Friday, May 24, 2019
BREAKING NEWS
कैथल में दो दर्जन बदमाशों ने एक आढ़ती को भिंडो के साथ पिटने के मामले में मंडी बंद38 गांव में बृजेंद्र 27गांव में जीते दुष्यंत दुष्यंत करसिंधु में तो बृजेंद्र सिंह डूमरखां कलां में सबसे अधिक मत से जीतबड़े बड़े राजनीतिक धुरंधर हुए धराशाही , राहुल और प्रियंका भी कांग्रेस का काँटा निकालने से नहीं बचा पाए बड़े बड़े राजनीतिक धुरंधर हुए धराशाही , राहुल और प्रियंका भी कांग्रेस का काँटा निकालने से नहीं बचा पाए 23 मई को जन्मे बच्चे का नाम रखा मोदीअशोक अरोड़ा ने अपने पद से दिया त्यागपत्रसिवानी मण्डी के किसानों ने फसलों के भुगतान की मांग की।पुतिन से लेकर ट्रंप तक, हर देश ने दी PM मोदी को बधाईभाजपा प्रत्याशी संजय भाटिया करीब 6 लाख 56 हजार 142 मतों से हुए विजयी* मतगणना शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न: जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त विनय प्रताप सिंहभाजपा के नवनिर्वाचित सांसद नायब सैनी ने कैथल में कार्यकर्ताओं के साथ मनाया जश्न

National

पूर्व खेल निदेशक जगदीप सिंह ने किया फर्जीवाड़ा ,बेटा ,बेटी को दिलवाई 60 लाख की पुरस्कार राशि -जांच रिपोर्ट

March 14, 2019 09:30 PM
राजकुमार अग्रवाल
पूर्व खेल निदेशक जगदीप सिंह ने किया फर्जीवाड़ा , बेटा , बेटी को दिलवाई 60 लाख की पुरस्कार राशि  -जांच रिपोर्ट 
 
 
 
चंडीगढ़(राजकुमार अग्रवाल ) हरियाणा के आईएएस  अधिकारी एवं पूर्व खेल निदेशक जगदीप सिंह, उनके अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज बेटे विश्वजीत सिंह और बेटी गौरी श्योराण की मुश्किलें बढ़ गई हैैं। खेल विभाग से हाल ही में हटाए गए प्रधान सचिव अशोक खेमका की एक जांच रिपोर्ट में विश्वजीत और गौरी को 60 लाख रुपये की पुरस्कार राशि के फर्जी दावे पेश करने तथा पिता जगदीप सिंह के प्रभाव के चलते अत्यधिक पुरस्कार राशि हासिल करने का आरोपित ठहराया गया है।आईएएस जगदीप सिंह कांग्रेस कांग्रेस सरकार में शिक्षा मंत्री रह चुके बहादुर सिंह के बेटे हैैं। बहादुर सिंह अब जननायक जनता पार्टी में शामिल हो गए। जगदीप सिंह पहले एचसीएस अधिकारी थे। पदोन्नत होकर आईएएस बने जगदीप सिंह फिलहाल वित्त विभाग में कार्यरत हैं।
 
 
 
 
अशोक खेमका ने अपनी जांच रिपोर्ट में तत्कालीन खेल निदेशक, उनके बेटे और बेटी तीनों को धोखाधड़ी करने का आरोपित ठहराते हुए उनके खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमे दर्ज करने की सिफारिश की है।गौरी और विश्वजीत को पिछले दिनों भीम अवार्ड भी प्रदान किया जा चुका है। खेमका ने अपनी रिपोर्ट में सरकार को सुझाव दिया है कि दोनों से खिलाड़ियों के सर्वोच्च भीम पुरस्कार, प्रमाण पत्र, भीम प्रतिमा, ब्लेजर, टाई और स्कार्फ भी वापस लिया जा सकता है।अशोक खेमका ने सरकार को सलाह दी कि गलत ढंग से हासिल की गई राशि को 12 प्रतिशत वार्षिक ब्याज की दर से वापस लेकर सरकारी खजाने में जमा कराया जाए। खेल मंत्री अनिल विज ने इस जांच रिपोर्ट को मंजूरी देते हुए मुख्यमंत्री को भेजा।
 
 
 
 
 
