Saturday, August 17, 2019
 
BREAKING NEWS
इनैलो को मिल रहा है छत्तीस बिरादरी के लोगों का भरपूर समर्थन : सपना बडशामीशहीद की पत्नी संग जोड़ा भाई-बहन का नाता 18 अगस्त को होने वाली परिवर्तन रैली में लाडवा हल्के से जांएगें हजारों कार्यकत्र्ता : मेवा ङ्क्षसह बाबैन में ऐतिहासिक होगा जन आर्शीवाद यात्रा का स्वागत : रीना देवीखिलाडिय़ों के लिए स्टेडियम व बेटियों के लिए कॉलेज बनवाना होगा प्राथमिकता : गर्गफंस गए भूपेंद्र हुड्डा,कांग्रेस छोड़ने के अलावा नहीं बचा कोई विकल्परॉकी मित्तल ने ग्योंग गांव में शिक्षा एवं खेल क्षेत्रों के विद्यार्थियों को सम्मानित कियाट्रक डाइवर व क्लीनर को बंधक बना ट्रक लेकर फरार, केस दर्जपंजाबी वर्ग की जनसँख्या के अनुसार राजनैतिक पार्टी दे टिकटें: अशोक मेहता। वीर सम्मान मंच कैथल के द्वारा अटारी बॉर्डर पर मनाया गया रक्षाबंधन उत्सव:-

Literature

जवान लड़कियां संन्यास लेती हैं तो आप उन्हें मां क्यों कहते है?

June 02, 2019 01:11 PM
फाइल फोटो
राजकुमार अग्रवाल

जवान लड़कियां संन्यास लेती हैं तो आप उन्हें मां क्यों कहते है?

कुछ बातें !
तुम परमात्मा को पिता क्यों कहते हो ?
उसकी कोई पत्नी नहीं है,
उसके कोई बच्चे नहीं हैं ;
फिर वह पिता कैसे बन गया ?
ऐसे लोग भी हैं , जो परमात्मा को मा कहते हैं !
उसके कोई बच्चे नहीं, फिर उसे मां क्यों कहते हो ?

ईसाइ पादरी को पिता कहते हो,
जबकि वह अविवाहित है , ब्रह्मचारी है !
उसे पिता क्यों कहते हो ?

तुमने इन बातों के बारे में सोचा नहीं होगा क्योंकि यह सदियों से चली आ रही हैं ! और हमने उन्हें स्वीकार कर लिया है !

हकीकत यह है कि पिता एक आदर सूचक शब्द है--श्रेष्ठतम आदर जो तुम किसी को दे सकते हो !

मेरी दृष्टि से मा और भी आदरणीय है !
क्योंकि बच्चे को पैदा करने में पिता का योगदान बिल्कुल निम्नतम होता है !

पूरा निर्माण जो है , वह मा का होता है !

मा का सार्वधिक सम्मान होना चाहिए !
वह जीवन को निर्मित करती है !
स्त्री की उच्चतम गुणवत्ता है , जीवन निर्मित करने की क्षमता !

इसलिए मैंने अपनी संन्यासनियों को मा कहा !
उनको इस बात का अहसास दिलाने के लिए कि मातृत्व बड़े से बड़े सम्मान से भी बढ़ा है !
उन्हें पुरूष से कनिष्ठ होने की जरूरत नहीं !
वस्तुत: इस मामले में वे उनसे श्रेष्ठ हैं !

वेदों में ऐसे उदाहरण हैं , जहाँ नवविवाहिता दंपति किसी महान ऋषि के पास आशीर्वाद लेने आते हैं ! और जो आशीर्वाद उन्हें मिलता है , वह सचमुच अनूठा है ! सारी दुनिया में किसी और धर्म में ऐसा आशीर्वाद नहीं है ! वह ऋषि पति को आशीर्वाद देता है कि तुम्हारी पत्नी दस बच्चों की माँ बनेगी और तुम उसके ग्याहरवें पुत्र बनो --पति से कह रहा है कि मां आखिर माँ है ! वह तुम्हे दस बच्चे देगी , लेकिन सब कुछ ठीक - ठाक चलता रहा तो तुम उसके ग्यारहवें बच्चे होगे !

