Saturday, August 24, 2019
 
BREAKING NEWS
अर्ली स्टेप प्री स्कूल में छोटे-छोटे बच्चों के साथ भाविप लाडवा ने मनाई जन्माष्टमीबाबैन में चोरों ने सैनेटरी की दुकान पर किया हाथ साफसंदीप गर्ग ने किया डायरिया ग्रस्त गांव का दौरासिवानी तहसील को हिसार जिले में शामिल करने की मांग को लेकर पाचवे दिन भी धरना जारी।"जूतम पजार" 'थप्पड़' और 'ठुमके' भाजपा के लिए खतरे की घंटी,कैथल और कुरुक्षेत्र जिलों का मिजाज दे गया चेतावनी घरौंडा में जन आशीर्वाद यात्रा का हुआ भव्य स्वागत, स्वागत के लिए उमड़े शहर व गांव के लोग, गद गद नज़र आये विधायक कल्याणभारत के धार्मिक उत्सवों से समुचा विश्व प्रभावित : डॉ. पवन सैनीकिसानों की आमदनी दोगुनी करने के दावे को हकीकत बनाना बेहद कठिन : दहियावातावरण को स्वच्छ रखने के लिये करें पौधारोपण : बड़शामीहिसार जिले के नेता राजनीति मे शिखर पर पहुंचे।

National

जेजेपी और आप का गठबंधन भविष्य में चुनौती पेश करेगा, सुरजेवाला को उतार कांग्रेस ने की बड़ी गलती

January 31, 2019 05:40 PM
सन्नी मग्गू

जींद उपचुनाव-जाटों का बिखराव और गैर जाटों की एकता से बनी भाजपा नंबर वन
सन्नी मग्गू
जींद, 31 जनवरी
हरियाणा में जींद उपचुनाव के नतीजों ने भविष्य की राजनीति की तस्वीर दिखा दी है। जींद के नतीजे न केवल लोकसभा और विधानसभा चुनाव पर असर डालेंगे, बल्कि इन परिणामों ने हार का स्वाद चखने वाले तमाम राजनीतिक दलों को अपनी रणनीति बदलने के लिए मजबूर कर दिया। जाटलैंड जींद में भाजपा ने 52 साल के लंबे अंतराल के बाद पहली बार कमल खिलाने में सफलता हासिल की है। भाजपा की इस जीत में जाट मतदाताओं का बिखराव और गैर जाटों का ध्रुवीकरण सबसे अहम रहा। ऐसे में अब लोकसभा चुनाव के साथ ही हरियाणा विधानसभा का चुनाव होने की संभावना फिर जिंदा हो गई है।
बाक्स-
मुख्यमंत्री मनोहर लाल का चेहरा और सवा चार साल के कामों पर लगी मुहर
राज्?य में पांच नगर निगमों के चुनाव में मिली विजय के बाद जींद का रण जीतने का सीधा श्रेय मुख्यमंत्री मनोहरलाल और उनकी सरकार के अब तक के कामों को दिया जा रा है। जींद में जाट मतदाताओं का बिखराव और गैर जाट मतदाताओं की एकजुटता भी सत्तारूढ़ भाजपा की जीत बड़ा कारण बनी है। जींद के रण में जनता ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सरकार के सवा चार साल के कामकाज पर अपनी मुहर लगाई है।
बाक्स-
अब प्रदेश में लोकसभा के साथ ही विधानचुनाव चुनाव के भी आसार हुए पैदा
पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा को उत्तर और दक्षिण हरियाणा से काफी सीटें मिली थी। अब मध्य हरियाणा खासकर बांगर-जाट बेल्ट में भाजपा ने अपना खाता खोलकर साफ संकेत दे दिए कि उसका विजय रथ अब हरियाणाा में हर दिशा में घूमेगा और यह किसी शायद ही रुक। जींद उपचुनाव के नतीजों से उत्साहित भाजपा अब लोकसभा के साथ ही विधानसभा चुनाव भी करा सकती है। भाजपा किसी सूरत में नहीं चाहेगी कि वह उसके हक में बने राजनीतिक माहौल को कैश न किया जाए। इसलिए बजट सत्र के तुरंत बाद एक साथ चुनाव का ऐलान संभव है।
बाक्स-
भाजपा को शहरों के अलावा गांवों से भी मिले वोट, सांसद राजकुमार सैनी नहीं बन सके पिछड़ों का चेहरा
दरअसल, जींद में जाट मतदाताओं में बिखराव हुआ है। जाट मतदाता जेजेपी उम्मीदवार दिग्विजय सिंह चौटाला और कांग्रेस प्रत्याशी रणदीप सिंह सुरजेवाला में बंट गए, जबकि इनेलो के उम्मेद सिंह रेढू उम्मीद के मुताबिक भी अपना प्रदर्शन नहीं कर पाए। भाजपा सांसद राजकुमार सैनी की लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के उम्मीदवार विनोद आशरी ने हालांकि तेरह हजार से अधिक वोट हासिल कर गैर जाट मतों में सेंधमारी की, लेकिन उनका गैर जाट का नारा भाजपा सरकार के कामकाज और उसकी गैर जाट की राजनीति के आगे कहीं नहीं टिक पाया है।
बाक्स-
भविष्य में चुनौती पेश करेगा जेजेपी और आप का गठबंधन, सुरजेवाला को उतार कांग्रेस ने की बड़ी गलती
भाजपा के प्रति जींद के जाट खासकर ग्रामीण मतदाताओं ने भी अपना भरोसा जताया है। ग्रुप डी की भर्तियों में निष्पक्षता, ऑनलाइन ट्रांसफर पालिसी तथा एक समान विकास कार्यों को इसकी वजह बताया बताया जा सकता है। भाजपा को ग्रामीण वोट भी उम्मीद से कहीं अधिक मिले। सबसे खराब हालत कांग्रेस की रही। कांग्रेस ने अपनी पार्टी के कद्दावर नेता रणदीप सुरजेवाला को जींद के रण में उतारा था, जो उसकी सबसे बड़ी भूल रही है। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा, अशोक तंवर, कुलदीप बिश्नोई, किरण चौधरी, कैप्टन अजय और कुमारी सैलजा समेत तमाम नेताओं ने सिर जोडक़र सुरजेवाला के लिए जींद में काम करने का दावा किया। लेकिन, कहीं न कहीं मतदाताओं के अपनेपन की कमी और पार्टी के दिग्गज नेताओं की भितरघात का सुरजेवाला शिकार हुए हैं।


