Monday, May 20, 2019
BREAKING NEWS
सूचनाओं को आम जन तक पहुंचाने में सकारात्मकता का संदेश दिया था नारद नेसूरज हुआ प्रचंड़, गर्मी दे रही दंड़, बाजार हुए सुनसानरामकंवर दत्त शर्मा के निधन पर जताया शोक10वीं के परिक्षा परिणाम में डी लाईट हाई स्कूल की छात्रा प्रिति प्रदेश की टॉप 10 लिस्ट मेंविद्या रानी दनौदा ने नरवाना विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं का आभार व्यक्त करने व आपसी भाईचारा बनाए रखने के लिए आभार व्यक्त कियाजॉब के लिए एक बेहतरीन सीवी तैयार करना भी अति आवश्यक-पवन भारद्वाजहरियाणा सरकार वापस ले सकती है अपना फैंसला हरियाणा में नहीं चलेंगी किलोमीटर स्कीम में निजी बसें हरियाणा-पंजाब में उजागर हुआ जीएसटी महाघोटाले का खेल विद्यार्थी, झूल रहे हैं मौत का फंदा !फीस प्रतिपूर्ति के दावे के लिए जिलों को आदेश, जल्द होगा भुगतान, 26756 विद्यार्थियों को स्कूल अलाट की शुरू होगी प्रक्रिया

Madhya Pradesh

नगर में पर्याप्त भीषण पेयजल संकट के लिए जिम्मेवार कौन?

March 10, 2018 09:41 AM
अटल हिन्द ब्यूरो

नगर में पर्याप्त भीषण पेयजल संकट के लिए जिम्मेवार कौन?
जनता बूंद बूंद पानी के लिये मोहताज: अधिकारी मस्त जनता त्रस्त


हरपालपुर।

 

