Take a fresh look at your lifestyle.

मनीष ग्रोवर से पंगे के बाद बलराज कुंडू के लिए सरकार में हिस्सेदारी के दरवाजे बंद हो गए

मनीष ग्रोवर से  पंगे के बाद बलराज कुंडू के लिए सरकार में हिस्सेदारी के दरवाजे बंद हो गए

=राजकुमार अग्रवाल =
चंडीगढ़। क्या यह सही है कि महम के विधायक बलराज कुंडू ने मनीष ग्रोवर के साथ पंगा लेकर सरकार में हिस्सेदारी के दरवाजे को खुद ही बंद कर दिया है?
महम के विधायक बलराज कुंडू और पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर के खिलाफ चल रही भ्रष्टाचार की जंग प्रदेश की सियासत चर्चा का विषय बनी हुई है। ग्रोवर को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के करीबी नेताओं में शामिल क्या जाता है।
भाजपा सरकार के पिछले कार्यकाल में मनीष ग्रोवर सुपर पावर वाले मंत्रियों में शामिल थे और उनके विभागों में उनकी मर्जी के बगैर पत्ता भी नहीं हिलता था। मुख्यमंत्री के साथ नजदीकी का फायदा उठाकर मनीष ग्रोवर ने अपने विभागों में मनमर्जी के काफी काम किए थे। मनीष ग्रोवर के विभागों में उनके आदेशों की तूती बोलती थी और अधिकारियों में उनके खिलाफ बोलने की हिम्मत नहीं थी।
मुख्यमंत्री के साथ करीबी संबंधों का फायदा उठाकर मनीष ग्रोवर सियासी और आर्थिक तौर पर बेहद शक्तिशाली हो गए थे लेकिन विधानसभा चुनाव की अप्रत्याशित हार ने ग्रोवर को अर्श से फर्श पर पटक दिया है।
मनीष ग्रोवर विधानसभा चुनाव हार जाने के बाद बैक डोर एंट्री के जरिए मुख्यमंत्री कार्यालय में बैठने की जुगत भिड़ा रहे थे। उन्होंने परफेक्ट फिल्डिंग लगाते हुए मुख्यमंत्री को एडजेस्टमेंट के लिए तैयार भी कर लिया था लेकिन नियुक्ति से पहले ही विधायक बलराज कुंडू ने भ्रष्टाचार का बम उनके सिर पर फोड़ दिया।
मनीष ग्रोवर के खिलाफ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों को सामने लाते हुए कुंडू ने यह प्रचारित कर दिया कि उनके हाथ भ्रष्टाचार में रंगे हुए हैं। दस्तावेजों के आधार पर कई मामले उजागर करते हुए कुंडू ने ग्रोवर को डिफेंस मोड में धकेल दिया।
ग्रोवर ने अपने ऊपर लगे आरोपों का खंडन करते हुए बलराज कुंडू को मानहानि का नोटिस भेज दिया है। कुंडू पर मानहानि के इस नोटिस का कोई असर नहीं है और वह अपने आरोपों पर डटे हुए हैं।
बलराज कुंडू को बड़ा घाटामनीष ग्रोवर के साथ सीधा पंगा लेने के चलते बलराज कुंडू ने खुद के लिए बडे़ घाटे का प्रबंध कर लिया है। मनीष ग्रोवर भाजपा की ताकतवर लोबी का हिस्सा हैं और वह लोबी अब बलराज कुंडू को किसी भी कीमत पर सरकार में हिस्सेदारी नहीं लेने देगी।
शायद बलराज कुंडू भी इस हकीकत को जानते हैं और मंत्री पद से वंचित किए जाने के बाद उनको यह आभास हो गया कि मनुष्य ग्रोवर हर कदम पर उनका रास्ता काटते रहेंगे और उनकी राह में कांटे बिछाते रहेंगे। इस बीच बलराज कुंडू के खिलाफ धनखड़ बंधुओं की शिकायत पर मामला भी दर्ज कर लिया गया है।
बलराज कुंडू हर खतरे का सामना करते हुए पीछे हटने को तैयार नहीं है और वे ग्रोवर पर लगाए गए आरोपों को साबित करने के लिए कमर कस चुके हैं।
आर-पार की जंग में सब कुछ दांव पर लगाते हुए बलराज कुंडू मनीष ग्रोवर को हाशिए पर लाने की डगर पर आगे बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं।
बलराज कुंडू और मनीष ग्रोवर की यह जंग जहां बलराज कुंडू का कद बढ़ा गई है वहीं मनीष ग्रोवर पर सवालिया निशान लगा गई है।
मनीष ग्रोवर ने मंत्री बनने के बाद बड़ी तेजी के साथ अपना बड़ा सियासी रसूख कायम किया था लेकिन बलराज कुंडू ने दस्तावेजी सबूतों के साथ उनकी ईमानदारी को सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया है। बलराज कुंडू के पास अब खोने को कुछ नहीं है और ग्रोवर के साथ जंग में उनकी जीत उन्हें एक दिलेर नेता के रूप में स्थापित कर देगी।
बलराज कुंडू भी यह समझ गए हैं कि ग्रोवर के साथ भिड़ंत उनके लिए बड़े इम्तिहान की तरह है। उन्हें दबाने के लिए कई तरह के प्रयास किए जाएंगे और ऐसे में अगर वह अपने मोर्चे पर पूरी ताकत के साथ डटे रहे तो आनंद सिंह दांगी की तरह वे भी भी रोहतक जिले की राजनीति में बड़ा चेहरा बन जाएंगे। बलराज कुंडू ने ग्रोवर के साथ टक्कर लेकर भारी रिस्क लिया है लेकिन उनकी यह हिम्मत उन्हें छोटे घाटे के बीच लंबे दौर के बड़े फायदे पहुंचाने का काम करेगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

जिस दिन जिन्दाबाद -मुर्दाबाद के नारे खत्म हो जाएगें , उस दिन नेता बिरादरी का अस्तित्व खत्म हो जाएगा     |     श्रद्धा का उमड़ा सैलाब साथ ही दिखी पेट की आग बुझाने के लिए खतरनाक तरीके से करतब दिखाने के अलावा कुछ और सूझ ही नहीं रहा था।     |     मुझे पहली बार बजट पेश करने का मौका मिला है ,बजट जनता के हित मे होगा- मनोहर लाल     |     Coldbest-PC कफ सिरप में मिला जहर, 9 बच्‍चों की मौत… 8 राज्‍यों में बिक्री पर रोक     |     श्री शिव वाटिका में महाशिवरात्रि बड़े श्रद्घा और उल्लास के साथ मनाई गई।     |     लड़कियों को नंगा कर नौकरी के लिए इस विभाग ने लिया फिटनेस टेस्ट     |     राजस्थान बना गरीबो की मौत का राज्य राजस्थान में दंबगों का कहर ,गुप्तांग में सरिया डालने का आरोप।     |     विधानसभा के स्तर में उठाएं कस्बा सीवन में आयुर्वेदिक कॉलेज खोलने की मांग     |     ग्रामीण दंगलों में लगने वाली कुश्ती हमारी प्राचीन सभ्यता व संस्कृति की प्रतीक : नायब सैनी     |     नसबंदी कराओ, वरना नौकरी से होगी छुट्टी…,सैलरी पर भी तलवार     |    

error: Don\'t Copy
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9802153000