मुख्यमंत्री ने तीनों से एक पखवाड़े के भीतर जवाब मांगने के निर्देश दिए हैैं।अशोक खेमका की जांच रिपोर्ट के मुताबिक गौरी श्योराण को 43 लाख रुपये की अतिरिक्त पुरस्कार राशि और 2013-16 के दौरान विश्वजीत सिंह को 17 लाख रुपये का भुगतान किया गया। तब जगदीप सिंह खेल निदेशक थे।अशोक खेमका की जांच रिपोर्ट में गौरी व विश्वजीत को भीम पुरस्कार भी गलत ढंग से दिए जाने की बात कही गयी है। इस पुरस्कार को पाने के लिए न्यूनतम 50 अंक की आवश्यकता होती है। बताया गया कि गौरी श्योराण की स्कोरिंग शीट ने उन्हें टीम श्रेणी में 84 अंक दिलाए थे, जबकि स्वीकृत स्कोरिंग योजना के अनुसार उनका भीम अवार्ड स्कोर 37 अंक था। इसी तरह, विश्वजीत सिंह के मामले में उनकी स्कोर शीट ने उन्हें टीम श्रेणी में 60 अंक दिए, जबकि उनका स्कोर 18 अंक था। जगदीप सिंह का कहना है कि अकेले निदेशक भीम पुरस्कार देने में सक्षम नहीं होता।
 
 
 
 
जब भीम पुरस्कार मेरे बच्चों को दिया गया, तो मैं उस समिति से हट गया था।जगदीप सिंह ने इस रिपोर्ट को खारिज करते हुए कहा कि वह सरकार के समक्ष अपना जवाब पेश करेंगे। उनके अनुसार मेरी बेटी गौरी ने 24 अंतरराष्ट्रीय पदक जीते हैं और 33 अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लिया है। हाल ही में उन्हें विश्वविश्वविद्यालय चैंपियनशिप में पुरस्कार मिला। उसके पास 85 राष्ट्रीय पदक हैं। बेटे विश्वजीत के पास 12 अंतरराष्ट्रीय और 50 राष्ट्रीय पदक हैैं। दोनों ही राष्ट्र का गौरव हैैं। कोई भी गलत तरीके से राज्य सरकार के पैसे का दावा कैसे कर सकता है। जगदीप सिंह के अनुसार न केवल मेरे बच्चे, बल्कि मैैं आश्वस्त कर सकता हूं कि हरियाणा के एक भी खिलाड़ी को गलत तरीके से कोई पैसा नहीं दिया गया।इस जांच रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री के ओएसडी टूर आलोक वर्मा ने अशोक खेमका से कुछ सवाल-जवाब भी किए थे, जिनका जवाब देते हुए खेमका ने कहा है कि हम कानून के शासन द्वारा निर्देशित होते हैं और सार्वजनिक ट्रस्टी के रूप में कार्य करते हैं... हमारे प्रधानमंत्री भी खुद को देश का चौकीदार कहकर सार्वजनिक जीवन में सार्वजनिक विश्वास के मूल्य पर जोर दे रहे हैं।

Have something to say? Post your comment

More in National

पृथला विधायक टेकचंद शर्मा ने आज उपराष्ट्रपति वैंकया नायडु से मुलाकात की।

23 मई को जन्मे बच्चे का नाम रखा मोदी

पुतिन से लेकर ट्रंप तक, हर देश ने दी PM मोदी को बधाई

जनता ने की भाजपा की नीतियों मे कि आस्था व्यक्त : सुर्या सैनी

जनता ने प्रदेश सरकार व केन्द्र सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों पर लगाई अपनी मोहर : सुरेश कश्यप

किसान मोर्चा ने भाजपा की जीत के लिए किया हवन यज्ञ।

मतगणना की जानकारी मोबाइल एप वोटर्स हेल्पलाइन व पोर्टल results.eci.gov.in पर उपलब्ध होगी

युवा शक्ति ही होती है देश की ताकत : संतोष दहिया

नरेंद्र मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने से भारत आर्थिक, सुरक्षा व विकास की दृष्टि से विश्व की नई ताकत बन कर उभरेगा : गुलाब सैनी

खेलों में भाग लेने से व्यक्ति के जीवन से अनेक बुराईया दुर होती है और वह शारीरिक व मानसिक तौर पर स्वस्थ भी रहता है :सोहन लाल