अविनाश पांडे ने सोनिया गांधी से मुलाकात की।

परिवहन विभाग के घोटाले की गूंज के बीच प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे ने सोनिया गांधी से मुलाकात की।

सोनिया गांधी ने राजस्थान में सत्ता और संगठन के बीच बेहतर तालमेल बताया।

जिला और ब्लॉक स्तर पर राजनीतिक नियुक्तियों के लिए प्रभारी मंत्रियों को 15 मार्च से पहले कार्यकर्ताओं के नाम देने होंगे।

प्रियंका को राज्यसभा में भेजने के लिए कांग्रेस शासित राज्यों में उत्साह।

JAIPUR(ATAL HIND)एसीबी ने परिवहन विभाग के फरार चल रहे इंस्पेक्टरों को पकडऩे के लिए छापामार कार्यवाही की, वहीं राजस्थान के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे ने दिल्ली में कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी से मुलाकात की। 15 फरवरी को एसीबी ने परिवहन विभाग में छापामार कार्यवाही कर बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार उजागर किया था। परिवहन विभाग में हुई इस कार्यवाही पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डिप्टी सीएम सचिन पायलट और उनके समर्थक माने जाने वाले परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने तीखी प्रतिक्रिया दी। चूंकि गृह विभाग मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पास ही है, इसलिए एसीबी की छापामार कार्यवाही की पूरे प्रदेश में चर्चा हो रही है। ऐसे में प्रभारी महासचिव पांडे की सोनिया गांधी से मुलाकात को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। पांडे ने भले ही सत्ता और संगठन की समन्वय समिति की बैठक की रिपोर्ट देने की बात कही हो, लेकिन माना जा रहा है कि सोनिया गांधी के समक्ष परिवहन विभाग के घोटाले की रिपोर्ट भी रखी गई है। एसीबी ने बड़े पैमाने पर परिवहन विभाग में भ्रष्टाचार उजागर किया है उससे गहलोत सरकार की छवि पर भी प्रतिकूल असर पड़ रहा है। पांडे ने दावा किया कि सोनिया गांधी ने रास्थान में सत्ता और संगठन में बेहतर तालमेल बताया है। सोनिया गांधी राजस्थान की रिपोर्ट से संतुष्ट हैं। राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर भी सोनिया गांधी ने जानकारी ली है। उन्हें बताया गया कि जिला और ब्लॉक स्तर पर नियुक्तियों के लिए 15 मार्च से पहले पहले प्रभारी मंत्री कांग्रेस कार्यकर्ताओं के नाम दे देंगे। नाम मिलने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश कांगे्रस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट आपसी विचार विमर्श कर नियुक्तियों की घोषणा करेंगे।

प्रियंका को लेकर उत्साह:

पांडे ने कहा कि कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को राज्यसभा में भेजने के लिए राजस्थान में ही नहीं बल्कि कांग्रेस शासित सभी प्रदेशों में उत्साह है। जिन प्रदेशों में चुनाव होने हैं और जहां कांग्रेस उम्मीदवार की जीत पक्की है, वहां के कांग्रेसी प्रियंका गांधी को उम्मीदवार बनवाने को उत्सुक है। प्रियंका गांधी की उम्मीदवारी के बारे में अंतिम फैसला राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी करेंगी। अभी यह भी देखा जाएगा कि प्रियंका गांधी राज्यसभा में जाने को सहमत है या नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *