Friday, June 21, 2019
 
BREAKING NEWS
मिशन 2024 पर निकले रणदीप सुरजेवाला,किसान कांग्रेस के जरिए पूरे प्रदेश में समर्थकों को किया एडजैस्टहिमाचल में बस 500 फीट गहरी खाई में गिरी, 28 की मौत; 32 घायलफरीदाबाद की एक और बेटी तनीषा दत्ता ने किया देश का नाम रौशनयोग करता है मन की वृतियों को नियंत्रण में, होती है मानसिक, शारीरिक, अध्यात्मिक स्वास्थ्य की प्राप्ति : आरके सिंहभाजपा आईटी सेल के बनाए ग्रुपों में राजकुमार सैनी के खिलाफ अफवाह चलाने की चर्चाएं !करवाएंगे केस दर्ज : सैनीकैथल खाद्य एवं आपूर्ति विभाग को कैशलेस करने की योजना !कैथल की सरकार पर भ्रष्टाचार मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद भी कोई कार्रवाई न होना बना रहा हास्यास्पद स्थिति !नही चले अयुष्मान कार्ड, बेटे के ईलाज के लिए दर-दर भटक रहे परिजनमर रही थी गाये, न खाने के लिए प्रर्याप्त चारा न की जाती थी देखभाल डीसीआरयूएसटी में एम.एससी. कैमिस्ट्री बना हुआ है टॉप च्वाइस. कैमिस्ट्री में 261 व पीएच.डी में कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में 85 ने किया आवेदन

World

अंगों के प्रत्यारोपण के मामले में भारत दुनिया में दूसरे स्थान पर: डॉ. वाहिद

August 12, 2017 07:04 PM
रणबीर रोहिल्ला

अंगों के प्रत्यारोपण के मामले में भारत दुनिया में दूसरे स्थान पर: डॉ. वाहिद

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।


विश्व अंग दान दिवस, के मौके पर जागरूकता कायम करने के लिए मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, शालीमार बाग के डॉक्टर  वरिष्ठ कंसल्टेंट यूरोलॉजिस्ट एवं रीनल प्रत्यारोपण सर्जन डॉ. वाहिद जमान, वरिष्ठ कंसल्टेंट नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. दीपक जैन और  कंसल्टेंट नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. योगेश छाबड़ा पत्रकारों से रूबरू हुए। 
डॉ. वाहिद ने कहा, ‘‘भारत में दाताओं की कमी के कारण अंग के लिए इंतजार करने के दौरान ही उन मरीजों में से 90 प्रतिशत मरीजों की मृत्यु हो जाती है जिन्हें महत्वपूर्ण अंग का प्रत्यारोपण कराने की जरूरत है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, भारत में 200, 000 लोग किडनी के लिए इंतजार कर रहे हैं और 30, 000 लोग लीवर का इंतजार कर रहे हैं। कानूनी दान से लगभग 3 से 5 प्रतिशत मांग (प्रतिवर्श 100 किडनी ट्रांसप्लांट और 800 लीवर प्रत्यारोपण) ही पूरी हो पाती है। इसके अलावा जीवित दाता से लिए गए अंगों के प्रत्यारोपण के मामले में भारत दुनिया में दूसरे स्थान पर है क्योंकि भारत में 95 प्रतिषत दाता जीवित डोनर होते हैं जबकि केवल एक प्रतिषत कैडेवर (मृत) डोनर होते हैं।’’ 
विश्व अंग दान दिवस का मिशन लाइव और कैडेवर डोनर प्रोग्राम दोनों के लिए अधिक जागरूकता पैदा करना है। डॉ. वाहिद ने यह भी कहा कि हमारे देश में अंगों की ज़रूरत और आपूर्ति के बीच भारी विसंगति है और इसे खत्म किया जा सकता है, अगर दुर्घटनाओं में मौत के षिकार होने वाले लोगों के अंग प्रत्यारोपण के लिए उपलब्ध करा दिए जाएं। भारत में दुर्घटनाओं में करीब चार लाख लोगों की मौत हर साल होती है। इसके अलावा मौजूदा समय में एक अन्य सबसे व्यवहार्य  विकल्प है - डोनर स्वैपिंग एवं एबीओ-रक्त समूह असंगत दाताओं से प्रत्यारोपण। इस तरह के प्रत्यारोपण जो अतीत में उच्च जोखिम वाले माने जाते थे आज के समय में उपलब्ध इम्युनोसप्रैषिव उपचार मानदंडों के कारण अच्छे लघुकालिक एवं स्वीकार्य दीर्घकालिक परिणामों के साथ संभव हो गए हैं। 

Have something to say? Post your comment

More in World

अनमोल शर्मा करेगा वर्ल्ड पीस कमेटी ( इंडोनेशिया) की तरफ से भारत को रिप्रेजेंटेटिव।

इमरान खान ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखा खत, कहा- मुद्दे सुलझाने के लिए बातचीत जरूरी

पैंतरेबाज' चीन का मसूद अजहर मामले में कैसे हुआ हृदय परिवर्तन, जानिए अब क्या होगा

श्रीलंका धमाकों में 290 की मौत, 24 गिरफ़्तार

पाकिस्तान में एक और हिंदू किशोरी का अपहरण, जबरन धर्म परिवर्तन

सऊदी अरामको की नजर आरआईएल के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल की 25 फीसदी हिस्सेदारी पर, बातचीत जारी

एफिल टावर को टक्कर देने वाली इमारत में लगी भीषण आग, अपने ट्वीट से घिरे डोनाल्ड ट्रंप

बीआरआई फोरम बैठक का फिर बहिष्कार कर सकता है भूटान, भारत का देगा साथ

फिर ठुकराया भारत ने चीन का न्योता , बीआरआई में नहीं होगा शामिल

अमेरिका से आई 15 साल की छात्रा रेहा जैन,बदल गया मन अब करेगी ये काम