Monday, May 20, 2019
BREAKING NEWS
सूचनाओं को आम जन तक पहुंचाने में सकारात्मकता का संदेश दिया था नारद नेसूरज हुआ प्रचंड़, गर्मी दे रही दंड़, बाजार हुए सुनसानरामकंवर दत्त शर्मा के निधन पर जताया शोक10वीं के परिक्षा परिणाम में डी लाईट हाई स्कूल की छात्रा प्रिति प्रदेश की टॉप 10 लिस्ट मेंविद्या रानी दनौदा ने नरवाना विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं का आभार व्यक्त करने व आपसी भाईचारा बनाए रखने के लिए आभार व्यक्त कियाजॉब के लिए एक बेहतरीन सीवी तैयार करना भी अति आवश्यक-पवन भारद्वाजहरियाणा सरकार वापस ले सकती है अपना फैंसला हरियाणा में नहीं चलेंगी किलोमीटर स्कीम में निजी बसें हरियाणा-पंजाब में उजागर हुआ जीएसटी महाघोटाले का खेल विद्यार्थी, झूल रहे हैं मौत का फंदा !फीस प्रतिपूर्ति के दावे के लिए जिलों को आदेश, जल्द होगा भुगतान, 26756 विद्यार्थियों को स्कूल अलाट की शुरू होगी प्रक्रिया

Political

विधायक जयतीर्थ की हाईकमान से मांग मध्यप्रदेश नहीं, पंजाब का फार्मूला हरियाणा में कारगर

May 11, 2018 06:30 PM
रणबीर रोहिल्ला

विधायक जयतीर्थ की हाईकमान से मांग
मध्यप्रदेश नहीं, पंजाब का फार्मूला हरियाणा में कारगर
पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा का मांगा नेतृत्व

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।

 

राई से कांग्रेस विधायक जयतीर्थ दहिया ने हाईकमान से मांग की है कि पंजाब की तर्ज पर हरियाणा में एक नेता के नेतृत्व का फार्मूला लागू किया जाए। उन्होंने कहा कि सामूहिक नेतृत्व के फार्मूले को लेकर जो चर्चा चल रही है, वह हरियाणा में कारगर नहीं है। दहिया ने कहा कि यहां मध्यप्रदेश का नहीं, बल्कि पंजाब का ही फार्मूला लागू करना होगा और पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा को नेतृत्व की कमान देगी होगी।
यहां जारी एक बयान में जयतीर्थ दहिया ने कहा कि सामूहिक नेतृत्व की जरूरत उन राज्यों में होती है, जहां किसी एक नेता का प्रभाव ना हो या फिर राज्य जातियों में बंटा हो। हरियाणा मे ऐसा कुछ नहीं है और यहां पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा सर्वमान्य नेता के तौर पर विकल्प मौजूद हैं। इनकी अगुवाई में सारे नेता एक ही मंच पर एकत्रित हो सकते हैं। दूसरा हरियाणा इतना बड़ा राज्य भी नहीं है, जहां कई नेतृत्व की जरूरत हो। ऐसे में सामूहिक नेतृत्व का फार्मूला यहां कारगर साबित हो ही नहीं सकता है।
राई विधायक दहिया ने कहा कि यहां तो पंजाब की तरह एक की नेता को नेतृत्व की कमान देनी होगी, तभी कांग्रेस का राज और सत्ता में वापसी संभव है। उन्होंने कहा कि इसके लिए पूर्व सीएम हुड्डा के अलावा कोई विकल्प मौजूदा स्थिति में है ही नहीं। इस बाबत पहले ही जब पार्टी पदाधिकारी हाईकमान को लिखित में एक फैसला दे चुके हैं, तो फिर सामूहिक नेतृत्व की मांग या इस तरह के विचार का कोई औचित्य भी नहीं बनता है। हाईकमान को जनभावनाओं के अनुरूप फैसला लेना चाहिए।

Have something to say? Post your comment

More in Political

भाई किन्ने ही पूछ लियो, बणेगा तो यू मोदी यै : मनोहर लाल

नरेंद्र मोदी का हाथ मजबूत करने का काम प्रदेश की जनता करेगी : रामबिलास शर्मा

सोनीपत बनी सबसे हॉट सीट, राजनीति के दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर

श्रुति चौधरी के नामांकन पर उमड़ी भीड़ ने बदले राजनैतिक समीकरण

कृष्णपाल गुर्जर ने चुनावी सभा में मनमोहन गर्ग को दिया विधानसभा के लिये आशीर्वाद।

उचाना हल्का से अनुराग खटकड़ इनेलो के सबसे मजबूत उमीदवार

चुनावी समय में नेता पहुंचने लगे हैं पंडितों की शरण में जीत के लिए अपना रहे हैं ज्योतिष के टोटकें

चप्पल व झाडू मिलकर करेंगे विपक्षी पार्टियों का सफाया: दुष्यंत चौटाला

हिसार में भाजपा ने अपने पैरों पर मारी कुल्हाड़ी,बृजेंद्र सिंह को टिकट देकर हाथ आई जीत गंवाई

भाजपा की सोच दलित विरोधी: रणदीप सुरजेवाला