HARYANA शराब घोटाले में बच जाएंगे बड़े “मगरमच्छ” !!

सोनीपत के करोड़ों रुपए के  शराब घोटाले में बच जाएंगे बड़े “मगरमच्छ” !!

खेमका की तैनाती नहीं करना दे गई साफ संकेत

 

Big “crocodiles” will survive the liquor scam of crores of rupees of Sonipat !!

Deployment of Khemka did not give clear signal

 

-राजकुमार अग्रवाल
चंडीगढ़। सोनीपत के करोड़ों रुपए के शराब घोटाले में एसआईटी के जरिए पारदर्शी जांच होने पर उस समय सवालिया निशान लग गए जब अशोक खेमका और संजीव कौशल के बजाय टीसी गुप्ता को एसआईटी का प्रभारी बना दिया गया।
गृह मंत्री अनिल विज ने सोनीपत शराब घोटाले का पर्दाफाश करने के लिए मुख्यमंत्री से आईएएस अधिकारियों अशोक खेमका, संजीव कौशल और टीसी गुप्ता में से एक को एसआईटी का प्रभारी बनाने का अनुरोध किया था।
अशोक खेमका का नाम प्रस्तावित होने के चलते घोटाले में शामिल लोगों को कंपकंपी चढ़ गई थी और उन्हें लगा कि अगर खेमका के हाथ में जांच आ गई तो वे बेनकाब हो जाएंगे।

 

खट्टर सरकार का नया फरमान ,पुंडरी (pundri),नरवाना ,थानेसर ,रादौर ,सहित क्षेत्रोँ धान  की फसल लगाने पर रोक 

शराब घोटाले के मुख्य आरोपी भूपेंद्र सिंह के तार सरकार के हेड क्वार्टर यानी सचिवालय के साथ जुड़े होने के कारण बड़ी-बड़ी हस्तियों के शराब घोटाले में शामिल होने की आशंकाएं जताई जा रही हैं।
भूपेंद्र सिंह ने गिरफ्तारी से पहले कई बड़े लोगों से फोन पर बात की थी।ऐसे सभी लोग अशोक खेमका की जांच के घेरे में आना पक्के थे। ऐसे में शराब घोटाले की जांच अगर अशोक खेमका के पास आ जाती तो बड़े-बड़े सफेदपोशों के बेनकाब होने की संभावना कई गुना बढ़ जाती।

शराब घोटाले में शामिल लोगों ने अपने ऊपर मंडरा रहे बड़े खतरे यानी अशोक खेमका को एसआईटी का प्रभारी ने बनने देने के लिए पूरी ताकत लगा दी। शराब घोटाले में शामिल और सहयोगी बड़े चेहरों को यह अच्छी तरह मालूम है कि अगर अशोक खेमका के हाथ में जांच की बागडोर आ गई तो उनमें से कोई नहीं बच पाएगा।

 

फरीदाबाद पुलिस ने पत्रकार पर दर्ज किया फर्जी मुकदमा, किया थर्ड डिग्री टॉर्चर, पत्रकारों में रोष, सिटी प्रेस क्लब करेगा न्याय की मांग

इसलिए उनका पत्ता काटने के लिए बड़ी-बड़ी सिफारिशें की गई। अशोक खेमका के बारे में सभी को पता है कि वह जिस काम में लग जाते हैं उसे अंजाम तक पहुंचाने पर ही दम लेते हैं।

 

अशोक खेमका के साथ एडजस्टमेंट करने की संभावनाएं बिल्कुल नहीं थी इसलिए शराब घोटाले में शामिल ताकतों ने उनको एसआईटी का इंचार्ज नहीं बनने दिया।

अनिल विज और दुष्यंत चौटाला आमने-सामने

खट्टर वन सरकार में मुख्यमंत्री कार्यालय के मुखिया व एक्साइज विभाग के पूर्व सर्वेसर्वा रहे संजीव कौशल को भी जांच की बागडोर इसलिए नहीं दी गई क्योंकि उनकी ट्यूनिंग आजकल मुख्यमंत्री से ठीक नहीं चल रही है। अगर संजीव कौशल के पास भी जांच का जिम्मा आ जाता तो वह भी गहराई में जाकर घोटाले में शामिल बड़ी ताकतों को बेपर्दा कर सकते थे। इसलिए संजीव कौशल का नाम भी कटवा दिया गया।

 

गला घोंटने लगे जेजेपी के लोग,दिग्विजय चौटाला के राइट हैंड के घर क्वॉरेंटाइन का पोस्टर लगाने की चुकानी पड़ी कीमत

 

एसआईटी के प्रभारी बनाए गए टीसी गुप्ता अशोक खेमका और संजीव कौशल की तुलना में थोड़े लचीले माने जाते हैं‌ शराब घोटाले में शामिल लोग उनकी तैनाती भी नहीं चाहते थे लेकिन अगर गृहमंत्री के सुझाए तीनों नामों को अनदेखा करके किसी अन्य अधिकारी को एसआईटी का इंचार्ज बना दिया जाता तो मुख्यमंत्री कार्यालय की मंशा पर सवालिया निशान खड़े हो सकते थे।
इसलिए कम खतरनाक माने जा रहे टीसी गुप्ता को ही सोनीपत शराब घोटाले की जांच सौंपने पर रजामंदी बन पाई है।

http://Women orgasm only once every 2 to 3 weeks

31 मई तक रिपोर्ट पेश करे एसआईटी – विज

चंडीगढ़, 11 मई। हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने प्रदेश में लॉकडाउन के दौरान हुए शराब घोटाले की जांच बीस दिन में पूरी करने के निर्देश दिए हैं। सोनीपत के खरखौदा में शराब चोरी के बाद प्रदेश के कई जिलों में शराब की गड़बडिय़ां सामने आई हैं। जिसके चलते सोमवार को गठित एसआईटी समूचे हरियाणा की जांच करेगी। एसआईटी द्वारा प्रदेश के सभी पुलिस थानों व चौकियों के मालखानों की जांच की जाएगी। एसआईटी लॉक डाऊन के दौरान प्रदेश के शराब के स्टॉक की भी पड़ताल करेगी। इसके अलावा यह भी पड़ताल की जाएगी कि अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2020 तक पुलिस विभाग द्वारा कितनी अवैध शराब पकड़ी गई और आबकारी विभाग ने कितना जुर्माना लगाया। इस मामले में काफी सख्त तेवर अपनाए हुए प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि एसआईटी को 31 मई तक रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि एसआईटी को सभी पहलूओं को आधार बनाकर जांच करने के लिए कहा गया है। जांच रिपोर्ट में जो लोग दोषी पाए जाएंगे उन्हें किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा।

Our COVID-19 India Official Data
Translate »
error: Content is protected !! Contact ATAL HIND for more Info.
%d bloggers like this: