Monday, May 20, 2019
BREAKING NEWS
सूचनाओं को आम जन तक पहुंचाने में सकारात्मकता का संदेश दिया था नारद नेसूरज हुआ प्रचंड़, गर्मी दे रही दंड़, बाजार हुए सुनसानरामकंवर दत्त शर्मा के निधन पर जताया शोक10वीं के परिक्षा परिणाम में डी लाईट हाई स्कूल की छात्रा प्रिति प्रदेश की टॉप 10 लिस्ट मेंविद्या रानी दनौदा ने नरवाना विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं का आभार व्यक्त करने व आपसी भाईचारा बनाए रखने के लिए आभार व्यक्त कियाजॉब के लिए एक बेहतरीन सीवी तैयार करना भी अति आवश्यक-पवन भारद्वाजहरियाणा सरकार वापस ले सकती है अपना फैंसला हरियाणा में नहीं चलेंगी किलोमीटर स्कीम में निजी बसें हरियाणा-पंजाब में उजागर हुआ जीएसटी महाघोटाले का खेल विद्यार्थी, झूल रहे हैं मौत का फंदा !फीस प्रतिपूर्ति के दावे के लिए जिलों को आदेश, जल्द होगा भुगतान, 26756 विद्यार्थियों को स्कूल अलाट की शुरू होगी प्रक्रिया

Himachal Pradesh

संकट में हिमाचल का गत्ता उद्योग, तीन माह में आधा दर्जन उद्योग बंद

April 06, 2017 09:33 PM
शिखा शर्मा
संकट में हिमाचल का गत्ता उद्योग, तीन माह में आधा दर्जन उद्योग बंद
हिमाचल के गत्ता उद्यमियों ने पेपर मिलों के खिलाफ खोला मोर्चा
पीएमओ में दर्ज कराई शिकायत, जल्द मुख्यमंत्री वीरभद्र व राज्यपाल से मिलेंगे
चंडीगढ़। देशभर में करीब 18 हजार करोड़ के कारोबार वाला कैरोगेटिड बाक्स उद्योग पिछले कई महीनों से संकट के दौर में है। क्राफ्ट पेपर उत्पादक क्राफ्ट पेपर की कीमतों में मनमाने ढंग से वृद्धि कर रहे हैं। पिछले तीन माह में 23 से 30 फीसदी कीमतें बढ़ाई जा चुकी हैं। इससे गत्ता उद्योग पर संकट बढ़ता जा रहा है। हिमाचल में अब तक करीब आधा दर्जन उद्योग बंद हो चुके हैं। क्राफ्ट पेपर उत्पादकों की मनमानी के खिलाफ गत्ता उद्यमियों की राष्ट्रीय स्तर की एसोसिएशन फैडरेशन ऑफ कैरोगेटिड बाक्स मैनयुफैक्चर ऑफ इंडिया (एफसीबीएम) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व संबंधित मंत्रालयों को पत्र लिखकर हस्तक्षेप की मांग की है।
फैडरेशन ऑफ कैरोगेटिड बाक्स मैनयुफैक्चर ऑफ इंडिया के अध्यक्ष गिरीश सरदाना व हिमाचल प्रदेश कोरूगेटिड बॉक्स (गत्ता पेटी) मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष गगन कपूर ने आज यहां जारी एक जानकारी में बताया कि अगर प्रधानमंत्री कार्यालय व संबंधित मंत्रालयों ने इस दिशा में कार्रवाई नहीं की तो गत्ता उद्यमी हड़ताल पर जाने को मजबूर होंगे। 
गगन कपूर ने कहा कि गत्ता पेटी निर्माण में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल विशेष रूप से क्राफ्ट पेपर की कीमतों में लगातार वृद्धि हो रही है। पिछले तीन माह के दौरान क्राफ्ट पेपर की कीमतों में 23 से 30 प्रतिशत तक वृद्धि हो चुकी है। जिसके चलते हिमाचल के बद्दी, बरोटीवाला, परवाणु व सिरमौर आदि के अलावा पंजाब में चल रही कई यूनिट बंद होने के कगार पर पहुंच गई हैं। कपूर ने बताया कि इस समय कैरोगेटिड बाक्स इंडस्ट्री की हालत यह है कि पिछले कुछ माह के भीतर सात यूनिट बंद हो चुके हैं। 
कपूर के अनुसार वर्तमान में क्राफ्ट पेपर की कीमत पिछले तीन माह के दौरान 7 रुपए प्रति किलो की दर से बढ़ी है। जिसका कोई औचित्य नहीं है। इस उद्योग के साथ प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से छह लाख लोग जुड़े हुए हैं।
गिरीश सरदाना ने बताया कि इस समय विभिन्न राज्यों में करीब 12 हजार बाक्स निर्माता कंपनियां हैं, जिनके द्वारा हर साल 52 लाख टन गत्ता पेटी का निर्माण किया जा रहा है। यह उद्योग देश में हर साल 18 हजार करोड़ रुपए के कारोबार का संचालन करता है। सरदाना के अनुसार एफसीबीएम ने पेपर मिल मालिकों के खिलाफ प्रधानमंत्री कार्यालय में भी शिकायत दर्ज करवाई है। जिसे पीएमओ ने स्वीकार कर लिया है। इसी दौरान ऑल इंडिया पेपर मिल तालमेल कमेटी के चेयरमैन मुकेश जैन ने कहा कि हर साल सेब सीजन शुरू होने से पहले ही पेपर मिल मालिक जानबूझकर अपनी मिल बंद करके पेपर की कीमतों में वृद्धि कर देते हैं। इस बार एफसीबीएम ने राष्ट्रीय स्तर पर इसका विरोध किया है। जैन ने बताया कि इस विवाद के समाधान की मांग को लेकर वह बहुत जल्द हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह व राज्यपाल आचार्य देवव्रत से भी मुलाकात करेंगे।

Have something to say? Post your comment

More in Himachal Pradesh

हिमाचल के पत्रकारों को भी दिलाई जाएगी पेंशन : शिक्षा मंत्री

22वर्ष पुराने सामूहिक हत्याकांड में विधायक दोषी,हुई उम्र कैद

हिमाचल के मुख्यमंत्री ने की रा.व.मा.पा सरोआ में अखण्ड शिक्षा ज्योति-मेरे स्कूल से निकले मोती कार्यक्रम की अध्यक्षता

हिमाचल -सरवीन चौधरी ने बैजनाथ में रखी पार्किंग परिसर की आधारशिला

संगठन सर्वोपरी होता है और इससे बडी ताकत नहीं-डा. श्रीकांत

विधायक ने सुन्दरनगर -पटराहण-झोर बस रूट को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

जोगिन्दरनगर में दो दिवसीय स्वास्थ्य मेले का शुभारम्भ

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता नैहरा के पद के लिए आवेदन आमंत्रित

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने सीएचसी रेहन को 50 बिस्तरों वाले नागरिक अस्पताल के रूप में स्तरोन्नत करने की घोषणा की

हमीरपुर-निजी स्कूल की बस पलटी ,सभी बच्चे सुरक्षित