अब इस तरह का आशीर्वाद मेरे पक्ष में जाता है, तुम्हारे नहीं ! और यह आशीर्वाद इस बात का भी समर्थन करता है कि संभोग कोई कुरूप , घृणित कृत्य नहीं ! बह जीवन के बहने की प्रक्रिया है , -- ठीक वैसे ही जैसे नदी बहती है.! शरीर पुराने हो जाते हैं , जीवन नये शरीरों में प्रवेश करता है , पुराने शरीर छोड़ दिए जाते हैं ! लेकिन जीवन सदा - सदा चलता रहता है -- शास्वत से शास्वत की ओर.! और स्त्री उसका द्वार है !

पुरूष के बिना काम चल सकता है ! शायद सिर्फ एक इंजेक्शन काफी होगा ! लेकिन स्त्रियों के बिना रहना बहुत मुश्किल है !

स्त्रियों के बिना हम परखनलियों में बच्चे पैदा कर सकते हैं , लेकिन वे मानवीय नहीं होंगे , यांत्रिक होंगे ! क्योंकि स्त्री बच्चे को हड्डी , माँस और खून ही नहीं देती , वह उसे बुद्धी भी देती है , भाव भी देती है , प्रेम भी देती है ! बच्चे के पास जो भी होता है वह माँ के द्वारा दिया हुआ होता है ! परखनली वह सब नहीं दे सकती ! बह बच्चे को शाक - सब्जी की तरह जिन्दा तो रख सकती है , लेकिन भाव और बुद्धि नहीं दे सकती !

संन्यास की शुरूआत करने से पहले मुझे इसे सोचना पड़ा ! क्योंकि पुराने शास्त्रों में पुरूषों को संन्यास दिया जाता था , पर स्त्रियों को सदैव वंचित रखा गया ! तो पुरूषों के लिए तो नाम है -" स्वामी " , पर स्त्रियों के लिए कोई नाम नहीं है !

महावीर ने स्त्रियों को स्वीकार नहीं किया ,
बुद्ध ने स्वीकार नहीं किया ,
हिंदुओं के द्वार भी स्त्री के लिए बंद थे.!

मैं पहला हूँ जिसने स्त्रियों को संन्यास में दीक्षित किया !
मुझे नाम खोजना जरुरी था !

मेरी दृष्टि में " स्वामी " बहुत अच्छा नाम है ! उसका इतना ही अर्थ होता है - स्वंय के मालिक बन जाना ! लेकिन यह खतरनाक भी है , क्योंकि यह तुम्हे एक तरह की ताकत भी देता है ! यह तुम्हें विनम्र नहीं बनाता , उल्टे तुम्हें अंहकारी बनाता है --तुम स्वामी हो !

💖ओशो💖

🌱 फिर अमृत की बूंद पड़ी 🌱

Have something to say? Post your comment

More in Literature

हरियाणवी काव्य संग्रह "मन का के ठिकाणा" का हुआ लोकार्पण

मिश्रित फल देगा नव विक्रम सम्वत-2076, होंगे राजनैतिक परिवर्तन मिथुन, तुला और कुम्भ राशि और लग्न वालों को लाभ होगा

सिद्ध श्री बाबा बालक नाथ जी प्रचार समिति फरीदाबाद भजनो भरी शाम बाबा जी के नाम का आयोजन किया

पिहोवा-पितरों की आत्मिक शांति के लिए सरस्वती तीर्थ पर पहुंचने लगे श्रद्धालु

6 अप्रैल से परिधावी नामक नवसंवत 2076 एवं चैत्र नवरात्रि आरंभ

होली आई रे .... होलिका दहन, 20 मार्च की रात्रि 9 बजे के बाद, रंग वाली होली 21 को।

गुरू मां सम्मेलन में मिलती है अनोखी अलौकिक शक्तियां : सुरेंद्र पंवार

खाटू श्याम में बाबा का मेला शुरू, श्याममय हुआ समूचा क्षेत्र, प्रतिदिन गुजरने लगे है श्याम प्रेमियों के जत्थे

शीश के दानी का सारे जग में डंका बाजे ने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी एक अलग पहचान बनाई - लखबीर सिंह लख्खा

श्रीमद् भागवत कथा का प्रारंभ आज