AtalHind
टॉप न्यूज़राजनीतिलेखविचार /लेख /साक्षात्कार

BJP NEWS-आरएसएस का  “अहंकारी नेताओं” के बारे में विलाप करना पाखंड और दोमुंहापन के अलावा और कुछ नहीं है. 

बीजेपी और आरएसएस एक दूसरे से परस्पर लाभकारी रिश्ते से जुड़े हैं. भागवत की टिप्पणियां कमजोर मोदी से ज्यादा शक्ति प्राप्त करने की एक चाल मात्र हैं.
BY–सागरिका घोष
Advertisement
2024 के लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के एक हफ्ते बाद, बीजेपी और संघ परिवार का गुप्त पैतृक संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ छाया से बाहर निकल आया. आरएसएस प्रमुख या सरसंघचालक मोहन भागवत ने नेताओं के “अहंकार” की सार्वजनिक रूप से निंदा की.Mohan Bhagwat RSS chief
Advertisement
लेकिन भागवत की तल्ख टिप्पणियां थोड़ी देर से आईं. दस साल तक आरएसएस ने बीजेपी के साथ मिलकर काम किया है, कई सरकारी निकायों में घुसपैठ की और राज्य की शक्ति और विशेषाधिकारों का जितना हो सका, उतना लाभ उठाया है. अब “अहंकारी नेताओं” के बारे में विलाप करना पाखंड और दोमुंहापन के अलावा और कुछ नहीं है. आरएसएस भी उसी अहंकार का हिस्सा है.(Mohan Bhagwat’s scathing comments have come a little late. For ten years, the RSS has worked in tandem with the BJP, infiltrating several government bodies and taking advantage of the power and privileges of the state to the extent it could. Now lamenting about “arrogant leaders” is nothing but hypocrisy and double standards. The RSS is also part of that arrogance.)
Advertisement
10 जून को नागपुर में आरएसएस की बैठक में बोलते हुए भागवत ने चुनावी हार के मद्देनजर भाजपा की कार्यप्रणाली पर निशाना साधा. उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, “एक सच्चा सेवक मर्यादा बनाए रखता है. काम करते समय वे शिष्टाचार का पालन करता है. उसे यह कहने का अहंकार नहीं होता कि ‘मैंने यह काम किया’. केवल उसी व्यक्ति को सच्चा सेवक कहा जा सकता है.
भागवत ने चुनाव प्रचार के दौरान इस्तेमाल की गई अभद्र भाषा की भी निंदा की, मणिपुर में एक साल से अधिक समय से चल रही हिंसा के समाधान का आह्वान किया और सत्तारूढ़ पार्टी से विपक्ष का सम्मान करने को कहा.
Advertisement
Advertisement
मोदी अभी भी भ्रम वाली वैकल्पिक वास्तविकता में घूम रहे हैं. वे अभी भी परिणामों को लेकर तर्कहीन इनकार में हैं, फोटो खिंचवाने के लिए पोज दे रहे हैं और अंतरराष्ट्रीय वीआईपी के साथ सेल्फी लेने के लिए जी 7 शिखर सम्मेलन में शामिल हो रहे हैं. जबकि, वे मुश्किल से अपनी सीट (वाराणसी) जीत पाए और उनकी पार्टी टीडीपी और जेडीयू जैसे सहयोगियों द्वारा दिए जाने वाले ऑक्सीजन पर चल रही है.
एक ही सिक्के के दो पहलू
सच तो यह है कि आरएसएस, एक दशक से मोदी सरकार के साथ पूरी तरह से जुड़ा हुआ है. इसने 2024 के चुनाव अभियान में एक गुप्त भूमिका निभाई, भाजपा उम्मीदवारों के लिए समर्थन जुटाया और अपने विशाल नेटवर्क का उपयोग करके राजनीतिक रूप से प्रेरित विवादों को तैयार किया और भाजपा को लाभ पहुंचाने के लिए अफवाहों का बाजार गर्म किया.
Advertisement
उदाहरण के लिए यह आरोप लगाया गया है कि संघ परिवार ने पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में भूमिका निभाई थी, एक ऐसा मीडिया उन्माद जो परिणाम आते ही बंद हो गया.
Advertisement
भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मई में चुनाव के अंत में यह कह कर आरएसएस पर अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की, “अतीत में हम कमजोर थे और हमें आरएसएस की ज़रूरत थी, (लेकिन) आज भाजपा खुद चलती है.” शायद नड्डा आरएसएस को नकारने का खाका दे रहे थे, यह कहते हुए कि भाजपा की बड़ी जीत केवल भाजपा और मोदी की है.
Advertisement
लेकिन मूर्ख मत बनिएगा, भाजपा और आरएसएस कई स्तरों पर एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं. भाजपा सहित असंख्य संगठनों वाला संघ परिवार, सभी वैचारिक स्रोत यानी आरएसएस से जुड़े हुए हैं.भागवत वही कर रहे हैं जिसे करने से मोदी इंकार कर रहे हैं: आत्मनिरीक्षण में डूब जाना.
भागवत के लिए सवाल
भागवत से महत्वपूर्ण सवाल पूछे जाने चाहिए. सबसे पहले, आरएसएस, जो कथित तौर पर सिद्धांत रूप से “व्यक्ति पूजा” या नायक पूजा का विरोधी है, तब कहां था, जब किराए की पीआर एजेंसियों और एक व्यक्ति मुख्यधारा के मीडिया द्वारा मोदी पंथ का निर्माण किया जा रहा था?
Advertisement
Advertisement
जब मोदी सरकारों को गिराने, विपक्षी नेताओं पर अभद्र भाषा का प्रयोग करने और मुख्यमंत्रियों को जेल भेजने के बारे में घमंड से बात कर रहे थे, तब अहंकार के खिलाफ आरएसएस का विलाप कहां था? अहंकारी नेताओं के साथ यह बिल्कुल ठीक था, जबकि इससे उन्हें वोट मिल रहे थे.
Advertisement
दूसरा, क्या भागवत विपक्ष का सम्मान करने और उसे विरोधी के रूप में न मानने के आरएसएस के तथाकथित “सिद्धांतवादी” रुख के बारे में बोलते, अगर भाजपा 300 से अधिक सीटें जीतती, जैसा कि वो उम्मीद कर रही थी? नहीं, “400 पार” प्रदर्शन से आरएसएस को राज्य सत्ता के सभी विशेषाधिकारों का चुपचाप आनंद लेने की अनुमति मिल जाती.
Advertisement
तीसरा, भागवत को अचानक आम सहमति बनाने के गुण और झूठ और अभद्र भाषा के नुकसान क्यों पता चल गए? आखिर, भाजपा ने एक दशक तक ध्रुवीकरण की राजनीति की है, विपक्ष को विभिन्न “गिरोहों” के सदस्य के रूप में नामित किया है, संसद में विपक्ष को खारिज किया है और “विपक्ष-मुक्त भारत” का पूरी तरह से अलोकतांत्रिक नारा लगाया है. वास्तव में यह ध्रुवीकरण वही था जो आरएसएस चाहता था.
Advertisement
Advertisement
चौथा, भागवत को मणिपुर में सुधार की ज़रूरत के बारे में अब चुनाव में हार के बाद ही क्यों पता चला है? राज्य में एक साल से हिंसा भड़की हुई है: 200 से अधिक लोग मारे गए हैं और 70,000 लोग विस्थापित हुए हैं.
Advertisement
भागवत जी, नागरिकों को मूर्ख बनाने की कोशिश मत कीजिए. आपके भाषण में कुछ भी “सिद्धांत” नहीं है. यह चालाकी, कपटपूर्ण और उच्च नैतिक आधार पर कब्जा करने का दिखावा है. आप बस यही चाहते हैं कि कमजोर मोदी आपको सत्ता के अपने हिस्से का और भी बड़ा हिस्सा दें.
Advertisement
‘घुस जाओ और छा जाओ’
नेहरू-गांधी शासन द्वारा स्वतंत्रता के बाद से दशकों तक राज्य संरचना से दूर रखे जाने के कारण, आरएसएस उच्च सरकारी कार्यालयों तक पहुंच के लिए लालायित था.
