Atal hind
टॉप न्यूज़ राजनीति सोनीपत हरियाणा

manohar सरकार बरोदा चुनाव जितने के लिए थमाना चाहती है लॉलीपॉप

manohar सरकार बरोदा चुनाव जितने के लिए थमाना चाहती है लॉलीपॉप जो 6 साल में नहीं किया अब क्या खाक तरक्की करेगी बरोदा में
बरौदा पर हरियाणा सरकार मेहरबा नएक बै मौका दे कै तो देखो बरोदा
की तस्वीर बदल देवांगे-दलाल
किसानों की भलाई विपक्ष को हजम नहीं हो रही
गोहाना(अटल हिन्द ब्यूरो ) प्रदेश के कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के मंत्री जयप्रकाश दलाल ने कहा कि प्रदेश सरकार ने इस इलाके के लिए कई बड़ी घोषणाएं की हैं। कृषि मंत्री जेपी दलाल ने बताया कि बरोदा हलके मे एक इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशिप (आईएमटी) स्थापित करने का निर्णय लिया गया है। वहीं, हैफेड 4 मीट्रिक टन प्रति घंटा की क्षमता वाली राइस मिल लगाएगी। इस पर 12 करोड़ रु. लागत आएगी। दोनों प्रोजेक्ट को सरकार ने सैद्घांतिक मंजूरी दे दी है। वहीं, जनता कॉलेज को अपग्रेड कर विश्वविद्यालय बनाया जाएगा। साथ ही राज्य सरकार ने हलके में विकास कार्यों के लिए 65 करोड़ रुपए जारी किए हैं। दलाल ने यह बात गांव बुटाना में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कही। कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा है कि जो लोग सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन कर रहे हैं, वे किसान नहीं कांग्रेसी हैं। किसान तो अपने खेत में मेहनत कर रहा है। जिसके लिए सरकार दिन रात खड़ी है। किसान के हक की बात करने वाली हरियाणा में यह पहली सरकार है। पूर्व की सरकारों ने तो किसानों का शोषण किया है। कृषि मंत्री जेपी दलाल ने दावा किया कि बरौदा हलके से इस बार भाजपा का विधायक जीत कर आएगा। उन्होंने कहा कि संयोग से सोनीपत जिले के बरौदा विधानसभा क्षेत्र में तीन कार्यकाल से कांग्रेस का विधायक रहा है,लेकिन लगता है वहां पर जानबूझ कर तत्कालीन सरकार ने विकास कार्य नहीं करवाए। उन्होंने कहा है कि किसान हित में केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन अध्यादेशों से किसानों की खुशहाली व उन्नति के नए द्वार खुलेंगे। उन्होंने कहा कि तीनों अध्यादेशों की हर तरफ सराहना हो रही है, जो विपक्ष को हजम नहीं हो रहा है, लेकिन प्रदेश का जागरूक किसान विपक्ष की बातों में आने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि तीनों अध्यादेश लागू होने पर प्रदेश का किसान और अधिक खुशहाल व उन्नत होगा। किसान अपनी मर्जी से अपनी फसल बेच सकेगा। किसान पर किसी प्रकार की कोई पाबंदी नहीं होगी, लेकिन विपक्ष किसानों को बहकाने का काम कर रहा है। कृषि मंत्री ने कहा कि यह किसानों की आर्थिक आजादी के लिए उठाया गया सही कदम है क्योंकि किसान के उत्पाद बेचने के लिए चार विकल्प दिए गए हैं। किसान स्वयं अपना माल बेचें, उत्पादक संघ बनाकर अपना माल बेचें, किसी व्यवसायी से अनुबंध करके अपना माल बेचें अथवा स्थानीय मंडी में समर्थन मूल्य पर अपना माल बेचें।उन्होंने विपक्ष को नसीहत देते हुए कहा है कि अध्यादेशों पर राजनीति करने से पहले उन्हें अच्छी तरह से पढ़ लें। लोकतंत्र में जन समर्थन सर्वोपरि है। मंच पर सोनीपत से सांसद रमेश कौशिक, राई से विधायक व जिलाध्यक्ष मोहनलाल बडोली, पहलवान योगेश्वर दत्त, ओम प्रकाश शर्मा व रणधीर लाठवाल मौजूद रहे।
बुटाना को दी भर-भर के सौगात
गांव की जो भी सड़क कच्ची है या जिसको मरम्मत की जरूरत है सभी के निर्माण के पैसे गांव में पहुंचे। पानी तै खराब हो चुकी जमीन न सरकार खरीदेगी और नये नये उद्योग लगाये जायेंगे। पीने के पानी के तीन ट्यूबवेलों को 1 करोड़ 5 लाख रुपये की मंजूरी दी। बरोदा माईनर 3 करोड़ 25 लाख रुपये का ठेका दे दिया गया काम भी शुरू हो जाएगा। गांव की चौपालों के लिए भी लाखों रुपये की राशि मंजूर की। बुटाना खेतलान को दिए 1.84 करोड व बुटाना कुंडू 1.53 करोड़  रुपये सरकार ने विकास कार्यों के लिए मंजूर किए।
