Saturday, August 17, 2019
 
BREAKING NEWS
इनैलो को मिल रहा है छत्तीस बिरादरी के लोगों का भरपूर समर्थन : सपना बडशामीशहीद की पत्नी संग जोड़ा भाई-बहन का नाता 18 अगस्त को होने वाली परिवर्तन रैली में लाडवा हल्के से जांएगें हजारों कार्यकत्र्ता : मेवा ङ्क्षसह बाबैन में ऐतिहासिक होगा जन आर्शीवाद यात्रा का स्वागत : रीना देवीखिलाडिय़ों के लिए स्टेडियम व बेटियों के लिए कॉलेज बनवाना होगा प्राथमिकता : गर्गफंस गए भूपेंद्र हुड्डा,कांग्रेस छोड़ने के अलावा नहीं बचा कोई विकल्परॉकी मित्तल ने ग्योंग गांव में शिक्षा एवं खेल क्षेत्रों के विद्यार्थियों को सम्मानित कियाट्रक डाइवर व क्लीनर को बंधक बना ट्रक लेकर फरार, केस दर्जपंजाबी वर्ग की जनसँख्या के अनुसार राजनैतिक पार्टी दे टिकटें: अशोक मेहता। वीर सम्मान मंच कैथल के द्वारा अटारी बॉर्डर पर मनाया गया रक्षाबंधन उत्सव:-

Sports

दिव्यांग रमेश क्रिकेट से जुड़ा अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी है जो अगस्त में भारत की तरफ से वल्र्ड कप खेलने जा रहा है

July 04, 2019 07:37 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

#दिव्यांग रमेश  #क्रिकेट से जुड़ा #अंतर्राष्ट्रीय #खिलाड़ी है जो अगस्त में भारत की तरफ से वल्र्ड कप #खेलने जा रहा है

भिवानी

ऑल इंडिया #क्रिकेट एसोसिएशन फॉर दा फिजिकल चैलेजंड (आईकैप ) के बैनर तले 2 से 13 अगस्त तक इंग्लैंड में खेले जाने वाले पहले विश्व कप की तैयारियों में जुटे तमिलनाडु के #खिलाड़ी रमेश सुब्रमण्यम् नायडू को भले ही भगवान ने हाथ पैर की उंगलियां जन्म से ही नहीं दी, लेकिन फिर रमेश ने हिम्मत नहीं हारी और वे भगवान की इस दिव्य देन को लेकर आगे बढ़ते रहे। उन्होने #क्रिकेट जगत में जी तोड़ मेहनत की और वे #अंतर्राष्ट्रीय स्तर के #खिलाड़ी वाले पायदान पर खड़े हो गए हैं, जो जल्द ही भारत की टीम में शामिल हो कर अगस्त माह में वल्र्ड कप #खेलने जा रहा है। यह बड़े गर्व की बात है। गौरतलब है कि तमिलनाडु से 24 वर्षीय रमेश नायडू हाल ही में भिवानी में ऑल इंडिया #क्रिकेट एसोसिएशन फॉर दा फिजिकल चैलेजंड के अधिकारीयों के पास आए हुए थे, जिन्होंने अपनी दिव्यांगता की जज्बे भरी कहानी सुनाई तो हर कोई हैरान था। रमेश को बचपन से ही यह दिव्यांगता नसीब हुई लेकिन वे हिम्मत नहीं हारे। रमेश के दोनों हाथों और पैरों में उंगलिया और अंगूठे नहीं है। लेकिन फिर भी वे आमान आने वाली लैदर की गेंद को #क्रिकेट के मैदान में लपक लेने का हौसला रखते हैं। यही नहीं रमेश का एक पैर का पूरा पंजा नहीं है वे एक पैर के सहारे और बिना उंगलियों के सहारे लैग स्पिन बॉलिंग करता है और साथ में जबरदस्त बल्लेबाजी भी करता है। जिनका अबतक अपने आप में 78 रनों और 5 विकेट का रिकॉर्ड भी रहा है। इसी के साथ रमेश ने जहाँ दिव्यांग #क्रिकेट में नाम कमाया तो वे शिक्षा जगत में पीछे नहीं रहे। खेल के साथ साथ वे शिक्षा से भी जुड़े रहे और 10+12 में 95 प्रतिशत अंक प्राप्त कर नाम रोशन किया , यही नहीं वे यहाँ भी अपनी रुके नहीं और इसके बाद उन्होंने आईआईटी में वे पूरे भारत में 41वे रैंक पर रहे और साथ में एमटैक भी कर रहे हैं।

Have something to say? Post your comment

More in Sports

इंडिया टीम में तेज गेंदबाजी कर परचम लहराऐगा तरावड़ी का नवदीप सैणी

आइडल आइकॉन बन चुके हैं कबड्डी खिलाड़ी फौजी अमरजीत गुहणा

हॉकी के मैदान में पिता ग्राऊंड मेन, वहीं खेल बेटी ने जीते 10 लाख

आमिर सोहेल को मंत्री विपुल गोयल व रहीश खान करेंगे सम्मानित

दूध बेचकर बनी नैशनल खिलाड़ी, संघर्षों की कहानी आशा सैनी की जुबानी

बबीता फौगाट ने चुना अपना जीवन साथी, ट्वीटर पर दी जानकारी

बबीता फौगाट की तबीयत बिगड़ी

कब्बडी की पुणे प्रारइड टीम के कप्तान अमरजीत फौजी ने किया शानदार खेल का प्रदर्शन, लगातार पांच मैचों में हासिल की विजयश्री

अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल खेल में सरस्वती स्कूल पबनावा के विद्यार्थी चेतन का हुआ चयन

तोशाम के गांव बुशान में बाबा बीरबल नाथ के मेले व विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन