Tuesday, June 18, 2019
 
BREAKING NEWS
श्री अमरनाथ सेवा समिति घरौंडा ने अमरनाथ में प्रतिवर्ष लगने वाले भंडारे के लिए खाद्य सामग्री से भरा ट्रक रवाना किया। दिल्ली में भीड़ ने ACP KG त्यागी को पीटा, ACP ने भागकर बचाई जानदिल्ली पुलिस का हैवानियत भरा चेहरा उजागर,सिख बुजुर्ग को सड़क पर गिरा कर आधा दर्जन पुलिस वालों में गुंडों की तरह पीटारणदीप सुरजेवाला राहुल के सम्पर्क में , हुड्डा के खिलाफ कुलदीप बिश्नोई,और अशोक तंवर की निगाह भी हाईकमान पर टिकीहरियाणा सरकार के प्रोजेक्ट निदेशक रॉकी मित्तल ने कहाएससी वर्ग को बांटने के लिए खट्टर सरकार तैयार,एससी वर्ग को ए और बी वर्गों में बांटना सही है ?शर्तिया लड़का होने की दवाई देने के मामले में सुनाई गई दो दोषियों को सजा व जुर्मानासहायता समूह हेतू ऋण वितरण समारोह का आयोजन किया - आरके सिंहगर्भवती महिला प्रसव पीड़ा से तडपती रही, चिकित्सक हड़ताल से ताकत दिखाते रहेपत्रकार से मारपीट , डीएसपी की मौजूदगी में पुलिस जवानों ने अपनी गलती स्वीकार की

Guest Writer

चिंतन: बेबसी में जी रहे हैं अनेक जीवन

February 25, 2019 02:16 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

चिंतन: बेबसी में जी रहे हैं अनेक जीवन
राज शेखर भट्ट
बच्चे पैदा होते हैं और समय के साथ-साथ किशोरावस्था तक पहुंच जाते हैं। किशोरावस्था में पहुंचने वाले ऐसे हजारों बच्चे हैं, जिनका बचपन बेबसी में बीत रहा है। सरकार लाख दावे करले लेकिन बचपन आज भी बेड़ियों में जकड़ा हुआ है। बालश्रम पर हालांकि पाबंदी है, परन्तु हालात कुछ और ही इशारा करते हैं। श्रम विभाग के आंकडे़ अलग कथा सुनाते हैं और वास्तविक कुछ और ही होती है।
बड़ा होने के बाद हर व्यक्ति चाहता है कि उसके बच्चों के हाथों में खिलौने हों। उसका वक्त संगी-साथियों के साथ गुजरे, लेकिन ऐसा होता नहीं हैं, नियति उसे कहां धकेल देती है। हम केवल बालश्रम की वास्तविकता की बात करें तो स्थिति भयावह दिखती है। अफसोस इस बात का है कि जिम्मेदार कौन है ऐसी स्थितियों का? शासन-प्रशासन और सरकार इस बचपन को संवारने के प्रति कतई गंभीर नजर नहीं आते। अनेकों तथ्य ऐसे भी हैं कि भुखमरी, गरीबी और बेरोजगारी के कारण बालश्रम तो है ही। वहीं दूसरी ओर अपने बच्चों के भविष्य को संवारने के लिए अनेक लोग गलत से गलत काम करने में पीछे नहीं रहते।
बाल श्रम विभाग के कई अधिकारी श्रम महकमे में उन कामों को करने में अधिक दिलचस्पी दिखाते हैं, यहां से उनकी जेबें गर्म होती हैं। बचपन को जकड़ी बेड़ियां कब खुलेंगी, यह तो कहा नहीं जा सकता। मगर, बड़ा सवाल यह है कि सिर्फ बाल श्रमिकों के चिह्नीकरण भर से ही बचपन में गहरा कुहासा नहीं छंटने वाला है। यहां यह बता दें कि भारत सरकार के कानून के अनुसार 14 साल से बड़ी उम्र के कामगार को श्रम कानूनों का उल्लंघन नहीं माना जाता। विभाग 14 से 18 साल के बाल श्रमिकों को काम करने पर प्रतिबंध नहीं लगा सकता।
जब तक आम आदमी स्वयं जागरूक नहीं होता, तब तक बालश्रम ही नहीं बल्कि अन्य आराजक स्थितियों में सुधार आना मुश्किल है। कितना दुखद है कि किस तरह बचपन किताबों की जगह कहीं चाय, कहीं केतली थामे है तो कहीं झूठन साफ कर रहा है। अधिकतर यही सामने आता है कि बाल श्रम के आंकड़ों में बालश्रम बहुत कम दिखता है लेकिन आम आदमी स्वयं देखता है कि हजारों बाल श्रमिक हैं। क्या यह सब विभाग में तैनात उच्चाधिकारी की संवेदनशीलता के कारण होता है।
श्रम मंत्रालय और श्रम विभाग के आंकड़ों की कुशलता को तो पूरे भारतवर्ष में होटल, ढाबों और ठेलियों में एक आम नागरिक स्वयं देख सकता है। जिससे साफ होता है कि कितना बालश्रम है और कितना नहीं। बेशक, लगभग प्रत्येक राज्य में बाल मजदूरों के चिन्हीकरण में विभाग ने गैर सरकारी संगठनों को साथ लेकर अप्रत्याशित तेजी दिखाई है। लेकिन अभी भी सवाल जस का तस मुंह बांए खड़ा है। क्योंकि, बचपन को जकड़ी मजदूरी की बेड़ियां तभी हट पाएंगी, जब उन्हें उचित शैक्षिक माहौल मिलेगा और वह बेहतर भविष्य की राह पर अग्रसर होंगे।
सड़कों पर भीख मांगने वाले बच्चों के जीवन को बचाने के लिए शुरू की गयी हैं, लेकिन हुआ क्या? मामले तो जस के तस हैं। बस स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस की याद भी केवल एक दिन के लिए ही आती है और सोशल मीडिया का बाजार गर्म रहता है। केवल इसी तरह सुधरेंगी स्थितियां, क्या यही है स्वतंत्रता, क्या यही है हमारा गणतंत्र कि भारत के झण्डे के साथ अपनी फोटो चिपकाकर शुभकामनायें दे दी जायें और सुधार हो जाय।

Have something to say? Post your comment

More in Guest Writer

दुनिया के श्रेष्ठतम चिंतक और कुशल दार्शनिक संत कबीर

बंगाल में राष्ट्रपति शासन के हालात-ममता बनर्जी की राजनीति को देखकर ऐसा लगता है कि जैसे वे उलटा चोर कोतवाल को डाटे वाली राजनीति कर रही हैं

आज मानवता शर्मसार है इंसानियत लहूलुहान है,क्षप्त विक्षिप्त लाश मिलती है जिसके अंग भी पूरे नहीं होते

सावधान धर्म खतरे में है !!

गरीबी, आतंकवाद और सीमा पर युद्ध जैसी अंतरराष्ट्रीय समस्याओं के लिए यूरोपीय राजव्यवस्था दोषी - विश्वात्मा

क्या ममता हार मान चुकी है?, बंगाल में राजनैतिक प्रतिद्वंदिता या दुश्मनी

देश के ‘आखिरी रियासती राजा’ और ‘प्रथम सांसद’ कमल सिंह को लोकतंत्र में आज भी है पूर्ण आस्था

आखिर साध्वी से परहेज़ क्यों है ?

जनता की अदालत में फैसला अभी बाकी है

महान भारत के लिए चुनावी महाभारत क्यों?