Advertisement
Advertisement
वाल्टर एंडरसन और श्रीधर दामले की किताब The RSS: A View to the Inside से पता चलता है कि आरएसएस का गठन मुख्य रूप से निचले डिवीजन ऑफिस क्लर्क और स्टेशन मास्टर या टियर 2 शहरों के प्रांतीय मध्यम वर्ग के परिवारों से हुआ था. इसलिए यह हमेशा राज्य के “कमांडिंग हाइट्स” में प्रवेश करने की संभावना से उत्साहित रहा है, जो अब तक अंग्रेज़ी भाषा-शिक्षित अभिजात वर्ग के लिए आरक्षित था.
Advertisement
जब भाजपा पहली बार 1978 में सत्ता में आई — जनता पार्टी के भारतीय जनसंघ घटक के रूप में — तो कार्यकर्ताओं के बीच एक नारा चला “घुस जाओ और छा जाओ”.
Advertisement
Advertisement
जब यह मौका आया, तो आरएसएस ने जहां भी संभव हो, पदों को भरने के लिए दौड़ लगा दी, लेकिन जनता पार्टी की सरकार एक कमजोर गठबंधन थी जो जल्द ही अपने कई विरोधाभासों के कारण ढह गई.
Advertisement
2014-2024 के बीच मोदी के दशक में भाजपा और आरएसएस ने आपसी लाभ के आधार पर घनिष्ठ संबंध बनाए. बहुमत वाली सरकार ने राज्य या अर्ध-राज्य निकायों में आरएसएस की विजयी बढ़त सुनिश्चित की, चाहे वो विश्वविद्यालय परिषद हों, विदेशी संबंध निकाय हों, सांस्कृतिक संगठन हो या सिनेमा संस्थान हों.
Advertisement
Advertisement
दो साल तक पुणे में प्रतिष्ठित FTII के प्रमुख के रूप में भाजपा से जुड़े गजेंद्र चौहान की नियुक्ति का विरोध किया गया. जेएनयू के कुलपति ने सार्वजनिक रूप से घोषणा की कि उन्हें “आरएसएस से जुड़े होने पर गर्व है”. विनय सहस्रबुद्धे, जो वर्षों तक एक अज्ञात आरएसएस विचारक थे और एक अस्पष्ट संघ थिंक टैंक का नेतृत्व कर रहे थे, आज मौलाना आजाद द्वारा 1950 में स्थापित उच्च-स्तरीय अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक संबंध परिषद (ICCR) के अध्यक्ष हैं.
Advertisement
1998-2004 के वाजपेयी के वर्ष भाजपा-आरएसएस संबंधों के लिए बहुत अलग थे. अटल बिहारी वाजपेयी एक संसदीय प्रधानमंत्री थे जिनके लिए चुनावी प्रक्रिया पवित्र थी. वे आरएसएस को सरकार से बाहर रखने के लिए दृढ़ थे.
Advertisement
वाजपेयी का मानना था कि कार्यकारी स्थान और सरकारी शक्ति का उपयोग करने का अधिकार केवल निर्वाचित प्रतिनिधियों के पास है. उन्होंने वित्त मंत्री के चयन पर आरएसएस के के सुदर्शन का विरोध किया, आरएसएस के श्रमिक नेता दत्तोपंत ठेंगड़ी (जिन्होंने एक बार वाजपेयी को “क्षुद्र राजनीतिज्ञ” कहा था) के साथ मिले और अयोध्या में राम मंदिर पर तेज़ी से आगे न बढ़ने के लिए वीएचपी के अशोक सिंघल की नाराजगी सही.
Advertisement
Advertisement
यह सुदर्शन, ठेंगड़ी और सिंघल की आरएसएस तिकड़ी थी जो वाजपेयी पर हमलों में सबसे आगे थी. कोई आश्चर्य नहीं कि आरएसएस ने कहा कि वाजपेयी केवल एक “मुखौटा” थे और वे असली शक्ति थे.
आरएसएस और मोदी: सत्ता का बदलता समीकरण
मोदी आरएसएस के साथ अपने व्यवहार में कहीं ज़्यादा चतुराईपूर्ण रहे हैं. उन्होंने न सिर्फ उन्हें राज्य के पदों पर कब्जा करने दिया है, जिन्हें वे पसंद करते हैं, बल्कि उन्होंने आरएसएस को यह भी आभास दिया है कि वे उनके वैचारिक एजेंडे को पूरा कर रहे हैं. अपने कार्यकर्ताओं की कमी के कारण, भाजपा चुनाव के समय पैदल सैनिकों की एक सेना के लिए आरएसएस पर निर्भर है.
