Saturday, August 24, 2019
 
BREAKING NEWS
अर्ली स्टेप प्री स्कूल में छोटे-छोटे बच्चों के साथ भाविप लाडवा ने मनाई जन्माष्टमीबाबैन में चोरों ने सैनेटरी की दुकान पर किया हाथ साफसंदीप गर्ग ने किया डायरिया ग्रस्त गांव का दौरासिवानी तहसील को हिसार जिले में शामिल करने की मांग को लेकर पाचवे दिन भी धरना जारी।"जूतम पजार" 'थप्पड़' और 'ठुमके' भाजपा के लिए खतरे की घंटी,कैथल और कुरुक्षेत्र जिलों का मिजाज दे गया चेतावनी घरौंडा में जन आशीर्वाद यात्रा का हुआ भव्य स्वागत, स्वागत के लिए उमड़े शहर व गांव के लोग, गद गद नज़र आये विधायक कल्याणभारत के धार्मिक उत्सवों से समुचा विश्व प्रभावित : डॉ. पवन सैनीकिसानों की आमदनी दोगुनी करने के दावे को हकीकत बनाना बेहद कठिन : दहियावातावरण को स्वच्छ रखने के लिये करें पौधारोपण : बड़शामीहिसार जिले के नेता राजनीति मे शिखर पर पहुंचे।

Uttar Pradesh

शाहजहांपुर-सरकारी सिस्टम पर आंसू बहाती स्वतंत्रता सेनानी की बेटी

January 31, 2019 09:29 AM
सुशील शुक्ला की रिपोर्ट
शाहजहांपुर-सरकारी सिस्टम पर आंसू बहाती स्वतंत्रता सेनानी की बेटी
 
शाहजहांपुर (सुशील शुक्ला)  शहीदों की नगरी शाहजहांपुर में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी की बेटी मुफलिसी में जीने को मजबूर है । पिछले 40 राष्ट्रीय पर्वो पर शहीदों को श्रद्धांजलि
अर्पण करने वाली सेनानी की बेटी राजेश्वरी शुक्ला को सरकारी योजनाओं का लाभ मिलना तो दूर वृद्धा आवस्था पेंशन भी नसीब नही है। डीएम के सामने
फूट-फूट के रो कर अपनी व्यथा सुनाने वाली राजेश्वरी शुक्ला की कहानी सरकारी सिस्टम को फेल कर रही है।
 
-1 शाहजहांपुर में डी एम के सामने फूट फूट कर रो रही यह वृद्धा राजेश्वरी शुक्ला है । स्वतंत्रता संग्राम सेनानी महेश नाथ मिश्रा की बेटी राजेश्वरी के आंसू उस सिस्टम पर सवाल खड़े कर रहे हैं जो सरकार अपने नुमाइंदों के जरिये पीड़ितों को
मदद पहुंचाने का दावा करती है। लेकिन प्रशासनिक अफसरों की अनदेखी के चलते स्वतंत्रता
सेनानी की बेटी भीख मांग कर गुजर बसर करने पर मजबूर है। पिछले 40 सालों से राष्ट्रीय पर्व पर शहीदों को श्रद्धांजलि देने वाली राजेश्वरी डीएम के सामने फूट फूट कर रोई और अपनी व्यथा सुनाई उनका कहना है कि सरकारी योजनाओं का लाभ मिलना तो दूर आज उसे वृद्धावस्था पेंशन भी नसीब नहीं हो रही है।
 
-2 शहर के आवास विकास कॉलोनी मे तंबू और पन्नियों का यह घर राजेशवरी देवी की दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है। पिछले 40 वर्षों से वह सरकार से अपने पिता की पेंशन की मांग कर रही है । यहां तक कि वह योगी सरकार का भी
दरवाजा खटखटा चुकी है लेकिन इन सबके बावजूद उनके हाथ खाली है।
 
 - राजेश्वरी शुक्ला , मृतक स्वतंत्रता सेनानी महेश नाथ मिश्रा की बेटी
 
-3 राजेश्वरी शुक्ला बन्डा ब्लाक के देवकली गाँव के रहने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानी

महेश नाथ मिश्रा की बेटी है वह बताती है कि उनके पिता ने अंग्रेजो के खिलाफ आजादी की लड़ाई में लोहा लेते हुए न केवल अपना एक हाथ गवाायाा बल्कि कई साल जेलों में तन्हा जिंदगी जी कर इस देश की आजादी में योगदान दिया। वह जब 14 साल
की थीं तभी से उनके पिता उन्हें राष्ट्रीय पर्वो पर शामिल होने के लिए शाहजहांपुर अपने साथ लाते थे। उनकी शादी टूटने के बाद वह पिता के घर ही रहने लगी और उन्हीं के आश्रृित हो गई। सन 1994 मे पिता की मौत होने पर उनकी जिन्दगी मे मुसीबतो का पहाड टूट पडा। लेकिन इस सब के बावजूद सरकार से उन्हें ना उम्मीदी ही मिली। सरकार से पेंशन न मिलने से उन्हे दर-दर की ठोकरें खानी पड़ी रही है। हालात ऐसे पैदा हो गए कि उन्हें घर घर भीख
मांगनी पड़ रही है। वहीं राजेश्वरी के फूट-फूट कर रोने से प्रशासन के आला अफसर ने एक बार फिर उन्हें मदद का आश्वासन दिया है ।
 

- आज के दौर में इस राजेश्वरी की हालत बेहद नाजुक बनी हुई है। अपने पेट की भूख मिटाने के लिये उन्हे मजदूरी तक करनी पड रही है। शासन और
प्रशासन स्वतंत्रता संग्राम सेनानी महेश नाथ मिश्रा की आजादी मे दिये गये योगदान को एक दम  भुला चुका है । आज इस स्वतंत्रता संग्राम सेनानी की
बेटी की पहचान घर में पड़ी पन्नियो कि यह झोपड़ी बन गई है। ऐसे में इस सेनानी की बेटी के गिरतेे हुए आंसू उस सिस्टम पर सवाल खड़े कर रहे हैं जहां की सरकार आम आदमी को योजनाओ के लिए करोड़ों रुपया पानी की तरह बहा रही है । तो फिर यह योजनाये इस सेनानी की बेटी के पास क्यों नहीं पहुंच
रहीं है ?

Have something to say? Post your comment