स्थानीय नगर परिषद के जिम्मेवार अधिकारियों कर्मचारियों के लापरवाह रवैये एवं अर्कमण्यता के चलते कस्बे में इन दिनों भीषण पेयजल संकट गहरा गया है। आलम यह है कि लोगों को मनमाने पैसे देकर प्राईवेट टैंकरों से रात रात भर जागकर पीने के पानी की व्यवस्था करनी पड़ रही है।
नगर परिषद द्वारा पहने एक दिन छोड़कर एक दिन टंकी से पेयजल सप्लाई की जाती थी जो बिना बताये अब दो दिन बाद कर दी गई है और उसमें भी कभी नज पांच से दस मिनट के लिये आते हैं और कभी तो न आने का पता चलता है और न जाने का। स्थिति इतनी भयावह होती जा रही है कि अब नगर परिषद केवल पीने के लिए ही पानी मुहैया करा रही है। कस्बावासी इन दिनों पानी की एक एक बूंद के लिये मोहताज है और नगर परिषद के जिम्मेवार अधिकारी केवल एक ही घिसा पिटा जबाव दे रहे हैं कि टंकी नहीं भर पा रही है। लेकिन आमजनता की समझ से यह बात परे है कि आखिर दो दिन में एक टंक्ी क्यों नहीं भर पा रही है। यह तो सभी जानते हैं कि अल्प वर्षा के कारण समूचा बुंदेलखड इन दिनों भीषण सूखे की चपेट में है लेकिन नगर परिषद के अधिकारी अभी तक हाथ पर हाथ धरे क्यों बैठे रहे। आने वाले महीनों में इस तरह की स्ििाति उत्पन्न होने वाली है। यह जानकर भी नप. के जिम्मेवार अधिकारियों ने समय रहते इस समस्या से निपटने के लिये कोई ठोस कदम नहीं उठाया। शासन स्तर पर बैकल्पिक व्यवस्थाएं क्यों नहीं की है।
बीते सितंबर अक्टूबर माह से ही शहर में उत्पन्न पेयजल संकट चलते सभी लिया था, ताकि आम जनता को कुछ राहत मिल सके। नप की अध्यक्ष परिषद व परिषद की सामान्य सभा में टैंकर सेवा शहर में शुरु करने के निर्णय को आज तक अमल में क्यों नहीं लाया गया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस कार्य को नपं के एक जिम्मेवार अधिकारी जो जल कार्य के प्रभारी भी है के अडिय़ल रवैये एवं मनमर्जी फर्म को उक्त ठेका न मिलने के कारण बीती 1 दिसंबर से शुरु होने वाली टैंकर सेवा आज तक शुरु नहीं हो सकी है।फिर भी जल कार्य के प्रभारी महोदय शासन से अनुमती लेने के नाम पर टेंकर सेव दोवारा शुरु करवाने में कोई न कोई रेाड़ डालते ही रहे। अब तो स्थिति इतनी विकराल हो गई है कि नगर परिषद के निर्वाचित पार्षद रोज सुबह दोपहर शाम आम जनता की गलियां खा रहे हैं और अधिकारी कर्मचारी चुपचाप कानो में तेल डालकर बैठे हुए हैं। नपं के जल कार्य प्रभारी महो. तो रोज शासकीय कार्य करने का बहाना बनाकर दोपहर तक छतरपुर से आफिस पहुंचते हैं और शाम होते ही बस पकड़कर रवाना हो जाते हैं शहर की जनता इन दिनों बिना पानी के कैसे निर्वाह कर रही है इससे इन महोदय का कोई लेना देना नहीं है। आखिरकार जब सितंबर अक्टूबर माह से ही नगर में पेयजल संकट गहराने लगा था। तो समय रहते इस समस्या से निपटने के लिये कोई ठोस कदम क्यों नहीं उठाये गए। टैंकर सेवा दोवारा शुरु करने का निर्णय जब सभी पार्षदों ने एक मत होकर लिया था तो यह सेवा आज तक शुरु क्येां नहीं की गई। आज पीएचई विभाग के सर्वेयर द्वारा नगर में हजारिया बोर करवाने के लिये सर्वे कराया जा रहा है। यह कार्य तीन माह पहले क्यों नहीं कराया गया जब अधिकारियों को पता था कि अधिकांश पेयजल स्त्रोत सूख रहे हैं या सूख चुके हैं तो पहले एक बृहद कार्ययोजना तैयार क्यों नहीं की गई। जिससे टंकी की पेयजल आपूर्ति आज की तरह वाधित न होती। आज नगर में ऐसे गहराये पेयजल संकट के लिए जिम्मेवार कौन। यदि इसमें कतिपय अधिकारियों का दोष है तो नगर की जनता ने कलेक्टर महोदय से ऐसे दोषी अधिकारी को तत्काल दंडित करने की मांग की है।

Have something to say? Post your comment

More in Madhya Pradesh

आगनवाड़ी सहायिका को सरे आम रस्ते में रोक कर की छेड़छाड़, महिला एस पी से लगाई न्याय की गुहार

खरीदी केन्द्रों पर समिति प्रबंधकों और व्यापारियों की सांठगांठ से हो रहा है घोटाला, एफएक्यू क्वालिटी का गेहू की नहीं की जा रही खरीदी

प्राइवेट स्कूलो द्वारा बढ़ाई गई फीस को न दे अभिभावक- बिद्यार्थी सेना

लापरवाही से बाहन चलाने वाले 6माह की कठोर कैद

धर्म और जाति के नाम पर नहीं जमीनी मुद्दों को लेकर हो मतदान - युसूफ बैग

गांव गांव जाकर जनता की समस्याओ से हो रही रूबरू-कांग्रेस प्रत्यासी कविता राजे

देश में एक विधान एक प्रधान ही चलेगा का नारा देते हुए कांग्रेस पर साधा निशाना -अमित शाह

जमीनी विवाद को लेकर कलयुगी पुत्र ने की पिता की हत्या

भाजपा प्रत्याशी बीडी शर्मा खजुराहो लोकसभा से आज करेंगे नामांकन दर्ज

समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी वीर सिंह पटेल आज भरेंगे नामांकन