Tuesday, June 25, 2019
 
BREAKING NEWS
लुप्त हुए "तरावड़ी गेट' और 'बाजारी गेट' कुछ हिस्सा बचने पर ऐतिहासिक करनाली गेट का होगा पुन: निर्माणइंडिया टीम में तेज गेंदबाजी कर परचम लहराऐगा तरावड़ी का नवदीप सैणीनशा मुक्ति दिवस पर 26 जून को सैमिनार, बुद्धिजिवी वर्ग तथा सामाजिक संस्थाए करेंगी प्रतिभागी प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना लागू ,गरीब व्यक्ति को भी आर्थिक लाभ मिलेगा -डीसी दीपेंद्र को हरियाणा कांग्रेस प्रधान बनवाने के लिए बड़ी ताकतें हुई लामबंद,कांग्रेस के आधा दर्जन बड़े नेता कर रहे सामूहिक प्रयासनगर परिषद कैथल के सफाई कर्मचारियों ने सर्वसम्मति से अंगूरी देवी को चुना प्रधान पत्रकार संघ के प्रदेशाध्यक्ष बने तरावड़ी के संजीव चौहानलाड़वा हल्के मे मल्टीपल खेल स्टेडिरूम बनवाना होगा प्राथमिकता : संदीप गर्गमुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व मे लाड़वा हल्के ने छुए विकास के नए आयाम : पवन सैनी भाजपा विधायक ने मंत्री के सामने लगाए एसपी मुर्दाबाद के नारे

Literature

एक पर्व के लिए दो-दो तिथियां भविष्य नहीं आएगी सामने

January 31, 2018 05:04 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

एक पर्व के लिए दो-दो तिथियां भविष्य नहीं आएगी सामने
संस्कृत विद्वानों ने बनाया एक पंचाग
प्रचार -प्रसार के लिए सभी शहरों में ईकाई होगी गठित : शास्त्री
जींद(सन्नी मग्गू):एक पर्व को दो तिथियों में मनाने की खामिया भविष्य में सामने ना आएं। इसके लिए संस्कृत भारती संगठन ईकाई व पुजारी मंडल ने बुधवार को सोमनाथ संस्कृत महाविद्यालय जींद में एक बैठक कर चिंतन मनन किया। फूल कुमार शास्त्री और सत्यनारायण शास्त्री की संयुक्त अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में निर्णय लिया गया कि भविष्य में कोई भी त्यौहार दो-दो तिथियों में नहीं मनाएं जाएंगे। इसके लिए एक पंचाग तैयार किया गया, जिस पर सभी ने स्वीकृति की मोहर लगाई। बैठक को संबोधित करते हुए आचार्य देवीदयाल शास्त्री ने कहा कि संस्कृत संस्कारों की भाषा है। यह सभी भाषाओं की जननी है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के विभाग प्रमुख सुशील शास्त्री ने कहा कि संस्कृत को जीवित रखने के लिए इसे जनभाषा के रूप में अपनाना होगा। संस्कृत भाषा के विकास के बिना संस्कारित समाज का निर्माण नहीं किया जा सकता। इस मौके पर संस्कृत भारती की जिला ईकाई का सर्वसम्मति से गठन किया गया। इसमें सत्यानारायण शास्त्री को अध्यक्ष, राजेंद्र शास्त्री तथा गौरव शास्त्री को उपाध्यक्ष, रमेश आचार्य सचिव, मनोज शास्त्री, कुरडिय़ा राम शास्त्री को सहसचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई। इसमें फूल कुमार शास्त्री, वेदपाल शास्त्री, देवीदयाल शास्त्री को मार्गदर्शक की जिम्मेदारी देने के साथ-साथ सुशील शास्त्री, शिवकुमार शास्त्री, दिनेश शास्त्री, योगराज शास्त्री, धर्मपाल शास्त्री, श्रीभगवान शास्त्री, शुभम शास्त्री, जगदीश शास्त्री को कार्यकारिणी सदस्य के तौर पर शामिल किया गया। इस मौके पर उपस्थित ज्योतषियों और विद्वानों ने कहा कि भविष्य में ऐसी कोई भी भ्रांति सामने नहीं आएगी, जिसमें एक पर्व के लिए दो-दो तिथियां निर्धारित हो। इसके अलावा संस्कृत को जनभाषा बनाने के लिए सभी शहरों में ईकाई का गठन किया जाएगा।

Have something to say? Post your comment

More in Literature

जवान लड़कियां संन्यास लेती हैं तो आप उन्हें मां क्यों कहते है?

मिश्रित फल देगा नव विक्रम सम्वत-2076, होंगे राजनैतिक परिवर्तन मिथुन, तुला और कुम्भ राशि और लग्न वालों को लाभ होगा

सिद्ध श्री बाबा बालक नाथ जी प्रचार समिति फरीदाबाद भजनो भरी शाम बाबा जी के नाम का आयोजन किया

सरस्वती अन्नपूर्णा भण्डारा सेवा समिति द्वारा सरस्वती मंदिर मे भंडारे का आयोजन किया

पिहोवा-पितरों की आत्मिक शांति के लिए सरस्वती तीर्थ पर पहुंचने लगे श्रद्धालु

6 अप्रैल से परिधावी नामक नवसंवत 2076 एवं चैत्र नवरात्रि आरंभ

होली आई रे .... होलिका दहन, 20 मार्च की रात्रि 9 बजे के बाद, रंग वाली होली 21 को।

गुरू मां सम्मेलन में मिलती है अनोखी अलौकिक शक्तियां : सुरेंद्र पंवार

खाटू श्याम में बाबा का मेला शुरू, श्याममय हुआ समूचा क्षेत्र, प्रतिदिन गुजरने लगे है श्याम प्रेमियों के जत्थे

शीश के दानी का सारे जग में डंका बाजे ने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी एक अलग पहचान बनाई - लखबीर सिंह लख्खा