हरियाणा में  15 अगस्त के बाद प्रदेश मे शुरू हो सकती है,10वीं,11वीं और 12वीं की पढ़ाई

हरियाणा में स्कूल खोलने को लेकर क्या है प्लान हरियाणा में  15 अगस्त के बाद प्रदेश…

राजस्थान की 70 सालों की राजनीति  में  मुख्यमंत्री और राज्यपाल के बीच  तकरार ,राष्ट्रपति से लगाएंगे गुहार

राजस्थान की 70 सालों की राजनीति  में  मुख्यमंत्री और राज्यपाल के बीच  तकरार ,राष्ट्रपति से लगाएंगे…

छह जिलों के तहसीलदार और डीआरओ गठबंधन सरकार के निशाने पर

  छह जिलों के तहसीलदार और डीआरओ गठबंधन सरकार के निशाने पर Tehsildars and DROs of…

अनीता निधि लिखती है एक रचना झारखंड से ‘ चाय हमारी चाह,

चाय हमारी चाह ************* हर रोज सुबह तलब जगती है चाय की दिन शुरु होता नहीं…

सावित्री मिश्रा लिखती है एक रचना ओडिशा से ‘ विदाई

विदाई ———– माता -पिता ने खुशी -खुशी कर दी बेटी की विदाई, पर किस्मत को शायद…

मेरा गांव

शहर क्या आज गांव भी विराना लगता है ।
आफत क्या आई खमोश ठिकाना लगता है ।
कहाँ चला गई वो चकाचौंध जमाने की ,
जाना नामुमकिन वो गुलशन बेगाना लगता है ॥
हर मोहल्ले की अलग सी खूबी व अंदाज है ।
आज फीकी पड़ी है रौनक ऐसा कहाँ रिवाज है,
हसीन वादियां, ऊंचे पर्वत , झरने गहरी नदियां ,
हिम का आंचल देश का ये सरताज है ॥
शहर मेरा फिर चमकेगा थोड़ा सब्र सा कर लो ।
माटी देगी फिर से खुशबू हिम्मत जहन भर लो ,
घने जंगलों की फगडंडी से आना तुम यहाँ,
इन्तजार में मीलने  की उम्मीद ठान ग़र लो ॥
रचनाकार :- दिलाराम भारद्वाज ‘ दिल ,
करसोग , मण्डी (हिमाचल प्रदेश )
8278819997

अनीता निधि जमशेदपुर झारखंड से लिखती है एक रचना

मेरे जीवन के वरदान मेरे जीवन के वरदान था मेरा जीवन एक सूखी नदी जलप्लावन बन…

बिन्दिया
*******

बिन्दिया तू कितनी छोटी सी है
पर माथे पर दो भौंहों के बीच तू खूब सजती है।
तेरे होने से रुप द्विगुणित हो जाता है,
तू चेहरे की आभा बढ़ा देती है।
यूँ लगे चेहरे पर माहताब जड़ा है
चांद की चांदनी छिटकती पूरे चेहरे पर
तू रुप का नूर बढ़ा देती है।
तेरा दो भौंहों के बीच जो स्थान है
मानों सिंहासन पर बैठा कोई राजकुमार है।
तुझसे ही तो औरत का शृंगार है।
लाख पहने हो गहने उसने,पर
तेरे बिना सारा शृंगार बेकार है।
माथे पर तू लगे इस कदर
मानों चमका है नभ में आफताब है।
बिन्दिया प्रीत की मिसाल है
औरत के सौभाग्य का प्रतीक है।
इसके बगैर उसका रुप लगे बेरंग है।
लगा के बिन्दिया पहन के पायल,
इतराती-बलखाती फिरती सजना के अंगना।
कर देती बिन्दिया साजन को मदहोश,
उड़ा ले जाती उसकी निन्दिया।
बिन्दिया तू छोटी सी है पर,
कर कितने बड़े काम तू कर जाती है!

अनिता निधि
जमशेदपुर,झारखंड

अनीता निधि की रचनाएँ आप विभिन्न रचनाकार मंच में पढ़ व सून सकते है व इन्हे कई सम्मान भी प्राप्त है ।

पुडुचेरी की पूर्व उपराज्यपाल के ईलाज में कोताही, सीएमओ निलंबित

पुडुचेरी की पूर्व उपराज्यपाल के ईलाज में कोताही, सीएमओ निलंबित 12 जून को ईलाज के लिए…

Translate »
error: Content is protected !!
Open chat