Tuesday, June 25, 2019
 
BREAKING NEWS
नगर परिषद कैथल के सफाई कर्मचारियों ने सर्वसम्मति से अंगूरी देवी को चुना प्रधान पत्रकार संघ के प्रदेशाध्यक्ष बने तरावड़ी के संजीव चौहानलाड़वा हल्के मे मल्टीपल खेल स्टेडिरूम बनवाना होगा प्राथमिकता : संदीप गर्गमुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व मे लाड़वा हल्के ने छुए विकास के नए आयाम : पवन सैनी भाजपा विधायक ने मंत्री के सामने लगाए एसपी मुर्दाबाद के नारेये मर्द बेचारा फिल्म की फरीदाबाद में हो रही शूटिंगअमेठी में पंचायत उपचुनाव को लेकर बजा बिगुल, डॉ योगेश कुमार बनाये गये बाजार शुक्ल चुनाव अधिकारीशाहाबाद- निजी अस्पताल में चल रहा था सेक्स रैकेट, कई पकडे गए नए-नए कानून योजना तुरंत बणा दिए तैयार तनै,हरियाणा में ठाठ ला दिए बीजेपी सरकार तनै-डीपीआरओ युवा चेहरों को मौका मिला तो बदल जाऐंगे राजनीति के मायने

Punjab

पंजाब में 118 नेताओं के लोकसभा चुनाव लड़ने पर चुनाव आयोग ने लगाई रोक

April 10, 2019 06:34 PM
अटल हिन्द ब्यूरो
पंजाब में 118 नेताओं के लोकसभा चुनाव लड़ने पर चुनाव आयोग ने लगाई रोक
चंडीगढ़(अटल हिन्द ब्यूरो ) लोकसभा चुनाव  2019 के चलते  चुनाव आयोग ने पंजाब के 118 नेताओं के  चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है। ये नेता पिछली बार चुनाव लड़े थे और चुनाव खर्च का ब्‍योरा नहीं दिया था। इन्‍होंने आयोग को पिइस बारे में कोई संतोषजनक जवाब भी नहीं दिया था। इसके बाद आयोग ने इन्हें चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य करार दिया गया है। ये नेता अब तीन साल तक चुनाव नहीं लड़ पाएंगे।चुनाव आयोग ने सभी जिला चुनाव अफसरों को यह सूची भेज दी है। आगामी 19 मई को होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया शुरू होने पर चुनाव अधिकारी आयोग इन नेताओं के नामांकन नहीं लेगा या फिर नामांकन पत्रों की जांच के समय नामांकन खारिज कर देगा।जिन उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने पर रोक लगाई गई है, उनमें ज्यादातर आजाद लड़ने वाले हैं, जबकि कुछ छोटी पार्टियों के हैं। चुनाव आयोग ने द रिप्रेजेंटेशन ऑफ पीपुल एक्ट 1951 की धारा 10ए के तहत इन नेताओं के चुनाव लड़ने पर रोक लगाई है। इस धारा के मुताबिक चुनाव खर्च के बारे में जानकारी न देना अयोग्यता का आधार बनता है। अगर उम्मीदवार ने तय वक्त पर इस एक्ट के मुताबिक चुनाव खर्चे की जानकारी नहीं दी या फिर उसके बारे में मांगे गए स्पष्टीकरण का संतोषजनक जवाब नहीं दिया तो ऐसे उम्मीदवार के आदेश के तीन साल तक चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी जाती है।चुनाव आयोग द्वारा चुनाव अफसरों को भेजी गई नेताओं की इस सूची में पहले नंबर पर लुधियाना जिला है, जहां 26 नेताओं को अयोग्य करार दिया गया है। इसके बाद 17 नेताओं के साथ संगरूर दूसरे और 15 नेताओं के साथ जालंधर तीसरे स्थान पर है। वहीं 11 उम्मीदवारों के साथ अमृतसर चौथे स्थान पर है।इनके अलावा पठानकोट से तीन, गुरदासपुर से चार, तरनतारन से नौ, कपूरथला से छह, मोहाली से पांच, मोगा से चार, फिरोजपुर के तीन, श्री मुक्तसर साहिब से एक, बठिंडा के तलवंडी साबो से एक, मानसा से तीन, बरनाला के धूरी से दो, पटियाला से पांच, फतेहगढ़ साहिब से दो, फरीदकोट से एक नेता शामिल है। इनमें 94 नेताओं की तीन साल की रोक 7 जून 2019 को खत्म हो रही है लेकिन चुनाव अप्रैल-मई में हो रहे हैं। वहीं, 24 नेताओं पर यह रोक आठ अक्टूबर 2021 तक जारी रहेगी।

Have something to say? Post your comment

More in Punjab

प्रेमिका के घर पहुंच प्रेमी ने लगाई आग, मंजर देख दहले सभी के दिल,

करतारपुर कॉरिडोर- प्रदर्शन के पांच घंटे के बाद किसानों और प्रशासन के बीच बनी सहमति,प्रदर्शन हुआ बंद

करतारपुर कॉरिडोर- मुआवजा राशि में से टीडीएस काटने पर किसानों ने किया चक्का जाम,जबरदस्त नारेबाजी

टॉयलेट में मिला सैनिटरी पैड, जांच के लिए दर्जन भर छात्राओं के उतरवाए कपड़े

महिला तांत्रिक के कहने पर पडोसियों ने गर्भवती महिला और उसके सात माह के अजन्मे बच्चे की हत्या की

नामांक‌ण पत्र दाखिल करने से पहले जाखड़ प्राचीन मंदिर और गुरूद्वारा कंध साहिब में हुये नतमस्तक

भारतीय सीमा पार करते हुये पाकिस्तान की तरफ घुसते युवक को काबू किया

चेतावनी- गली में कोई लीडर वोट मांगने न आये, नोटा का बटन दबाकर नेताओं का करेंगे विरोध

अकाली दल ने बठिंडा के डीपीआरओ तथा मानसा के एपीआरओ के खिलाफ भी शिकायत दी

महिलाओं से अवैद्घ संबंधों से तंग आकर पत्नी और बेटे ने मिलकर करवाया था कत्ल,पत्नी,बेटे समेत आठ लोग गिरफ्तार