Tuesday, June 25, 2019
 
BREAKING NEWS
लुप्त हुए "तरावड़ी गेट' और 'बाजारी गेट' कुछ हिस्सा बचने पर ऐतिहासिक करनाली गेट का होगा पुन: निर्माणइंडिया टीम में तेज गेंदबाजी कर परचम लहराऐगा तरावड़ी का नवदीप सैणीनशा मुक्ति दिवस पर 26 जून को सैमिनार, बुद्धिजिवी वर्ग तथा सामाजिक संस्थाए करेंगी प्रतिभागी प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना लागू ,गरीब व्यक्ति को भी आर्थिक लाभ मिलेगा -डीसी दीपेंद्र को हरियाणा कांग्रेस प्रधान बनवाने के लिए बड़ी ताकतें हुई लामबंद,कांग्रेस के आधा दर्जन बड़े नेता कर रहे सामूहिक प्रयासनगर परिषद कैथल के सफाई कर्मचारियों ने सर्वसम्मति से अंगूरी देवी को चुना प्रधान पत्रकार संघ के प्रदेशाध्यक्ष बने तरावड़ी के संजीव चौहानलाड़वा हल्के मे मल्टीपल खेल स्टेडिरूम बनवाना होगा प्राथमिकता : संदीप गर्गमुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व मे लाड़वा हल्के ने छुए विकास के नए आयाम : पवन सैनी भाजपा विधायक ने मंत्री के सामने लगाए एसपी मुर्दाबाद के नारे

Uttar Pradesh

विवेक हत्याकांड : पुलिस वाले चिल्लाते हुए कार के सामने आए और गोली मार भाग गए

September 30, 2018 04:35 AM
अटल हिन्द ब्यूरो

विवेक हत्याकांड : सना ने बताई सच्चाई, कहा- पुलिस वाले चिल्लाते हुए कार के सामने आए और गोली मार भाग गए लखनऊ: मल्टीनेशनल कंपनी एपल में मैनेजर के पद पर तैनात विवेक तिवारी की कार नहीं रोके जाने पर यूपी पुलिस द्वारा गोली मार दिए जाने के मामले की एकमात्र चश्मदीद गवाह सना खान भी मीडिया के सामने आई हैं. पुलिस की मौजूदगी में सना ने घटना के बारे में बताया है कि कैसे और किन परिस्थितियों में पुलिस ने विवेक तिवारी पर गोली चला दी. सना ने बताया कि पुलिस वाले अचानक सामने आए और गोली मारकर भाग गए. सना खान ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि एपल फोन की लॉन्चिंग के बाद हम घर जा रहे थे. विवेक सर के पास कार थी, इसलिए उन्होंने पहले मुझे पहले मेरे घर छोड़ने को कहा. हम गोमती नगर में थे. इसी दौरान दो पुलिस वाले हमारी गाड़ी को रोकने का प्रयास करने लगे. विवेक सर ने अकेले और महिला साथ होने के कारण कार नहीं रोकी. उन्हें लगा कि पता नहीं कौन है. कार तेज नहीं चल रही थी. फिर अचानक दोनों पुलिस वाले कार के सामने आ गए. एक ने डंडा लिए था, दूसरे के पास बंदूक थी. दोनों में से एक ने गाड़ी के शीशे पर लाठी मारी. इसके बाद दो ढाई मीटर दूरी से बिना कुछ कहे चिल्लाते हुए गोली मार दी. गोली विवेक सर को लग जाती है. इसके बाद भी वह गाड़ी चलाते रहते हैं, जब वह बेहोश हुए तो गाड़ी आगे पिलर में टकरा गई. सना ने बताया कि इसके बाद वो दो पुलिस वाले कहीं नजर नहीं आते हैं. फिर मैं कार से उतरी. कल इत्तेफाक से मेरा फोन घर पर ही छूट गया था. मैंने वहां खड़े ट्रक वालों से और गुजरने वाले लोगों से मदद के लिए फोन मांगा ताकि किसी को फोन कर सके, लेकिन चीखने चिल्लाने के बाद भी किसी ने उसकी मदद नहीं की. सना बताती है कि थोड़ी देर बाद पुलिस आई और विवेक सर को लोहिया अस्पताल ले गई. और उसे जीप में बैठा लिया. सना का कहना है कि सुबह चार बजे तक पुलिस उसे जीप में बैठाकर घुमाती रही, कई थानों में ले गई. सना ने कहा कि वहां कोई एक्सीडेंट नहीं हुआ न ही पुलिस वालों पर कार चढ़ाई. ये बात गलत है.

Have something to say? Post your comment

More in Uttar Pradesh

अमेठी में पंचायत उपचुनाव को लेकर बजा बिगुल, डॉ योगेश कुमार बनाये गये बाजार शुक्ल चुनाव अधिकारी

लालगंज-धर्मेन्द्र प्रताप सिंह बनें श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के जिला आइटी सेल प्रभारी

लालगंज-धर्मेन्द्र प्रताप सिंह बनें श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के जिला आइटी सेल प्रभारी

स्मृति ईरानी ने आज फिर जीता अमेठी वासियो का दिल, कैसे देखिए वीडियो

एक्सीडेंट में 4 की मौत

अमेठीः जनहित की समास्याओं को लेकर किसान यूनियन ने लगाई चौपाल, कहा मजबूर होकर करना पड़ेगा आन्दोलन

सेक्स रैकेट, गिड़गिड़ाने लगी पकड़ी गई लड़की, बोली- छोड़ दीजिये, 2 दिन बाद शादी है

ननकऊ साहू बने ब्लॉक अध्यक्ष, रमेश तिवारी जिला उपाध्यक्ष

साहब : भूमाफिया जबरन कर रहे जमीन पर अवैध कब्जा

संत महंत ने उठाया राम मंदिर निर्माण का मुद्दा, कल बैठक में होंगे कई बड़े फैसले..!!