Friday, June 21, 2019
 
BREAKING NEWS
मिशन 2024 पर निकले रणदीप सुरजेवाला,किसान कांग्रेस के जरिए पूरे प्रदेश में समर्थकों को किया एडजैस्टहिमाचल में बस 500 फीट गहरी खाई में गिरी, 28 की मौत; 32 घायलफरीदाबाद की एक और बेटी तनीषा दत्ता ने किया देश का नाम रौशनयोग करता है मन की वृतियों को नियंत्रण में, होती है मानसिक, शारीरिक, अध्यात्मिक स्वास्थ्य की प्राप्ति : आरके सिंहभाजपा आईटी सेल के बनाए ग्रुपों में राजकुमार सैनी के खिलाफ अफवाह चलाने की चर्चाएं !करवाएंगे केस दर्ज : सैनीकैथल खाद्य एवं आपूर्ति विभाग को कैशलेस करने की योजना !कैथल की सरकार पर भ्रष्टाचार मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद भी कोई कार्रवाई न होना बना रहा हास्यास्पद स्थिति !नही चले अयुष्मान कार्ड, बेटे के ईलाज के लिए दर-दर भटक रहे परिजनमर रही थी गाये, न खाने के लिए प्रर्याप्त चारा न की जाती थी देखभाल डीसीआरयूएसटी में एम.एससी. कैमिस्ट्री बना हुआ है टॉप च्वाइस. कैमिस्ट्री में 261 व पीएच.डी में कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में 85 ने किया आवेदन

Haryana

क्यों करना चाहिए व किसलिए जरूरी है श्राद्ध?

September 25, 2018 06:42 PM
सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट

क्यों करना चाहिए व किसलिए जरूरी है श्राद्ध?
श्राद्ध के तुरंत पश्चात जरूरी है गऊ माता की सेवा करना, इससे खुश होते हैं पितर: जयकरण शास्त्री


सतनाली मंडी (प्रिंस लांबा)।

 

श्राद्ध क्यों करना चाहिए व किस विधि द्वारा करना चाहिए, इस बारे में जब पंडित जयकरण शास्त्री नांगलमाला से बात कि तो उन्होंने बताया कि बह्मा पुराण के अनुसार जो भी वस्तु उचित काल या स्थान पर पितरों के नाम, उचित विधि द्वारा ब्राह्मणों या गऊ माता को श्रद्धापूर्वक दी जाए, वह श्राद्ध कहलाता है। श्राद्ध के माध्यम से पितरों को तृप्ति के लिए भोजन पहुंचाया जाता है। पिण्ड रूप में पितरों को दिया गया भोजन श्राद्ध का अहम हिस्सा होता है।

क्यों जरूरी है श्राद्ध?
इस बारे में शास्त्री बताते हैं कि लोगों में मान्यता है कि अगर पितर रुष्ट हो जाएं तो मनुष्य को जीवन में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। पितरों की अशांति के कारण धन हानि और संतान पक्ष से समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। ऐसे लोगों को पितृ पक्ष के दौरान श्राद्ध अवश्य करना चाहिए।

क्या दिया जाता है श्राद्ध में?
पंडित जयकरण ने बताया कि श्राद्ध में तिल, चावल, जौ आदि को अधिक महत्त्व दिया जाता है। श्राद्ध में तिल और कुशा का सर्वाधिक महत्त्व होता है। श्राद्ध में पितरों को अर्पित किए जाने वाले भोज्य पदार्थ को पिंडी रूप में अर्पित करना चाहिए। श्राद्ध का अधिकार पुत्र, भाई, पौत्र, प्रपौत्र समेत महिलाओं को भी होता है।

श्राद्ध में कौए का महत्त्व:
कौए को पितरों का रूप माना जाता है। मान्यता है कि श्राद्ध ग्रहण करने के लिए हमारे पितर कौए का रूप धारण कर नियत तिथि पर दोपहर के समय हमारे घर आते हैं। अगर उन्हें श्राद्ध नहीं मिलता तो वह रुष्ट हो जाते हैं। इस कारण श्राद्ध का प्रथम अंश कौओं को दिया जाता है।

किस दिन करना चाहिए श्राद्ध?
इस बारे में पंडित जयकरण शास्त्री बताते हैं कि सरल शब्दों में समझा जाए तो श्राद्ध दिवंगत परिजनों को उनकी मृत्यु की तिथि पर श्रद्धापूर्वक याद किया जाना है। अगर किसी परिजन की मृत्यु प्रतिपदा को हुई हो तो उनका श्राद्ध प्रतिपदा के दिन ही किया जाता है। इसी प्रकार अन्य दिनों में भी ऐसा ही किया जाता है। इस विषय में कुछ विशेष मान्यता भी है जो इस प्रकार हैं:
1. पिता का श्राद्ध अष्टमी के दिन और माता का नवमी के दिन किया जाता है।
2. जिन परिजनों की अकाल मृत्यु हुई यानि जो किसी दुर्घटना या आत्महत्या के कारण मृत्यु को प्राप्त हुए हों उनका श्राद्ध चतुर्दशी के दिन किया जाता है।
3. साधु और संन्यासियों का श्राद्ध द्वादशी के दिन किया जाता है।
4. जिन पितरों के मरने की तिथि याद नहीं है, उनका श्राद्ध अमावस्या के दिन किया जाता है। इस दिन को सर्वपितृ श्राद्ध कहा जाता है।

 


फोटो कैप्शन: पंडित जयकरण शास्त्री नांगलमाला फाईल फोटो।

Have something to say? Post your comment

More in Haryana

फरीदाबाद की एक और बेटी तनीषा दत्ता ने किया देश का नाम रौशन

योग करता है मन की वृतियों को नियंत्रण में, होती है मानसिक, शारीरिक, अध्यात्मिक स्वास्थ्य की प्राप्ति : आरके सिंह

भाजपा आईटी सेल के बनाए ग्रुपों में राजकुमार सैनी के खिलाफ अफवाह चलाने की चर्चाएं !करवाएंगे केस दर्ज : सैनी

कैथल खाद्य एवं आपूर्ति विभाग को कैशलेस करने की योजना !

कैथल की सरकार पर भ्रष्टाचार मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद भी कोई कार्रवाई न होना बना रहा हास्यास्पद स्थिति !

मर रही थी गाये, न खाने के लिए प्रर्याप्त चारा न की जाती थी देखभाल

डीसीआरयूएसटी में एम.एससी. कैमिस्ट्री बना हुआ है टॉप च्वाइस. कैमिस्ट्री में 261 व पीएच.डी में कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में 85 ने किया आवेदन

हरियाणा में आई नौकरिया ,हरियाणा विधानसभा, उच्च न्यायालय और जिला न्यायालयों के लिए

मनोहर लाल खुद करते है सरल पोर्टल की निगरानी ,कोई अधिकारी सरल पोर्टल के प्रति लापरवाही करेगा तो उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही

धरोदी माईनर को भाखड़ा नहर से जोडऩे की मांग पर 11 गांवों का अनिश्चितकालीन धरना शुरू