Wednesday, June 19, 2019
 
BREAKING NEWS
मनोहर सरकार ने जनहित की योजनाओं और सुशासन की बदोलत जीता जनता का दिल : डॉ. गणेश दत्तश्री अमरनाथ सेवा मंडल की शाखा पूंडरी द्वारा 24वें भंडारे की सामग्री रवानापृथ्वी एक देश है और हम सभी इसके नागरिक हैंधड़ाधड़ बड़े-बड़े मामले सुलझाने वाले इंस्पेक्टर नवीन पाराशर की आईजी हनीफ कुरेशी ने थपथपाई पीठ शव नग्नावस्था में मिला,बेरहमी से सिर में ईंट माकर हत्या किसानों की आय दोगुनी हो इसके लिए केन्द्र व राज्य सरकार दृढ़ संकल्प: विपुल गोयलआरटीए कार्यालय पर चला मुख्यमंत्री का डंडा कार्यालय में बुलाकर पीड़ित को दी बगैर हस्ताक्षर की रसीद बिना बताए बीडीपीओ बावल ने लिया अवकाश, 4 दिन का वेतन रूका भाजपा नए चेहरे पर विश्वास जताकर मैदान में उतारेगी युवा चेहरा : कौल कानूनी साक्षरता शिविरों का आयोजन किया

Haryana

घरौंडा-अवैध तरीके से रेत निकालकर ट्रैक्टर-ट्रालियों में भरकर बेच रहे है महंगे दामों पर

October 03, 2018 12:49 AM
प्रवीण कौशिक

घरौंडा-अवैध तरीके से रेत निकालकर ट्रैक्टर-ट्रालियों में भरकर बेच रहे है महंगे दामों पर
माइनिंग विभाग के अधिकारीयों ने आंखें मुंदी
घरौंडा, प्रवीण कौशिक
गढ़ी सिकंदरपुर गांव के पास दिल्ली पैरलर नहर में अवैध खनन को लेकर माइनिंग अधिकारी कतई गंभीर नही है। आस-पास के ग्रामीण नहर से अवैध तरीके से रेत निकालकर ट्रैक्टर-ट्रालियों में भरकर महंगें दामों पर बेच रहे है। लेकिन माइनिंग विभाग के अधिकारी इस ओर से अपनी आंखें मुदें बैठे है। माइनिंग अधिकारियों का तर्क है कि हमें नहर से अवैध खनन की कोई शिकायत नही मिली है। हां, दो-तीन साल पहले कंपलेंट मिली थी और हमने शिकंजा कस दिया था। उसके बाद रेत इतना सस्ता हो गया था कि कोई चोरी करने की जहमत ही नही उठता था। फिर भी हम जांच करेंगे। एक तरफ ग्रामीण नहर से रेत निकालते जा रहे है और दूसरी तरफ खनन विभाग अतीत में खोया हुआ है। एक बार कार्रवाई करने के बाद विभाग इस तरफ झांका तक नही और नहर में अवैध माइनिंग का यह धंधा लगातार फलफूल रहा है।

(MOREPIC1)
पानी बंद होते ही रेत पर टूट पड़ते है ग्रामीण-
दिल्ली पैरलर नहर से अवैध तरीके से रेत निकालने का यह खेल आज से नही, पिछले कई महीनों से चल रहा है। जब भी नहर का पानी पीछे से बंद कर दिया जाता है तो ग्रामीण नहर में माइनिंग का काम शुरू कर देते है। गांव के महिला-पुरूष व बच्चें तसले व फावड़े लेकर नहर में उतरकर रेत को एकत्रित करने में जुट जाते है और जगह-जगह पर रेत के ढेर लगाते जाते है। इसके बाद इस रेत को नहर के किनारे खड़ी ट्रैक्टर-ट्राली में भरकर चार से पांच हजार रुपए प्रति ट्राली के हिसाब से बेच देते है। इतना ही नही कई ग्रामीणों ने तो रेत के बड़े-बड़े ढेर नहर के किनारे लगा रखें। इनको ऐसा करने से न तो आस-पास की ग्राम पंचायतें रोकती है और ना ही प्रशासन का कोई नुमाइंदा। जिस कारण यह अवैध धंधा जोरों पर है।
मैं एक्शन लूंगी-
इस संंबंध में जब माइनिंग विभाग की अधिकारी माधवी गुप्ता से बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस प्रकार का इनपुट हमारी नॉलेज में नही आया है। करीब दो-तीन साल पहले अवैध माइनिंग की शिकायत हमारे पास आई थी तो हमने कार्रवाई कर दी थी। उसके बाद ऐसा कुछ सामने नही आया और रेत के दाम भी कम हो गए थे। कौन चोरी करने की जहमत उठाता। फिर हम इस मामले को लेकर मौके का मुआयना करूंगी और एक्शन लिया जाएगा।
फोटो केप्शन-दिल्ली पैरलर नहर में अवैध खनन करते ग्रामीण तथा नहर के किनारे लगाए गए रेत के ढेर

Have something to say? Post your comment

More in Haryana

श्री अमरनाथ सेवा मंडल की शाखा पूंडरी द्वारा 24वें भंडारे की सामग्री रवाना

धड़ाधड़ बड़े-बड़े मामले सुलझाने वाले इंस्पेक्टर नवीन पाराशर की आईजी हनीफ कुरेशी ने थपथपाई पीठ

किसानों की आय दोगुनी हो इसके लिए केन्द्र व राज्य सरकार दृढ़ संकल्प: विपुल गोयल

आरटीए कार्यालय पर चला मुख्यमंत्री का डंडा कार्यालय में बुलाकर पीड़ित को दी बगैर हस्ताक्षर की रसीद

बिना बताए बीडीपीओ बावल ने लिया अवकाश, 4 दिन का वेतन रूका

भाजपा नए चेहरे पर विश्वास जताकर मैदान में उतारेगी युवा चेहरा : कौल

कानूनी साक्षरता शिविरों का आयोजन किया

रोजगार मेले का आयोजन किया जाएगा

मत्स्य पालन विभाग द्वारा जिला में वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी-प्रियंका सोनी

सिवानी में कबीर जयंती पर कार्यक्रम 23 को ।