Friday, May 24, 2019
BREAKING NEWS
कैथल में दो दर्जन बदमाशों ने एक आढ़ती को भिंडो के साथ पिटने के मामले में मंडी बंद38 गांव में बृजेंद्र 27गांव में जीते दुष्यंत दुष्यंत करसिंधु में तो बृजेंद्र सिंह डूमरखां कलां में सबसे अधिक मत से जीतबड़े बड़े राजनीतिक धुरंधर हुए धराशाही , राहुल और प्रियंका भी कांग्रेस का काँटा निकालने से नहीं बचा पाए बड़े बड़े राजनीतिक धुरंधर हुए धराशाही , राहुल और प्रियंका भी कांग्रेस का काँटा निकालने से नहीं बचा पाए 23 मई को जन्मे बच्चे का नाम रखा मोदीअशोक अरोड़ा ने अपने पद से दिया त्यागपत्रसिवानी मण्डी के किसानों ने फसलों के भुगतान की मांग की।पुतिन से लेकर ट्रंप तक, हर देश ने दी PM मोदी को बधाईभाजपा प्रत्याशी संजय भाटिया करीब 6 लाख 56 हजार 142 मतों से हुए विजयी* मतगणना शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न: जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त विनय प्रताप सिंहभाजपा के नवनिर्वाचित सांसद नायब सैनी ने कैथल में कार्यकर्ताओं के साथ मनाया जश्न

Literature

सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका

October 22, 2018 05:43 PM
रणबीर रोहिल्ला

सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका
सुरक्षा के लिए कंट्रोल रूप के साथ लगाए गए है सीसीटीवी कैमरे
मठ के मंहत बाबा बालकनाथ दे रहे है भक्तों को आर्शीवाद


रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।

गांव मोई में सोमवार से आसज शुददी चोद्स के अवसर पर लगने वाला दो दिवसीय बाबा जिंदानाथ मेला आरंभ हो गया है। मेले के पहले दिन दूर दराज से काफी संख्या में श्रद्धालुओं ने पहुंचकर माथा टेका और मन्नत मांगी। श्रद्धालुओं ने बाबा की समाधि पर पूजा अर्चना कर मन्नत मांगी। डेरे के मंहत बाबा बालकनाथ ने भक्तों को अध्यात्म चितंन, मंगलकारी प्रवचन और बाबा की शिक्षाओं का संगीतमय दिव्य संदेश दिया। मंहत बाबा बालकनाथ ने बताया कि श्रद्धालुओं की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए समाधि की मर्यादा को बनाए रखने के लिए ऐसी व्यवस्था की गई कि भीड़ ना बने इसके लिए समाधि का क्षेत्र का विस्तार किया गया है। भक्त आसानी से समाधी की परिक्रमा कर रहे है। महंत ने कहा कि जिसकी हम पूजा करते हैं तो उसके प्रति श्रद्धा होती है, यहां पर आने श्रद्धालुओं में अपने ईष्ट के प्रति श्रद्धा है। बाबा जिंदा नाथ पर आने वाले श्रद्धालु रसौली, मच्छ और पशुओं की बीमारियां को दूर करने के लिए डोरे व भभूत लिया।
सीसीटीवी कैमरों से निगरानी
बाबा जिंदा नाथ सेवा समिति के मुख्य सेवक सुखू ने बताया कि स्वयं सेवकों में अपार श्रद्धा है समर्पण है। मेले में व्यवस्थाओं में श्रद्धालुओं का पूरा सहयोग मिल रहा है। उनका बाबा जिंदा के प्रति श्रद्धा भाव है, उनकी सुविधा का ध्यान रखते हुए पूरे मेले में सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जा रही है। इसके लिए एक कंट्रोल रुम बनाया गया है, यहां पर सिक्योरिटी के सदस्य और पुलिस कर्मी पल-पल की गतिविधियों पर नजर रखे हुए हैं।
दो गज जमीन फटने से 300 साल पहले एक साधु जिंदा समा गया
मोई गांव स्थित बाबा जिंदानाथ डेरे में प्रति वर्ष आसुज (आश्विन) और चैत्र माह में मेला लगता है। जिसमें देश के विभिन्न भागों से लाखों श्रद्धालु मनोकामना लेकर आते हैं। यहां मान्यता है कि मनोकामना पूरी होने पर प्रसाद के रूप में गुड़ चढ़ाया जाता है। साथ ही कंबल चढ़ाने की परंपरा भी है। किंवदन्ती यह है कि 300 वर्ष पहले मोई गांव में राणा गौत्री जाटकुल में एक बालक का जन्म हुआ, जिसका नाम जसपाल रखा गया। बड़ा होने पर वह पशुओं को चराने के लिए बणी में जाने लगा। एक दिन उसको सिद्धश्री मस्तनाथ मिले। बाबा मस्तनाथ ने जसपाल से खीर खाने की इच्छा प्रकट की। लेकिन उस समय सारे पशु गांव में जा चुके थे। संयोगवंश तभी वहां बिन बयात की भैंस आ गई। उससे बाबा ने दूध निकालने की बात कहकर उसे अपना कमन्डल दे दिया। देखते ही देखते भैंस ने दूध देना शुरू कर दिया। खीर बनाकर बाबा को खिलाई। बाबा ने जसपाल को झूठी खीर खाने को कहा, तो उसने मनाकर दिया, लेकिन कुछ ही देर के बाद भूख सताने लगी तो उसने खीर खा ली। तब से जसपाल में वैराग्य जागृत होने लगा और वे बाबा मस्तनाथ के पास चले गए। सिद्ध बाबा मस्तनाथ ने जसपाल को अपना शिष्य बनाकर वरदान दिया कि जहां जगह मिले, वहीं जाकर भजन करो और आसुज सुधी चौदस के दिन दो गज जमीन फट जाएगी। उसमें जिंदा समाधि ले लेना। तो तुम बाबा जिंदा के नाम से पहचाने जाओगे। आसुज सूधी चौदस के दिन जसपाल समाधि ले रहे थे। तभी एक ब्राह्मण ने देख लिया। उसने उनके घर जाकर बताया तो उसकी भाभी समाधि लेने वाले स्थान पर आई और समाधि में उसके साथ समाने की जिद करने लगी। तब जसपाल ने कहा कि मेरा हाथ पकड़ लो, देवर-भाभी दोनों ही जमीन में समा गए तब से ही जसपाल को श्रद्धालु बाबा जिंदा के नाम से पूजने लगे।

Have something to say? Post your comment

More in Literature

मिश्रित फल देगा नव विक्रम सम्वत-2076, होंगे राजनैतिक परिवर्तन मिथुन, तुला और कुम्भ राशि और लग्न वालों को लाभ होगा

सिद्ध श्री बाबा बालक नाथ जी प्रचार समिति फरीदाबाद भजनो भरी शाम बाबा जी के नाम का आयोजन किया

सरस्वती अन्नपूर्णा भण्डारा सेवा समिति द्वारा सरस्वती मंदिर मे भंडारे का आयोजन किया

पिहोवा-पितरों की आत्मिक शांति के लिए सरस्वती तीर्थ पर पहुंचने लगे श्रद्धालु

6 अप्रैल से परिधावी नामक नवसंवत 2076 एवं चैत्र नवरात्रि आरंभ

होली आई रे .... होलिका दहन, 20 मार्च की रात्रि 9 बजे के बाद, रंग वाली होली 21 को।

गुरू मां सम्मेलन में मिलती है अनोखी अलौकिक शक्तियां : सुरेंद्र पंवार

खाटू श्याम में बाबा का मेला शुरू, श्याममय हुआ समूचा क्षेत्र, प्रतिदिन गुजरने लगे है श्याम प्रेमियों के जत्थे

शीश के दानी का सारे जग में डंका बाजे ने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी एक अलग पहचान बनाई - लखबीर सिंह लख्खा

श्रीमद् भागवत कथा का प्रारंभ आज