Thursday, August 22, 2019
 
BREAKING NEWS
हिसार जिले के नेता राजनीति मे शिखर पर पहुंचे।भगवान श्री कृष्ण के देश में प्लास्टिक और कचरा खाने पर मजबूर गायें?पुंडरी विस से टिकट वितरण में भाजपा ने गड़बड़ी की तो भुगतना पड़ सकता है बड़ा अंजाम पुंडरी विस से टिकट वितरण में भाजपा ने गड़बड़ी की तो भुगतना पड़ सकता है बड़ा अंजाम सुरेंश सैनी प्रधान तो रामऋषि सैनी बने पेक्स रामसरन माजरा के उप प्रधानगीता स्कूलों की शिक्षा के क्षेत्र में अलग पहचान : दहियाधर्मबीर बुधवार प्रधान तो निर्मला देवी बनी पैक्स सुनारियां की उप प्रधानलाडवा हल्का जल्द बनेगा पानी बचाने के लिए नंबर वन : पवन सैनीलाडवा से इनैलो का विधायक बनने पर होंगे महिलाओं के सपने पूरे : बड़शामीजोहड़ का पानी जहरीला होता जा रहा है, 10 साल से लगातार सभी के सामने गिड़गिड़ा चुके हैं, नहीं कोई सुनवाई

National

अनाज मण्डी में किसान, मजदूर व व्यापारी सम्मेलन का आयोजन, हिमाचल के राज्यपाल ने बतौर मुख्यातिथी की शिरकत किसान रसायनिक खेती की बजाये प्राकृतिक खेती के तरीके अपनाएं:- आचार्य देवव्रत

December 04, 2018 12:25 PM
पृृथ्वी सिंह पेहवा

अनाज मण्डी में किसान, मजदूर व व्यापारी सम्मेलन का आयोजन,
हिमाचल के राज्यपाल ने बतौर मुख्यातिथी की शिरकत
किसान रसायनिक खेती की बजाये प्राकृतिक खेती के तरीके अपनाएं:- आचार्य देवव्रत
पिहोवा 02 दिसंबर (पृथ्वी सिंह):-
अनाज मण्डी पिहोवा में प्रदेश उपाध्यक्ष सहकार भारती राजेन्द्र बाखली की अध्यक्षता में किसान , मजदूर तथा व्यापारी सम्मेलन हुआ , जिसमें मुख्यातिथि के तौर पर हिमाचल के राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने शिरकत की। इसके अलावा इस कार्यक्रम के दौरान विधायक प्रेमलता उचाना कलां, विधायक कुलवंत बाजीगर एवं प्रेम गोयल वरिष्ठ प्रचारक आर.एस.एस. ने भी अपने विचार व्यक्त किए। सम्मेलन में अपने संबोधन के शुरू में राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि वह भाषण देने नहीं आये, बल्कि आप सब से बातचीत करने आया हूं। उन्होने कहा कि यदि स्वस्थ जीवन, स्वस्थ पर्यावरण चाहते हो तो रसायनिक खेती को त्यागकर प्राकृतिक खेती अपनाएं। उन्होने कहा कि इस समय कई प्रकार की बीमारियों जैसे कैंसर , शुगर इत्यादि से आम आदमी जुझ रहा है और बीमार लोगों से हस्पताल भरे हुए हैं । यदि हम बीमारियों से छूटकारा पाना चाहते हैं तो हमें प्राकृतिक खेती को अपनाना होगा। उन्होने बताया कि इससे किसान की पैदावार भी ज्यादा होगी और पैदावार बढ़ेगी तो आर्थिक आमदन अधिक होगी। उन्होने बताया कि प्राकृतिक खेती के लिए गुरूकुल कुरूक्षेत्र में नि:शुल्क ट्रेनिंग दी जाती है जो किसान चाहे तो वह जाकर प्राकृतिक खेती बारे ट्रेनिंग ले सकता है। उन्होने विस्तार से बताते हुए कहा कि प्राकृतिक खेती के लिए हमें देसी नसल की गाय को रखना होगा और हम एक गाय के गोबर व गौमुत्र से 30 एकड़ फसल उगा सकते हैं। उन्होने बताया कि रसायनिक खेती का मात्र 50-60 साल पुराना इतिहास है और इस समय के दौरान आर्थिक बोझ से दबते कई किसान आत्महत्या तक कर चुके हैं। क्योंकि रसायनिक खेती में खाद, दवाई का अत्याधिक प्रयोग के कारण किसानों की फसल घटती जा रही है, जिससे किसान आर्थिक तौर पर पिछड़ रहा है। उन्होने एक देसी गाय के गोबर व गौमुत्र तथा बेसन व गुड़ तथा मुठी भर मिट्टी के मिश्रण का प्रयोग करके खेती करने का तरीका भी बताया। उन्होने आम जनता से आह्वान किया कि रसायनिक खेती को त्याग करके प्राकृतिक खेती अपनाएं। इस मौके पर विधायक प्रेमलता, विधायक कुलवंत बाजीगर, प्रेम गोयल प्रचारक आर.एस.एस., दिनेश जिन्दल प्रदेश अध्यक्ष सहकार भारती, अरूण सर्राफ चेयरमैन, जिप सदस्य रिंकू थाना, ईश्वर बाखली, नरेन्द्र तनेजा, संजीव शास्त्री, सरपंच दविन्द्र राणा, नेत्रपाल राणा, सुरेन्द्र ढूल तथा सुखविन्द्र सिंह ग्रेवाल सहित काफी संख्या में किसान मजदूर तथा व्यापारी शामिल थे।
फोटो कैप्शन 02 पिहोवा 01:- हिमाचल के राज्यपाल आचार्य देवव्रत संबोधित करते हुए

 

Have something to say? Post your comment

More in National

भगवान श्री कृष्ण के देश में प्लास्टिक और कचरा खाने पर मजबूर गायें?

लाडवा हल्का जल्द बनेगा पानी बचाने के लिए नंबर वन : पवन सैनी

लाडवा से इनैलो का विधायक बनने पर होंगे महिलाओं के सपने पूरे : बड़शामी

विकास के दावों के विपरित कच्ची पड़ी गली से परेशान है निरंकारी कालोनी के लोग

गरजा सिंह बने नमो नमो मोर्चा के जिला अध्यक्ष

राजीव गांधी की बदौलत हुआ था पंचायतों का सशक्तिकरण : संदीप गर्ग

सरकारी नौकरी मिली तो युवकों ने स्कूल में दिया वाटर कूलर

सरस्वती में पानी चलने से किसानों को होगा फायदा : खट्टर

विपक्षी दलों ने अपने परिवार और भाजपा ने प्रदेश के ढाई करोड़ लोगों के परिवारों को बढ़ाया आगे:मनोहर

परिवर्तन रैली से प्रदेश की गूंगी व बहरी सरकार का सता परिवर्तन होगा: पंजेटा