Advertisement
Advertisement
प्रधानमंत्री ने चालाकी से एक ऐसा मॉडल बनाया, जिसमें आरएसएस को कुछ सांस्कृतिक और शैक्षणिक संस्थानों को अपने खेल का हिस्सा बनाने की अनुमति देने के बदले में उन्हें पूर्ण शक्ति प्राप्त है. यह दोनों के लिए फायदेमंद रहा है.
Advertisement
लेकिन 2024 में भाजपा के बहुमत से चूक जाने से चीजें नाटकीय रूप से बदल गई हैं. “400 पार” तो भूल ही जाइए, भाजपा 272 का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाई. वो हिंदुत्व के गढ़ अयोध्या (फैजाबाद सीट) के साथ-साथ एससी और एसटी निर्वाचन क्षेत्रों में भी हार गई, जिसे आरएसएस दशकों से अपने पाले में लाने की कोशिश कर रहा था. इसके अलावा, भागवत के बाद, आरएसएस के सदस्य इंद्रेश कुमार ने “अहंकार” के खिलाफ आवाज उठाई, जिसने भाजपा को 240 सीटों पर रोक दिया.
Advertisement
Advertisement
अब तक, मोदी ने जनादेश को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है, लेकिन उनके और आरएसएस के बीच सत्ता का समीकरण, जो कभी उनके पक्ष में था, अब दूर होने लगा है. अगर यह स्पष्ट हो जाता है कि मोदी वोट पकड़ने वाले से वोट भगाने वाले में बदल गए हैं, तो संघ दूसरे विकल्पों की तलाश करने में संकोच नहीं करेगा.
Advertisement
अगर तथाकथित चुनावी संपत्ति एक बासी, पुरानी देनदारी में बदल जाती है, तो वो मोदी को छोड़ने की तैयारी शुरू कर सकता है.
मोदी की निर्मित ‘आभा’ चली गई है. इसी तरह आरएसएस का समर्थन भी चला गया है. मोदी के कमजोर होने के साथ, आरएसएस, जो अब तक मोदी के नेतृत्व में अधीनस्थ स्थिति में था, एक बड़ी भूमिका के लिए जोर दे रहा है.
Advertisement
Advertisement
तो, क्या आरएसएस तुरंत एक नई राजनीतिक व्यवस्था बनाने के लिए जोर देगा? या यह एक अधिक आम सहमति वाले नेता के उभरने का इंतज़ार करेगा? क्या यह उप-प्रधानमंत्री की नियुक्ति के लिए जोर देगा या शीर्ष स्थान में बदलाव की कोशिश करेगा? ये सभी खुले सवाल हैं.
Advertisement
फिलहाल, आरएसएस मुश्किल में फंस गया है. जब एक विभाजनकारी, अभिमानी और दबंग मोदी मतदाताओं को अलग-थलग कर रहे थे, तब चुप रहकर उसने अपनी कब्र खुद खोदी. अब, आखिरकार बोलकर, यह नैतिक उच्च आधार खो सकता है जिसकी उसे इतनी कदर है: आप सत्ता के फल की बेतहाशा लालसा नहीं कर सकते और फिर भी यह दावा नहीं कर सकते कि आप इससे बहुत दूर हैं.
Advertisement
Advertisement
(लेखिका अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की राज्यसभा सदस्य हैं. उनका एक्स हैंडल @sagarikaghose है. व्यक्त किए गए विचार निजी हैं.)
Advertisement

Related posts

प्राईवेट डिवलेपर कॉलोनियों में बिजली के लिए नई पॉलिसी: सीएम

admin

मोदी सरकार को कड़ी फटकार एससी बोला न्यायाधिकरणों में अधिकारियों की नियुक्ति न करके अर्द्ध न्यायिक संस्थाओं को ‘शक्तिहीन’ कर रहा है केंद्र

admin

कैथल खाद्य आपूर्ति विभाग ने  खुद खराब राशन डिपो में अन्नपूर्णा योजना के तहत भेजा ,  सीएम फ्लाइंग ने डिपो पर मारा छापा अधिकारियों पर कार्यवाही की बजाए  डिपो को किया सील

atalhind

Leave a Comment

URL