बाक्स-
इनेलो-बसपा गठबंधन के लिए खतरनाक संकेत, भविष्य में दोनों दलों के रिश्ते टूटने की पूरी आशंका
इनेलो की कोख से पैदा हुई जननायक जनता पार्टी भले ही यह चुनाव हार गई, लेकिन वह लोगों का दिल जीतने में कामयाब रही है। इनेलो के दिग्विजय सिंह चौटाला इस चुनाव में दूसरे नंबर पर रहे। आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने उन्हें समर्थन दिया था, जिसका मतलब साफ है कि भविष्य में जेजेपी और आप प्रमुख विपक्षी दल की भूमिका में रहते हुए सत्तारूढ़ भाजपा को कड़ी टक्कर देने वाले हैं। इस चुनाव में सबसे ज्यादा दुर्गति पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाली इनेलो की हुई। अभय चौटाला के उम्मीदवार उम्मेद सिंह रेढू चार हजार वोट भी हासिल नहीं कर सके, जिसका मतलब साफ है कि इनेलो-बसपा गठबंधन पर भविष्य में आंच आ सकती है।

Have something to say? Post your comment

More in National

अर्ली स्टेप प्री स्कूल में छोटे-छोटे बच्चों के साथ भाविप लाडवा ने मनाई जन्माष्टमी

बाबैन में चोरों ने सैनेटरी की दुकान पर किया हाथ साफ

संदीप गर्ग ने किया डायरिया ग्रस्त गांव का दौरा

किसानों की आमदनी दोगुनी करने के दावे को हकीकत बनाना बेहद कठिन : दहिया

भगवान श्री कृष्ण के देश में प्लास्टिक और कचरा खाने पर मजबूर गायें?

लाडवा हल्का जल्द बनेगा पानी बचाने के लिए नंबर वन : पवन सैनी

लाडवा से इनैलो का विधायक बनने पर होंगे महिलाओं के सपने पूरे : बड़शामी

विकास के दावों के विपरित कच्ची पड़ी गली से परेशान है निरंकारी कालोनी के लोग

गरजा सिंह बने नमो नमो मोर्चा के जिला अध्यक्ष

राजीव गांधी की बदौलत हुआ था पंचायतों का सशक्तिकरण : संदीप गर्ग