Sunday, August 18, 2019
 
BREAKING NEWS
इनैलो को मिल रहा है छत्तीस बिरादरी के लोगों का भरपूर समर्थन : सपना बडशामीशहीद की पत्नी संग जोड़ा भाई-बहन का नाता 18 अगस्त को होने वाली परिवर्तन रैली में लाडवा हल्के से जांएगें हजारों कार्यकत्र्ता : मेवा ङ्क्षसह बाबैन में ऐतिहासिक होगा जन आर्शीवाद यात्रा का स्वागत : रीना देवीखिलाडिय़ों के लिए स्टेडियम व बेटियों के लिए कॉलेज बनवाना होगा प्राथमिकता : गर्गफंस गए भूपेंद्र हुड्डा,कांग्रेस छोड़ने के अलावा नहीं बचा कोई विकल्परॉकी मित्तल ने ग्योंग गांव में शिक्षा एवं खेल क्षेत्रों के विद्यार्थियों को सम्मानित कियाट्रक डाइवर व क्लीनर को बंधक बना ट्रक लेकर फरार, केस दर्जपंजाबी वर्ग की जनसँख्या के अनुसार राजनैतिक पार्टी दे टिकटें: अशोक मेहता। वीर सम्मान मंच कैथल के द्वारा अटारी बॉर्डर पर मनाया गया रक्षाबंधन उत्सव:-

Business

कपास, धान की आवक, भाव बढऩे से मार्केट फीस में हुई 26 प्रतिशत बढ़ोतरी

February 06, 2019 04:57 PM
अटल हिन्द ब्यूरो


पौने दो करोड़ से अधिक बढ़ी इस बार मार्केट फीस
उचाना।
इस बार कपास, धान की आवक बीते साल से अधिक रहने, फसल के भाव भी बीते साल से अधिक मिलने से मार्केट कमेटी की मार्केट फीस में बढ़ोतरी हुई है। सीजन की शुरूआत से कपास, धान के भाव किसानों को बीते साल से अधिक मिल रहे है। किसानों की उम्मीद के अनुरूप बेशक भाव इस बार न मिले हो लेकिन बीते साल से अधिक भाव फसलों के रहे है। किसानों को कपास के भाव छह हजार रुपए तक, धान 1121 के भाव चार हजार तक पहुंचने की उम्मीद सीजन में थी। कपास के भाव 5200 रुपए प्रति क्विंटल से 5500 रुपए प्रति क्विंटल रहे तो धान 1121 के भाव भी 3500 रुपए प्रति क्विंटल के आस-पास रहे। दोनों फसलों के भाव बीते साल की अपेक्षा सीजन की शुरूआत से बीते साल की अपेक्षा अधिक किसानों को मिले है।
मार्केट कमेटी सचिव जोगिंद्र सिंह ने बताया कि अब तक 9 करोड़ 16 लाख 47 हजार मार्केट फीस आ चुकी है। बीते साल अब तक 7 करोड़ 29 लाख 94 हजार रुपए फीस आई थी। इस साल 1 करोड़ 86 लाख 53 हजार रुपए की फीस अधिक आई है। अब तक कपास की 3 लाख 24 हजार 320 क्विंटल फसल आ चुकी है जबकि बीते साल 2 लाख 53 हजार 790 क्विंटल कपास आई थी। बासमति धान की अब तक 1 लाख 74 हजार क्विंटल फसल आई थी। बीते साल 1 लाख 49 हजार क्विंटल बासमति आई थी।
किसान रामसरूप, दलबीर, बलजीत, रामकुमार ने कहा कि इस बार फसल की सीजन की शुरूआत से बीते साल की अपेक्षार भाव तो अधिक मिले है लेकिन किसानों को जो उम्मीद थी उससे कम भाव फसलों के रहे है। इस बार फसल का उत्पादन भी किसानों की उम्मीद से कम हुआ है। ऐसे में फसलों के भाव अधिक मिलते तो कुछ हद तक आर्थिक रूप से किसानों को फायदा मिलता।

Have something to say? Post your comment

More in Business

मुम्बई में व्यापार, रोजगार और इलाज के लिए नहीं होगी परेशानी-कमल नाथ

कैथल के आढ़ती मुख्यमंत्री को देंगे मांगपत्र ,स्थानीय भाजपाई नेता हुए सक्रिय बुलाई मीटिंग

ट्रेड टावर दुकानदारों के मसीहा बने मनीष सिंगला लक्ष्य हमारा मनोहर दोबारा को लेकर सिरसा विधानसभा का भ्रमण करेंगे मनीष सिंगला

72 घंटे में पैमेंट के दावे, लेकिन 40 दिन बाद भी आढ़तियों के 7 करोड़ रुपए बकाया

फॉम फैक्ट्ररी में लगी आग

विपुल गोयल को फोन पर दी जीएसटी फर्जीवाड़े की जानकारी,मामले में हरियाणा चैंबर ऑफ कॉमर्स आगे आया

कुंडली में जूते बनाने वाली फैक्ट्री में लगी भीषण आग

19 फर्जी कंपनियां बनाकर जीएसटी में फर्जीवाड़ा दो हजार करोड़ तक पहुंचा

प्रदेशों के उद्योग मत्रियों की दिल्ली में बैठक। , विपुल गोयल ने हरियाणा का प्रिनिधित्व किया

कैथल के आढ़ती लाइसेंस रिन्यू भी करवायेंगे और आगे के लिये अभी कोर्ट में भी जायेंगे-प्रधान