Tuesday, June 25, 2019
 
BREAKING NEWS
लुप्त हुए "तरावड़ी गेट' और 'बाजारी गेट' कुछ हिस्सा बचने पर ऐतिहासिक करनाली गेट का होगा पुन: निर्माणइंडिया टीम में तेज गेंदबाजी कर परचम लहराऐगा तरावड़ी का नवदीप सैणीनशा मुक्ति दिवस पर 26 जून को सैमिनार, बुद्धिजिवी वर्ग तथा सामाजिक संस्थाए करेंगी प्रतिभागी प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना लागू ,गरीब व्यक्ति को भी आर्थिक लाभ मिलेगा -डीसी दीपेंद्र को हरियाणा कांग्रेस प्रधान बनवाने के लिए बड़ी ताकतें हुई लामबंद,कांग्रेस के आधा दर्जन बड़े नेता कर रहे सामूहिक प्रयासनगर परिषद कैथल के सफाई कर्मचारियों ने सर्वसम्मति से अंगूरी देवी को चुना प्रधान पत्रकार संघ के प्रदेशाध्यक्ष बने तरावड़ी के संजीव चौहानलाड़वा हल्के मे मल्टीपल खेल स्टेडिरूम बनवाना होगा प्राथमिकता : संदीप गर्गमुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व मे लाड़वा हल्के ने छुए विकास के नए आयाम : पवन सैनी भाजपा विधायक ने मंत्री के सामने लगाए एसपी मुर्दाबाद के नारे

Literature

आचरण की मनुष्य की सच्ची दौलत: सुदीक्षा सरस्वती

April 29, 2017 05:19 PM
संजय गर्ग
आचरण की मनुष्य की सच्ची दौलत: सुदीक्षा सरस्वती
लाडवा, 29 अप्रैल (संजय गर्ग): संत देवी सुश्री सुदीक्षा सरस्वती जी महाराज ने कहा कि किसी भी व्यक्ति का आचरण ही उसकी दौलत है। उन्होंने कहा कि भगवान की उन पर विशेष कृपा दृष्टि रहती है, जिनका आचरण शुद्ध एवं पवित्र रहता है। जिनका आचरण शुद्ध नहीं वह चाहे कितनी भी भगवान की भक्ति क्यों न कर लें, लेकिन भगवान श्रीराम उनकी भक्ति कभी कबूल नहीं करते और न ही ऐसे लोगों से खुश होते हैं। इसलिए यदि भगवान श्रीराम की कृपा पाना चाहते हो तो अपने आचरण में शुद्धता व पवित्रता रखें।
संत देवी सुदीक्षा सरस्वती जी महाराज शनिवार को लाडवा की ब्राह्मणों वाली धर्मशाला में पांचवें दिन की श्रीराम कथा सुना रही थी। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम ने पूरा जीवन आदर्शों की स्थापना में लगा दिया। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम के जीवन से प्रेरणा लेकर हमें अपने समाज में फैली कुरीतियों को खत्म करने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कथा सुनाते हुए कहा कि भगवान श्रीराम की नजर में एक छोटे से छोटा कीट और बड़े से बड़ा जीव एक समान है। वह भावना देखते हैं और प्राणी की भावना से ही उसकी उनके प्रति भक्ति अनुमान भी लगा लेते हैं। उन्होंने कहा कि जब बार-बार तीर छोडऩे पर भी रावण की मृत्यु नहीं हो रही थी तो भगवान श्रीराम विभिषण से इसका राज पूछा। विभिषण जब भगवान श्रीराम के कान में रहस्य बताने लगे तो रावण विभिषण को राज बताते देख उबल पड़ा। वह समझ गया था कि विभिषण उसकी मृत्यु का राज भगवान श्रीराम को बता रहा है। इस पर विभिषण को बोला की ठहर राम से तो बाद में ही निपटूंगा, पहले तुझे ही देखता हूं। यह कहकर रावण ने विभिषण पर शक्ति बाण छोड़ा, लेकिन भगवान श्रीराम ने विभिषण को पीछे धकेल इसका प्रहार अपने उपर ले लिया। यह देख न केवल रावण, बल्कि विभिषण भी अचंभित रह गया और इसके पश्चात रावण को मारकर धर्म की स्थापना की। वहीं ब्राह्मण सभा के प्रधान सोमप्रकाश ने बताया कि रविवार को धर्मशाला परिसर में कथा के समापन पर एक विशाल भंडारे का आयोजन किया जाएगा। वहीं राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप अंतिम दिन की कथा में मुख्यातिथि के रुप में शिरकत करेंगे। इस मौके पर ब्राह्मण सभा के प्रधान सोम प्रकाश शर्मा, पं. जगदीश राम शर्मा,  प्रदीप गर्ग, अशोक पपनेजा, जितेंद्र शर्मा, विनोद गर्ग, सुनील गर्ग, बिजेश शर्मा, पवन बंसल, पवन कंसल, सुरेश शर्मा, रोकी शर्मा, महेश गोसांई, जसवंत अरोड़ा, राज किशोर शर्मा, नीरज गुप्ता, श्यामलाल बंसल, सुभाष चंद लाठीधनौरा, नीरज गर्ग, कौशल सिंगला, शशि गोयल, अंजु अग्रवाल सहित भारी संख्या में भारी संख्या में सहारनपुर, तरावड़ी, शाहबाद समेत कई अन्य स्थानों से आए श्रद्धालुओं उपस्थित थे।

Have something to say? Post your comment

More in Literature

जवान लड़कियां संन्यास लेती हैं तो आप उन्हें मां क्यों कहते है?

मिश्रित फल देगा नव विक्रम सम्वत-2076, होंगे राजनैतिक परिवर्तन मिथुन, तुला और कुम्भ राशि और लग्न वालों को लाभ होगा

सिद्ध श्री बाबा बालक नाथ जी प्रचार समिति फरीदाबाद भजनो भरी शाम बाबा जी के नाम का आयोजन किया

सरस्वती अन्नपूर्णा भण्डारा सेवा समिति द्वारा सरस्वती मंदिर मे भंडारे का आयोजन किया

पिहोवा-पितरों की आत्मिक शांति के लिए सरस्वती तीर्थ पर पहुंचने लगे श्रद्धालु

6 अप्रैल से परिधावी नामक नवसंवत 2076 एवं चैत्र नवरात्रि आरंभ

होली आई रे .... होलिका दहन, 20 मार्च की रात्रि 9 बजे के बाद, रंग वाली होली 21 को।

गुरू मां सम्मेलन में मिलती है अनोखी अलौकिक शक्तियां : सुरेंद्र पंवार

खाटू श्याम में बाबा का मेला शुरू, श्याममय हुआ समूचा क्षेत्र, प्रतिदिन गुजरने लगे है श्याम प्रेमियों के जत्थे

शीश के दानी का सारे जग में डंका बाजे ने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी एक अलग पहचान बनाई - लखबीर सिंह लख्खा