Thursday, May 23, 2019
BREAKING NEWS
भाजपा के नवनिर्वाचित सांसद नायब सैनी ने कैथल में कार्यकर्ताओं के साथ मनाया जश्नजनता ने की भाजपा की नीतियों मे कि आस्था व्यक्त : सुर्या सैनीजनता ने प्रदेश सरकार व केन्द्र सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों पर लगाई अपनी मोहर : सुरेश कश्यपपरिवारवाद हारा,जनता जीती -मनोहर लाल मां ने जींद जिले में तो अब बेटे ने हिसार में खिलाया कमलतंवर की प्रधानगी में हर चुनाव हारी कांग्रेस, हुड्डा की दावेदारी भी खतरे मेंचार्जशीट पर बोले कुछ पार्षद, पार्षद प्रतिनिधि व नेता करते हैं निजी कार्यों के लिए ब्लैकमेल ,इसलिए करते हैं ऐसी बेतुकी बातें : सिंहकैथल पुलिस चौकना ,महिला पुलिस व अर्धसैनिक बल के करीब 850 कर्मचारी व अधिकारी तैनात रहेगेकेंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह के गोद लिए मांडी गांव के राजकीय हाई स्कूल को जड़ा ग्रामीणों ने ताला 134ए के तहत गरीब बच्चों को पढ़ाने की एवज में स्कूलों को मिले 36 करोड़

World

बीआरआई फोरम बैठक का फिर बहिष्कार कर सकता है भूटान, भारत का देगा साथ

April 14, 2019 11:19 AM
राजकुमार अग्रवाल

बीआरआई फोरम बैठक का फिर बहिष्कार कर सकता है भूटान, भारत का देगा साथ  

बेल्ट एंड रोड फोरम की मीटिंग से भारत ने भले ही खुद को अलग कर लिया है लेकिन पड़ोसी देश श्रीलंका, नेपाल, मालदीव और बांग्लादेश ने इसमें शामिल होने के लिए औपचारिक सहमति दे दी है। अब सबकी निगाहें भूटान पर टिकी है। जिसने अभी तक अपना पत्ता नहीं खोला है।
बता दें कि इससे पहले 2017 में हुए फोरम की बैठक का भी भूटान ने बहिष्कार किया था। बावजूद इसके चीन लगातार भूटान को अपने साथ मिलाने की कोशिशों में लगा हुआ है। पिछले कुछ समय से बीजिंग, भूटान की नई सरकार को नई दिल्ली के प्रभाव से दूर करने की कोशिश कर रहा है।

राजनयिक हलकों में यह माना जा रहा है कि पिछले बैठक की तरह भूटान इस बार भी शामिल नहीं होगा। भूटान को यह डर है कि इस कारण भारत के साथ उसके संबंध प्रभावित हो सकते हैं। भूटान का चीन के साथ औपचारिक रूप से कूटनीतिक संबंध नहीं है। फिर भी भूटान, चीन को बड़े व्यापारिक साझीदार के रूप में देख रहा है।
भारत ठुकरा चुका है चीन का न्योता
भारत ने चीन की 'बेल्ट ऐंड रोड इनिशिएटिव' (बीआरआई) को लेकर होने वाली बैठक का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। चीन ने 2017 में बीआरआई की पहली बैठक आयोजित की थी और भारत ने उसका भी बहिष्कार किया था।

बीआरआई के तहत छह गलियारे बनाने की योजना है, जिनमें से कई गलियारों पर काम भी जारी है। इसमें पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) से गुजरने वाला चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा भी शामिल है। भारत के लिए चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा संप्रभुता का उल्लंघन है। भारत हमेशा से कहता है कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर भी भारत का हिस्सा है और उस पर पाकिस्तान ने अवैध कब्जा कर रखा है। ऐसे में भारत की इजाजत के बिना चीन वहां से आर्थिक गलियारा नहीं बना सकता है।

गौरतलब है कि चीन की बीआरआई परियोजना का अमेरिका और जापान सहित कई देशों ने भी विरोध किया है। अमेरिका ने कहा है कि चीन की यह परियोजना जिन देशों से गुजरेगी, उन देशों के किए यह आर्थिक सहयोग कम और खतरा ज्यादा उत्पन्न करेगी। बीआरआई परियोजना का मकसद दुनिया भर में चीन के निवेश से बुनियादी परियोजनाओं का विकास करना और चीन के प्रभुत्व को बढ़ाना है। चीन ने आर्थिक मंदी से उबरने, बेरोजगारी से निपटने और अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए 2013 में यह परियोजना पेश की।  

Have something to say? Post your comment

More in World

अनमोल शर्मा करेगा वर्ल्ड पीस कमेटी ( इंडोनेशिया) की तरफ से भारत को रिप्रेजेंटेटिव।

इमरान खान ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखा खत, कहा- मुद्दे सुलझाने के लिए बातचीत जरूरी

पैंतरेबाज' चीन का मसूद अजहर मामले में कैसे हुआ हृदय परिवर्तन, जानिए अब क्या होगा

श्रीलंका धमाकों में 290 की मौत, 24 गिरफ़्तार

पाकिस्तान में एक और हिंदू किशोरी का अपहरण, जबरन धर्म परिवर्तन

सऊदी अरामको की नजर आरआईएल के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल की 25 फीसदी हिस्सेदारी पर, बातचीत जारी

एफिल टावर को टक्कर देने वाली इमारत में लगी भीषण आग, अपने ट्वीट से घिरे डोनाल्ड ट्रंप

फिर ठुकराया भारत ने चीन का न्योता , बीआरआई में नहीं होगा शामिल

अमेरिका से आई 15 साल की छात्रा रेहा जैन,बदल गया मन अब करेगी ये काम

पिहोवा के गांव नैंसी गांव का मर्चेंट नेवी कैप्टन अशोक कुमार तेल तस्करी के आरोप में ईरान में गिरफ्तार