Friday, May 24, 2019
BREAKING NEWS
भाजपा प्रत्याशी संजय भाटिया करीब 6 लाख 56 हजार 142 मतों से हुए विजयी* मतगणना शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न: जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त विनय प्रताप सिंहभाजपा के नवनिर्वाचित सांसद नायब सैनी ने कैथल में कार्यकर्ताओं के साथ मनाया जश्नजनता ने की भाजपा की नीतियों मे कि आस्था व्यक्त : सुर्या सैनीजनता ने प्रदेश सरकार व केन्द्र सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों पर लगाई अपनी मोहर : सुरेश कश्यपपरिवारवाद हारा,जनता जीती -मनोहर लाल मां ने जींद जिले में तो अब बेटे ने हिसार में खिलाया कमलतंवर की प्रधानगी में हर चुनाव हारी कांग्रेस, हुड्डा की दावेदारी भी खतरे मेंचार्जशीट पर बोले कुछ पार्षद, पार्षद प्रतिनिधि व नेता करते हैं निजी कार्यों के लिए ब्लैकमेल ,इसलिए करते हैं ऐसी बेतुकी बातें : सिंहकैथल पुलिस चौकना ,महिला पुलिस व अर्धसैनिक बल के करीब 850 कर्मचारी व अधिकारी तैनात रहेगेकेंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह के गोद लिए मांडी गांव के राजकीय हाई स्कूल को जड़ा ग्रामीणों ने ताला

Uttar Pradesh

क्या है शुकुल बाजार में खास, अधिकारियों को स्थानान्तरण नहीं आता रास ?

May 27, 2018 05:04 PM
सुरजीत यादव अमेठी

क्या है शुकुल बाजार में खास, अधिकारियों को स्थानान्तरण नहीं आता रास ?

अमेठी। यह बुद्धिजीवियों के बीच होने वाली चर्चा का ही एक अंश है। जो अधिकारी व कर्मचारी के स्थानान्तरण और पुनरागमन के समय सुनने को मिल जाती हैं। इस क्षेत्र में ऐसी क्या खासियत है। जो अधिकारी व कर्मचारी को रास आ गई और क्षेत्र से अन्यत्र ट्ांसफर होने पर बेहद चिंतित देखे जाते हैं।

विकास क्षेत्र बाजार शुक्ल जनपद के आखिरी छोर पर गोमती के किनारे स्थिति हैं। ट्ांसफर और पोस्टिंग के बीच से गुजरना यह तो प्रशासनिक व्यवस्था की प्रक्रिया में है। किन्तु बाजार शुक्ल में जो अधिकारी व कर्मचारी पोस्ट होते हैं और समयावधि के बाद यदि स्थानान्तरण होने की बात आती हैं तो उन्हे बेहद चिंतित होते देखा जाता है । मिशाल के तौर पर बाल विकास परियोजना कार्यालय में लिपिक पद पर विजय मिश्र कार्यालय स्थापना से ही तैनात हैं। हाल ही में विकास क्षेत्र से अन्यत्र ब्लॉक को स्थानान्तरण हुआ है। कोई एक-दो तो इसी को व्यवस्थित करने में तनावग्रस्त दिखें। और कामयाब भी हो गये। और फिर बाजार शुकुल में ग्राम विकास अधिकारी पद पर कार्यरत हो गये। और कुछ तो दौड़-धूप के पश्चात् लौट आने का आश्वासन कहीं से पाने के बाद शानत तो हैं किन्तु पूर्ण शान्ति तो तभी है जब बाजार शुकुल पुनः लौट आये। यह तो ट्ांसफर और पोसि्ंट के चक्र में आने से और बाजार शुकुल छोड़ने की बात से उत्पन्न चिंता। एक बानगी है ग्राम विकास अधिकारियों, अध्यापाकों, या फिर थाना बाजार शुकुल में तैनात रहें सिपाहियों की। यह कोई नई बात नहीं है अक्सर ऐसा होता और वे फिर बाजार शुकुल में आकर पुनः वैसी ही राहत की सॉस लेते है। जैसे तड़पती मछली जल पाकर। वैसे पानी तो मछली का प्राण है। बिना इसके जीवन सम्भव नही है। परन्तु अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए बाजार शुकुल में क्या खास है कि इस क्षेत्र अन्यत्र के लिए स्थानान्तरण रास नहीं आता । बहरहाल इसे तो वे अधिकारी व कर्मचारी ही जान सकते है जिसे इसकी लग गई है।

Have something to say? Post your comment

More in Uttar Pradesh

कई अधिकारियों के निलंबन का फरमान,हाईकोर्ट का यूपी में चल रहे सभी रेड लाइट एरिया बंद करने का आदेश

छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किया बरसण्डा गॉव में चुनावी जनसभा को सम्बोधित

हम महिलाओं को देंगे 6 हजार रूपये महीने, मोदी से डरती है मीडिया- राहुल गांधी

ललित कला अकादमी अलीगंज में कलाकारों का सम्मान, कला प्रदर्शनी का समापन

अजय क्रांतिकारी व रवि अग्रहरी पत्रकार की सहायता से घायल बेजुबान बैल को मिला नया जीवनदान

योगी आदित्यनाथ 72 घंटे तक मायावती 48 घंटे तक चुनाव प्रचार नही करेंगे

10 दिन के अंदर मिलेगा ड्राइविंग लाइसेंस, आज से बदल जाएगी व्यवस्था

झूठी खबर फैलाने वाले बीएसपी एजेंट पर मुकदमा दर्ज।

यूपी-उत्तराखंड : गाजियाबाद, बिजनौर और बागपत से ईवीएम खराब होने की खबरें, मतदान प्रभावित

गठबंधन में पश्चिमी उत्तर प्रदेश–‘लाठी, हाथी और 786