Saturday, August 17, 2019
 
BREAKING NEWS
इनैलो को मिल रहा है छत्तीस बिरादरी के लोगों का भरपूर समर्थन : सपना बडशामीशहीद की पत्नी संग जोड़ा भाई-बहन का नाता 18 अगस्त को होने वाली परिवर्तन रैली में लाडवा हल्के से जांएगें हजारों कार्यकत्र्ता : मेवा ङ्क्षसह बाबैन में ऐतिहासिक होगा जन आर्शीवाद यात्रा का स्वागत : रीना देवीखिलाडिय़ों के लिए स्टेडियम व बेटियों के लिए कॉलेज बनवाना होगा प्राथमिकता : गर्गफंस गए भूपेंद्र हुड्डा,कांग्रेस छोड़ने के अलावा नहीं बचा कोई विकल्परॉकी मित्तल ने ग्योंग गांव में शिक्षा एवं खेल क्षेत्रों के विद्यार्थियों को सम्मानित कियाट्रक डाइवर व क्लीनर को बंधक बना ट्रक लेकर फरार, केस दर्जपंजाबी वर्ग की जनसँख्या के अनुसार राजनैतिक पार्टी दे टिकटें: अशोक मेहता। वीर सम्मान मंच कैथल के द्वारा अटारी बॉर्डर पर मनाया गया रक्षाबंधन उत्सव:-

World

इमरान खान ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखा खत, कहा- मुद्दे सुलझाने के लिए बातचीत जरूरी

May 03, 2019 02:35 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

इमरान खान ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखा खत, कहा- मुद्दे सुलझाने के लिए बातचीत जरूरी
New Delhi

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने लोकसभा चुनाव के बीच बीते महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखा है। इसमें उन्होंने कहा है कि जम्मू कश्मीर सहित अन्य मुद्दों को हल करने के लिए भारत-पाकिस्तान की बातचीत को शुरू करना जरूरी है।

इमरान ने प्रधानमंत्री मोदी को उनकी पाकिस्तान को लेकर कही बात के बाद खत भेजा है। जिसमें उन्होंने 23 मार्च को पाकिस्तान राष्ट्रीय दिवस के मौके पर पाकिस्तान के लोगों को शुभकामनाएं देते हुए कहा था कि अब पाकिस्तान के लोगों के लिए समय आ गया है कि वह "आतंक और हिंसा से मुक्त वातावरण" में एक प्रगतिशील, लोकतांत्रिक और समृद्ध क्षेत्र के लिए काम करें।

हालांकि इमरान ने पाकिस्तान में पसरे आतंकवाद को लेकर कुछ नहीं कहा लेकिन वह कश्मीर का नाम लेना भी नहीं भूले। इससे पहले उन्होंने सितंबर 2018 को भेजे अपने खत में यूएनजीए (संयुक्त राष्ट्र जनरल असेंबली) में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच बातचीत का प्रस्ताव रखा था।

उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान आतंक के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए तैयार है। लेकिन कश्मीर में तीन पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद भारत ने पाकिस्तान के साथ इस मुलाकात को रद्द कर दिया था। जिसे पाकिस्तान ने दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कहा था कि मुलाकात रद्द करने के पीछे भारत ने जो कारण दिए हैं, वो संतोषजनक नहीं हैं।

पहचान ना बताने की शर्त पर एक सूत्र ने कहा है कि शायद ही कोई नई सरकार पाकिस्तान से बात कर सुर्खियों में आएगी। इमरान ने उस वक्त सभी को चौंका दिया था जब उन्होंने कहा था, कि "अगर भाजपा दोबारा सत्ता में आती है तो भारत-पाकिस्तान के बीच शांति वार्ता और कश्मीर मुद्दे को हल करने के लिए बेहतर मौका होगा।"

अब माना जा रहा है कि भारत और पाकिस्तान के नेता शंघाई सहयोग सम्मेलन (एससीओ) के जून में किर्गिस्तान में होने वाले शिखरसम्मेलन में आमने सामने आ सकते हैं।

Have something to say? Post your comment

More in World

6 अगस्त - हिरोशिमा दिवस पर परमाणु हमले में मारे गये लोगों को श्रद्धांजलि!

अनमोल शर्मा करेगा वर्ल्ड पीस कमेटी ( इंडोनेशिया) की तरफ से भारत को रिप्रेजेंटेटिव।

पैंतरेबाज' चीन का मसूद अजहर मामले में कैसे हुआ हृदय परिवर्तन, जानिए अब क्या होगा

श्रीलंका धमाकों में 290 की मौत, 24 गिरफ़्तार

पाकिस्तान में एक और हिंदू किशोरी का अपहरण, जबरन धर्म परिवर्तन

सऊदी अरामको की नजर आरआईएल के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल की 25 फीसदी हिस्सेदारी पर, बातचीत जारी

एफिल टावर को टक्कर देने वाली इमारत में लगी भीषण आग, अपने ट्वीट से घिरे डोनाल्ड ट्रंप

बीआरआई फोरम बैठक का फिर बहिष्कार कर सकता है भूटान, भारत का देगा साथ

फिर ठुकराया भारत ने चीन का न्योता , बीआरआई में नहीं होगा शामिल

अमेरिका से आई 15 साल की छात्रा रेहा जैन,बदल गया मन अब करेगी ये काम