Wednesday, June 19, 2019
 
BREAKING NEWS
नेहरू युवा केंद्र से जुड़कर युवा नशों और अन्य बुराइयों से बच सकते हैं : अनामिकासेक्स रैकेट, गिड़गिड़ाने लगी पकड़ी गई लड़की, बोली- छोड़ दीजिये, 2 दिन बाद शादी हैजेपी नड्डा को कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने से उनके अनुभवों से पार्टी प्रदेश मे भी तोडेगी रिकार्ड: सतीश राणाभारतीय सेना के जवान पर कातिलाना हमला हमले में जवान बूरी तरह घायल् अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को महाराजा सूरजमल जाट स्टेडियम में योग शिविर आयोजित किया जाएगा।मनोहर सरकार ने जनहित की योजनाओं और सुशासन की बदोलत जीता जनता का दिल : डॉ. गणेश दत्तश्री अमरनाथ सेवा मंडल की शाखा पूंडरी द्वारा 24वें भंडारे की सामग्री रवानापृथ्वी एक देश है और हम सभी इसके नागरिक हैंधड़ाधड़ बड़े-बड़े मामले सुलझाने वाले इंस्पेक्टर नवीन पाराशर की आईजी हनीफ कुरेशी ने थपथपाई पीठ शव नग्नावस्था में मिला,बेरहमी से सिर में ईंट माकर हत्या

National

गांधी परिवार के नजदीक रहे सज्जन सियासी पारी पर सिख दंगों का ग्रहण

December 17, 2018 05:51 PM
राजकुमार अग्रवाल

गांधी परिवार के नजदीक रहे सज्जन
सियासी पारी पर सिख दंगों का ग्रहण
कैथल (राजकुमार अग्रवाल )। 1984 के सिख दंगों की चर्चा चलते ही कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता सज्‍जन कुमार का नाम जुबान पर आ जाता है। आज द‍िल्‍ली हाई कोर्ट ने सज्‍जन कुमार को सिख दंगों के लिए दोषी करार दिया। हालांकि, सज्जन कुमार को 2013 में निचली अदालत ने छोड़ दिया था। उन पर इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सिखों के खिलाफ भड़के दंगों को उकसाने और दंगाइयों को राजनीतिक संरक्षण देने का आरोप था। सीबीआई ने सज्जन कुमार और चार अन्य लोगों पर सिख विरोधी दंगों में छह लोगों की हत्या करने का आरोप लगाया था। लेकिन आप जानते हैं ये सज्‍जन कुमार कौन है। इनके तीन दशकों का सियासी सफर कैसा रहा। उनके नाम से कौन से रिकार्ड है। 
संजय गांधी के करीबी रहे सज्‍जन
दिल्‍ली की राजनीति में सज्‍जन कुमार एक बड़ा नाम है। उनकी तीन दशकों की लंबी सियासी पारी बड़ी उतार-चढ़ाव वाली रही। दिल्‍ली में पार्षद का चुनाव लड़कर उन्‍होंने अपने करियर की शुरुआत की। उन्होंने बाहरी दिल्ली के मादीपुर इलाके से नगर निगम का चुनाव लड़ा और 1977 में जीतकर पार्षद बन गए। 1970 के दशक में उनकी मुलाकात संजय गांधी से हुई। ऐसा कहा जाता है कि सज्‍जन कुमार की दिल्ली में एक चाय की दुकान हुआ करती थी, वहीं उनकी मुलाकात संजय गांधी से हुई थी। यह मुलाकात धीरे-धीरे दोस्ती में बदल गई थी। उस वक्‍त इंदिरा कांग्रेस में संजय गांधी का दबदबा था। संजय की नजदीकी के कारण उनको पार्षद से सीधे लोकसभा चुनाव में उतारा गया। वर्ष 1980 के लोकसभा चुनाव में बाहरी दिल्ली संसदीय सीट से वह कांग्रेस के उम्‍मीदवार बनें। इस चुनाव में दिल्ली के पूर्व सीएम चौधरी ब्रह्मप्रकाश को चुनाव हराकर संसद पहुंचे। उस वक्‍त ब्रह्मप्रकाश केंद्र में केंद्रीय मंत्री थे। सज्‍जन कुमार महज 35 वर्ष की उम्र में सांसद बने। इस जीत के बाद सज्जन का राजनीतिक ग्राफ वर्ष 1977 से 1980 तक तेजी से बढ़ा। 
1984 के सिख दंगों की आंच से प्रभावित हुई सियासत
हालांकि, 1984 में इंदिरा गांधी की हत्‍या के बाद शुरू हुई दंगों की आंच उनके राजनीतिक करियर पर भी पड़ी। सज्‍जन कुमार को सिख दंगों का मुख्‍य आराेपी बनाया गया। इसके चलते उस साल देश में हुए आम चुनाव में कांग्रेस ने सिख वोट बचाने के लिए उनको टिकट नहीं दिया। इसके बाद 1989 के आम चुनाव में भी टिकट नहीं दिया गया। इस तरह से दो आम चुनावों में कांग्रेस ने उनको सक्रिय राजनीति से दूर रखा। लेकिन वर्ष 1991 में बाहरी दिल्ली संसदीय क्षेत्र से उन्हें टिकट मिला और सज्‍जन कुमार की जीत हुई। इस बार वे भाजपा के प्रत्याशी साहिब सिंह वर्मा को हराकर तीसरी बार संसद भवन पहुंचने में कामयाब रहे। इस बीच सिख दंगों को लेकर चर्चा काफी गर्म रही। राजनीतिक पार्टियों में आरोप-प्रत्यारोप का दौर चलता रहा। 1993 में दिल्ली विधानसभा चुनाव हुए और सज्जन के कई साथी विधानसभा में चुनकर आ गए। लेकिन बाद में 1996 के चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेता कृष्णलाल शर्मा के हाथों उन्हें हार का सामना करना पड़ा। तमाम विवादों के बीच 2009 में कांग्रेस ने उन्‍हें फिर टिकट दिया, लेकिन केंद्रीय गृहमंत्री पर जूता उछालने की घटना के बाद मचे बवाल में पार्टी ने टिकट वापस ले लिया। हालांकि, बाहरी दिल्ली में दबदबे के कारण टिकट उनके छोटे भाई रमेश कुमार को दिया गया और वह जीतकर संसद भी पहुंचे।
सज्‍जन ने रचा इतिहास
भारतीय राजनीति में उनके नाम से दो रिकॉर्ड दर्ज हैं। साल 2004 में लोकसभा चुनावों में सबसे अधिक मत हासिल करने का रिकार्ड बनाया। दूसरा, दिल्ली से सबसे अधिक मतों से चुनाव जीतने का रिकॉर्ड भी उनके ही नाम दर्ज है। उन्हें आठ लाख से अधिक मत मिले थे।
कड़कड़डूमा कोर्ट ने सज्जन कुमार को बरी किया
दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने सज्जन कुमार को बरी किया था लेकिन साल 1991 में इन्हें वापस टिकट मिला, जहां से इन्होंने एक बार फिर से जीत दर्ज की लेकिन बाद में 1996 के चुनाव में बीजेपी के वरिष्ठ नेता कृष्णलाल शर्मा के हाथों उन्हें हार का सामना करना पड़ा। नानावटी कमीशन की सिफारिश के बाद 2005 में सज्जन के खिलाफ केस दर्ज हुआ था। 30 अप्रैल 2013 को दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट सज्जन कुमार को बरी कर दिया गया था

Have something to say? Post your comment

More in National

मनोहर सरकार ने जनहित की योजनाओं और सुशासन की बदोलत जीता जनता का दिल : डॉ. गणेश दत्त

उद्योग मंत्री विपुल गोयल के बड़े भाई विनोद गोयल ने बसों को हरी झंडी दिखा कर हरिद्वार के लिए रवाना किया।

करनाल में सेब का बगीचा देखकर हैरान :-उद्योग मंत्री विपुल गोयल

सीमा त्रिखा ने पोलियो ड्राप पिलाकर पल्स पोलियो अभियान का किया शुभारंभ।

भगवान जगन्नाथ जी के मंदिर में कैबिनेट मंत्री विपुल गोयल ने फीता काट कर नए लिफ्ट का शुभारंभ किया,।

प्रयास-एक कोशिश सामाजिक संगठन द्वारा अनाज मंडी में प्रतिभा सम्मान समारोह आयोजित

सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग ने टेका पहाड़ी माता के दरबार में मत्था : देश व प्रदेश में सुख-समृद्धि की मांगी मन्न

बहुचर्चित सुर्खियों में रहे पृथला नेता सुरेन्द्र वशिष्ट ने बसपा का दामन थामा।

दर्जन भर अज्ञात हमलावरों ने की जजपा नेता अरविंद भारद्वाज के ऑफिस पर तोड़ -फोड़।

कैबिनेट मंत्री विपुल गोयल एवं कृषि मंत्री धनकर NBT के हरियाणा राइज़िंग कार्यक्रम में पहुंचे ।