन दिल्ली में ब्रेकअप

भाजपा का जजपा को तगड़ा झटका, अब लोगों की निगाहें टिकी दुष्यंत पर

नई दिल्ली (राजकुमार अग्रवाल) :

हरियाणा में अपने सहयोगी दल जननायक जनता पार्टी को भाजपा ने दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में तगड़ा झटका दिया है। दिल्ली विधानसभा चुनाव में जजपा के साथ गठबंधन की अटकलों के बीच भाजपा ने अधिकतर उन सभी सीटों पर उम्मीदवार घोषित कर दिए, जिन पर दुष्यंत चौटाला दावेदारी जता रहे थे। भाजपा ने दिल्ली में 57 उम्मीदवारों की सूची जारी की है उसमें 12 वह सीटेें भी शामिल हैैं, जिनकी मांग जजपा द्वारा की जा रही थी।अब देखना यह है कि दुष्यंत चौटाला भाजपा के लिए अगला क्या कदम उठाते हैं इस पर लोगों की निगाहें टिकी हुई हैं ।

किन सीटों के कारण बढा विवाद : भाजपा द्वारा जजपा की पसंद वाली विधानसभा सीटों पर उम्मीदवार घोषित कर दिए जाने के बाद अब दोनों दलों के बीच गठजोड़ पर संशय बनकर विवाद खडा हो गया है। भाजपा की सूची घोषित होने के काफी देर बाद तक भी जजपा ने यह दावा नहीं किया कि उसकी दावेदारी वाली सीटों पर चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार जजपा की पृष्ठभूमि वाले हैैं। इसका मतलब साफ है कि भाजपा ने दुष्यंत चौटाला की पसंद की सीटों पर अपने खुद के उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे हैैं।उनमें रिठाला, बवाना, मुंडका, द्वारका, मटियाला, छतरपुर, नजफगढ़, बिजवासन, देवली, बदरपुर, पालम और नरेला विधानसभा सीटें शामिल हैैं। सिर्फ नांगलोई, महरौली और संगम विहार यह तीन विधानसभा सीटें ऐसी बची हैैं, जो दुष्यंत चौटाला की पसंदीदा सीटों में शामिल रही। गठबंधन की स्थिति में इन तीनों सीटों पर दोनों दलों के बीच क्या सहमति बनती है? इस पर राजनीतिक दलों की निगाह रहेगी।

भाजपा के जाट नेताओं के विरोध का हुआ असर : दिल्ली के रण में जजपा के साथ गठबंधन करने तथा उसे मजबूत सीटें देने का हरियाणा भाजपा के कई जाट नेता प्रबल विरोध कर रहे थे। दिल्ली भाजपा के पदाधिकारी भी इस गठबंधन के पक्ष में नहीं थे। भाजपा ने जजपा की पसंद वाली 12 सीटों पर उम्मीदवार घोषित कर दुष्यंत चौटाला के सामने दुविधा की स्थिति पैदा कर दी है। हरियाणा में भाजपा व जजपा सरकार में साझीदार हैैं। दोनों दल काफी दिनों से दिल्ली में मिलकर चुनाव लडऩे का संकेत दे रहे थे। हाल ही में दुष्यंत चौटाला की इस मुद्दे पर भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात भी हुई थी, लेकिन भाजपा के प्रत्याशियों की सूची जजपा के टिकट के दावेदारों के लिए निराश कर देने वाली साबित हुई। इसका मुख्य कारण भाजपा के जाट नेताओं के विरोध का असर रहा है

क्या कहते हैं भाजपा के नेता : भाजपा अलग-अलग राज्यों में अलग रणनीति से चलती रही है हरियाणा में भाजपा ने भले ही जजपा से समर्थन ले रखा है, लेकिन भाजपा ने दिल्ली में जजपा के सामने हथियार नहीं डाले हैैं। भाजपा की रणनीति रही है कि वह अपने सहयोगी दलों के साथ दिल्ली में गठबंधन नहीं करती। पंजाब में भाजपा तत्कालीन शिरोमणि अकाली दल (बादल) की साझीदार रही है, लेकिन दिल्ली में उसने जब भी अकाली दल के उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे तो अपने चुनाव चिन्ह पर ही टिकट दिए। यही स्थिति अब हरियाणा को लेकर दिल्ली में बनी है। सूत्रों के अनुसार दुष्यंत ने भाजपा की उस पेशकश को ठुकरा दिया था, जिसमें भाजपा ने कहा था कि जजपा अपनी पसंद के चार उम्मीदवारों को भाजपा के चुनाव चिन्ह पर मैदान में उतार दे।

अब जजपा का क्या होगा निर्णय : अब दुष्यंत के सामने अकेले चुनाव लडऩे अथवा भाजपा के सामने समर्पण कर देने के अलावा दूसरा कोई चारा नहीं बचा है। दिल्ली की नजफगढ़ विधानसभा सीट ऐसी है, जिस पर इनेलो के टिकट पर भरत सिंह विधायक बन चुके हैैं। ऐसे में इस सीट पर जजपा की सबसे मजबूत दावेदारी थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Coronavirus :india राज्यवार मरीजों की संख्या, अब तक आंकड़ा 850 से पार     |     अमेरिका में  1,00,000 से ज्यादा संक्रमित, 1500 से अधिक लोगों की मौत     |     दिल्ली से यूपी के लिए 200 बसों का इंतजाम     |     पानीपत ब्रेकिंग*पत्नी, पुत्री और पुत्र की गोली मारकर हत्या, फिर की खुदकुशी     |     e paper     |     हरियाणा  एक दिन में 800 कोरोनावायरस संदिग्ध मिले, 11671 पहुंचे आइसोलेशन में     |     बड़ी लापरवाही: 15 लाख लोग विदेशों से आए सबकी नहीं हुई जांच     |     फरीदाबाद के प्राईवेट स्कूल मॉडर्न विद्या निकेतन स्कूल की धींगा मस्ती कहा फीस जमा करवाओ      |     hisaar-भाई के निधन के बाद घर के बाहर लिखाशोक व्यक्त करने न आएं,  लॉकडाउन तोड़कर      |     3000 करोड़ की मूर्ति जरूरी थी या हस्पताल? राम मंदिर चाहिए या हस्पताल?     |    

error: Don\'t Copy
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9802153000