Thursday, June 27, 2019
 
BREAKING NEWS
सीएम साहब ! कैथल में रिटायर्ड अधिकारी और कर्मचारी दे रहे हैं भ्रष्टाचार को अंजाम : नरेंद्र सिंहतहसीलदार पर करोड़ों का प्लॉट 28 लाख में बेचने का आरोप, निगमायुक्त अनीता यादव ने एफआइआर दर्ज करने के लिए भेजा पत्र मामा थानेदार और भांजे की गुंडागर्दी, कोई विरोध करता है तो अपने गुट के 13-14 बदमाशों को बुलाकर पूरे परिवार को पिटवाता है कैलाश विजयवर्गीय के बदमाश विधायक बेटे को पुलिस ने किया गिरफ्तारबंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांगरोहतक में सीवरेज प्लांट की सफाई करने उतरे चार कर्मचारियों की मौतइनेलो के एकमात्र राज्यसभा सदस्य कश्यप ने भी थामा भाजपा का दामनएसपी और विधायक के बीच विवाद, थाना प्रभारी सस्पेंड, दो पुलिसकर्मी लाइन हाजिर, दो होमगार्ड बर्खास्तकांग्रेस को लग सकता है बड़ा झटका, भाजपा में शामिल हो सकते हैं पूर्व मंत्री एसी चौधरी ?आधार कार्ड जालसाजी मामंला -स्कैन कर रखे थे विधायक के हस्ताक्षर और लेटर हेड

Literature

सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा

December 24, 2018 06:21 PM
राजकुमार अग्रवाल

सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा
बाबा मन की मुराद को पूरा करते हुए असंभव को संभव कर देते हैं
कैथल, 24 दिसंबर (राजकुमार अग्रवाल )
सांई सच्चरित्र से हमें बाबा के जीवन के बारे में पता चलता है कि बाबा ने किस तरह लोगों के दुख दर्द एवं पीढ़ा को दूर किया। बाबा हमारी तरह एक साधारण इंसान की तरह थे लेकिन उन्होंने अपने जीवन में यहीं सिखाया कि एक बेहतर मनुष्य कैसे बना जाए। यह विचार भोपाल के विश्वविक्चयात कथा वाचक सुमित भाई पोंदा ने कैथल के सांई मंदिर में पत्रकारों से बातचीत में व्यञ्चत किए। उन्होंने सांई मंदिर में स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित पूजा पाठ में भाग लिया। यहां बातचीत में सुमित पोंदा ने कहा कि सांई बाबा की खासियत यह है कि वह हमारी तरह के कपड़े ही पहनते थे। उनके जीवन से हमें पता चलता है कि मनुष्यता को कैसे हासिल किया जा सकता है। सुमित पोंदा ने बताया कि वर्ष 1858 में बाबा दूसरी बार शिरडी में आए। यह उनका दूसरा प्रवास था। उससे पहले बाबा 8 माह शिरड़ी में रहे। साई सच्चरित्र 1910 से 1918 तक की 261 लीलाओं पर आधारित है। इसमें स्पष्टï होता है कि 1858 से 1910 की ऐसी बाबा की बहुत लीलाएं होंगी, जिन्हें रिकार्ड में नहीं किया जा सके। सांई सच्चरित्र से उनके जीवन के मुक्चय अंश के बारे में पता चल पाता है। सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है। सुमित पोंदा ने बताया कि 1886 में बाबा ने 72 घंटे की समाधि ली थी। महालसापति की गोद में सिर रखकर उन्होंने तीन दिन की समाधि ली थी। बाबा अपने वचन निभाते हुए वापिस शरीर में उनके प्राण लौटे और 31 वर्षों तक वह और शिरडी में रहे और उनकी लीलाओं को जानने में हमें उपलद्ब्रिध मिली। उन्होंने कहा कि बाबा सांई देने के लिए बैठे है। वह अकसर इस बात का दुख मनाते थे कि लोग उनसे नाश्वार वस्तुएं मांगते थे। बाबा उन्हें वह देना चाहते हैं जिससे वह संस्कारवान हों जो कभी नश्वर न हो। समाधि लेने से पहले बाबा ने कहा भी था कि मेरी अस्थ्यिां तुममें आशा और संचार का विश्वास करेंगी। उन्होंने अपने वचनों को आज तक निभाया है। बाबा मन की मुराद को पूरा करते हुए असंभव को संभव कर देते हैं। इस अवसर पर साई मंदिर के मुक्चय पुजारी आचार्य विकास लेखवार, पंडित राजीव शर्मा करेंगे, साई मंदिर के प्रमुख सदस्य समाजसेवी कैलाश भगत, अनिल तिवारी, नवीन मल्होत्रा, भारत खुराना , बक्चशीश गिरधर, नवीनपाल, जतिन गांधी, नीतिन गुगलानी, लाजपत गुप्ता, रामनारायण शर्मा, मनोहर विरमानी, अनिल गिरधर, डा. राकेश चावला, सुशील रहेजा, पवन भारती, कृष्ण सलूजा, सुरेन्द्र छाबड़ा, मनोज खुराना, अनिल सलूजा, महेन्द्र कामरा, जगदीश पवार, धर्मवीर भोला , मनोज आनंद, राजेश शर्मा, यशपाल, अनिल सैनी, हरिचंद जांगड़ा, सीपी अरोड़ा , मुकेश धीमान, अनीश गुप्ता, आत्म मिड्डा , प्रवीन बिंदलिश, ललित ठकराल , गौरव छाबड़ा , नीरज ढींगरा , कर्ण कुमार, अंकुश कुमार, गुरमीत सैनी और अक्षय मेहता आदि मौजूद थे।

Have something to say? Post your comment

More in Literature

जवान लड़कियां संन्यास लेती हैं तो आप उन्हें मां क्यों कहते है?

मिश्रित फल देगा नव विक्रम सम्वत-2076, होंगे राजनैतिक परिवर्तन मिथुन, तुला और कुम्भ राशि और लग्न वालों को लाभ होगा

सिद्ध श्री बाबा बालक नाथ जी प्रचार समिति फरीदाबाद भजनो भरी शाम बाबा जी के नाम का आयोजन किया

सरस्वती अन्नपूर्णा भण्डारा सेवा समिति द्वारा सरस्वती मंदिर मे भंडारे का आयोजन किया

पिहोवा-पितरों की आत्मिक शांति के लिए सरस्वती तीर्थ पर पहुंचने लगे श्रद्धालु

6 अप्रैल से परिधावी नामक नवसंवत 2076 एवं चैत्र नवरात्रि आरंभ

होली आई रे .... होलिका दहन, 20 मार्च की रात्रि 9 बजे के बाद, रंग वाली होली 21 को।

गुरू मां सम्मेलन में मिलती है अनोखी अलौकिक शक्तियां : सुरेंद्र पंवार

खाटू श्याम में बाबा का मेला शुरू, श्याममय हुआ समूचा क्षेत्र, प्रतिदिन गुजरने लगे है श्याम प्रेमियों के जत्थे

शीश के दानी का सारे जग में डंका बाजे ने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी एक अलग पहचान बनाई - लखबीर सिंह लख्खा