नया औद्योगिक मॉडल टाउनशिप विकसित होगा
कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने इस बात की भी जानकारी दी कि निर्माणाधीन दिल्ली-अमृतसर एक्सप्रेसवे इस विधानसभा क्षेत्र से गुजरेगा। इसलिए सरकार ने यह निर्णय लिया है कि नया औद्योगिक मॉडल टाउनशिप (आईएमटी) विकसित किया जाए। इससे निवेश के साथ-साथ स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे। दलाल ने कहा कि बरौदा विधानसभा प्रदेश का ऐसा विधानसभा क्षेत्र है, जिसमें कोई शहर नहीं पड़ता और इसके तहत 54 गांव आते हैं।
हैफेड स्थापित करेगा अत्याधुनिक चावल मिल
बरौदा में हैफेड अत्याधुनिक चावल मिल स्थापित करेगा। जिसमें बासमती सहित विभिन्न किस्मों की धान की मिलिंग की जाएगी। सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि 12 करोड़ रुपये की लागत से स्थापित होने वाली इस मिल की मिलिंग क्षमता प्रति घंटे 4 मीट्रिक टन होगी। चावल मिल की स्थापना से क्षेत्र के किसानों को उनकी पैदावार के लाभकारी मूल्य मिलेंगे और क्षेत्र के युवाओं को रोजगार मिलेगा।
कांग्रेस का विरोध सिर्फ विरोध करने के लिए
90 से 95 फीसदी किसान अपने खेतों में धान और बाजरे की फसल काटने तथा कपास की फसल बीनने में लगे थे। उन्हें कांग्रेस प्रायोजित इस बंद से कोई लेना देना नहीं था। उन्होंने कहा कि पहले कांग्रेस के नेता लोकसभा में इन बिलों का समर्थन करते थे, लेकिन आज तक उन्हें पास करने का साहस नहीं कर पाए। भाजपा ने आढ़तियों व किसानों की आर्थिक सुरक्षा वाले इन विधेयकों को पास किया तो अब कांग्रेसी विरोध पर उतर आए हैं। कांग्रेस का विरोध सिर्फ विरोध करने के लिए है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों की आय डबल करने के लिए इन तीन कृषि विधेयकों को मंजूरी दिलाई है। जेपी दलाल ने कहा कि किसान पिछले पांच दशक से अपनी आय में बढ़ोतरी का इंतजार कर रहे हैं। उन्होंदने कहा कि मोदी सरकार ने उन्हें यह मौका दिया है। हुड्डा ने कांग्रेस के चुनाव घोषणा पत्र में अक्सर इन वादों को डाला,मगर वह उन्हें पूरा कराने का साहस नहीं कर पाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर रही है। वह स्वयं वहां पांच बार लोगों से मिलने गए, लेकिन हर बार कांग्रेस ने किसी न किसी को विरोध कराने की मंशा से भेजा, मगर लोग कांग्रेस के इस कुचक्र में उलझने वाले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पाकिस्तान की तरह वार करती है। उसमें भाजपा के साथ सीधे लड़ाई लड़ने की हिम्मत नहीं है।
शुरू हुई धान की खरीद विपक्ष का झूठ अब नहीं बिकेगा : दलाल
प्रदेश के कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के मंत्री जयप्रकाश दलाल ने कहा कि आज से केंद्र सरकार ने धान की खरीद की अनुमति देकर विपक्ष के मनसूबों पर पानी फेर दिया। गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने शनिवार को ही राज्य सरकारों के लिए 26 सितम्बर से धान की खरीद करने के निर्देश जारी कर दिए।  मंत्री जयप्रकाश दलाल ने कहा कि अब विपक्ष अपनी राजनीति को बचाए रखने के लिए कोई और बहाना ढूंढे। धान की खरीद के निर्देश जारी होते ही देश के किसानों के सामने कांग्रेस समेत उन सभी दलों की सच्चाई सामने आ गई जो किसानों को जाकर बरगलाते थे कि मंडियां बंद होने जा रही है। उन्होंने कहा ना मंडी ख़त्म होगी, ना एम एस पी, किसानों की फसल की खरीद हर साल यूँ ही होती रहेगी। देश में अब किसान का माल तो बिकेगा और एम एस पी पे बिकेगा, पर कांग्रेस का झूठ नहीं बिकेगा।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

kaithal-जींद रोड पर जीवन राईस मिल के नजदीक चला  पीला पंजा, निरंतर जारी रहेगा यह अभियान : उपायुक्त 

admin

सी.सी.टी.वी. कैमरे के आगे खड़ा होकर पुलिस वाला करता है गंदी हरकतें   

admin

मनोहर सरकार निजी स्‍कूलों पर मेहरबान, जून से रेगुलर फीस वसूल सकेंगे। 

Sarvekash Aggarwal

Leave a Comment

URL