AtalHind
अम्बाला (Ambala)टॉप न्यूज़हरियाणा

गांव केसरी में गिरेंगे दर्जनों मकान पोकलेन मशीन द्वारा नाले की सफाई के दौरान घरों में आई दरारें

घरों में आई दरारें ग्राम पंचायत ने पहले कार्रवाई की, फिर लोगों को भेजा नोटिस
अम्बाला, अटल हिन्द ब्यूरो /पूर्ण सिंह
Advertisement
गांव केसरी में पोकलेन मशीन द्वारा नाले की खुदाई के दौरान लोगों के घरों में काफी नुकसान पहुंचा है, जिससे पीडि़त लोगों में भारी चिंता बनी हुई है। क्योंकि यदि बारिश होती है तो यह मकान गिर सकते हैं। हैरानी की बात यह कि 25 मई को नाले की खुदाई की गई जिसमें लोगों के घरों का नुकसान हुआ जबकि नोटिस उन्हें 30 मई को दिए। पीडि़तों ने बताया कि इससे पहले उन्हें कभी नोटिस नहीं दिया गया। हालांकि सरपंच प्रतिनिधि रूपिन्द्र ने लोगों को भेजा गया नोटिस दिखाया तो उसमें 30 मई की तिथि अंकित थी, जिसके बारे में ग्रामीणों ने भी कबूल किया। लेकिन बाद में रूपिन्द्र ने बताया कि इससे पहले भी एक नोटिस भेजा था, लेकिन इस नोटिस के बारे में पीडि़तों को नहीं पता। क्योंकि पीडि़तों का आरोप है कि नाले की सफाई से पहले उन्हें किसी प्रकार की सूचना नहीं दी गई।
गांव केसरी निवासी जग्गा सिंह, सीताराम, नीताराम, ग्रामीण चौकीदार चांदराम, उषा रानी, रामप्यारी, पूजा रानी, आरती, रेखा, पूनम, लीला देवी, केशो देवी, कृष्णा देवी, अशोक कुमार, परमजीत, गुरमेलो देवी, सुलोचना, गुरदेवी, रूपा देवी, संजना देवी व अन्य ने बताया कि गांव में गंदे पानी का नाला बहुत पुराना है जो केसरी से होकर बजीदपुर, लंडा की तरफ निकलता है। इस नाले के दोनों तरफ लोग करीब 40 वर्र्षाें से घर बनाकर रहे रहे हैं। इन लोगों ने बताया कि मई महीने में ग्राम पंचायत की तरफ से उन्हें बिना कोई सूचना या नोटिस दिए पोकेलन मशीन से सफाई शुरू करवा दी गई। पोकलेन मशीन द्वारा नाले की काफी गहराई से खुदाई की गई और नाले के दोनों तरफ बने मकानों की नींव के बिलकुल साथ से मिट़्टी उखाड़ दी गई है। इन लोगों ने बताया कि बताया कि पोकलेन मशीन द्वारा मिट्टी हटाने और कंपन से उनके घरों में बड़ी-बड़ी दरारें आ गई। वह बहुत गरीब लोग हैं और मेहनत से यह घर मनाए, लेकिन एक ही झटके में उनके घरों को नुकसान पहुंचा दिया। इन लोगों ने बताया कि उन्होंनें पोकलेन मशीन चला रहे व्यक्ति से भी आग्रह किया कि वह उनके घरों को नुकसान ना पहुंचाए, लेकिन उसने भी उनकी एक नहीं सुनी। इसी के चलते जग्गा सिंह ने पोकलेन मशीन के ड्राइवर और मालिक की शिकायत साहा थाने में की, लेकिन बाद में उसे समझौता करना पड़ा। उन्होंने कहा कि उनके घर बिलकुल तबाह होने के कगार पर हैं, यदि बारिश हुई तो उनके घर ढह जाएंगे और नाले में गिर जाएंगे।
Advertisement
बॉक्स
इन लोगों के घरों में हुआ नुकसान
पोकलेन मशीन द्वारा नाले की सफाई के दौरान जग्गा सिंह, बलबीर सिंह, नीताराम, मलकीत सिंह, ग्रामीण चौकीदार चांदराम, सुरजीत सिंह, सुरजन, मलकीत, जसवीर जस्सी, राजेंद्र कुमार, हरबंस, नरेश कुमार, रेखा रानी, धर्मपाल , प्रकाश सिंह के घरों को नुकसान पहुंचा है। उनके घरों की नीव के पास लगी मिट्टी हट चुकी है और नींव साफ दिखाई देने लगी है और अगर बारिश आती है तो यह घर ढह जाने का खतरा है। वहीं, घरों में दरारें आ चुकी हैं, लैंटर में भी दरार है। जग्गा सिंह के घर की छत का लैंटर नाले की तरफ झुक गया है जो कभी भी गिर सकता है। इससे लोगों की जान माल का खतरा बना हुआ है।
Advertisement
बॉक्स
मंदिर में ली शरण
Advertisement
गांव की रेखा रानी पत्नी जसबीर,आरती पत्नी तरसेम ने बताया कि उनके घरों में काफी नुकसान हुआ है और उन्हें घर गिरने का खतरा है। इसलिए वह अपने परिवार के साथ गांव के श्री गुरु रविदास मंदिर में रह रहे हैं। उन्हें अब भविष्य की भी चिंता सता रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि उन्हें बेवजह परेशान किया जा रहा है।
बॉक्स
पहले भी दिया था नोटिस, पंचायती जमीन पर है कब्जा
Advertisement
गांव के सरपंच प्रतिनिधि रूपिन्द्र का कहना है कि इस नाले की पैमाइश कराई गई थी, जिस पर दोनों तरफ लोगों द्वारा कब्जा किया गया है। बारिश के दिनों में गांव का जोहड़ भी ओवरफ्लो हो जाता है और इस नाले का पानी सड़कों पर आ जाता है, इसलिए बारिश से पहले इसकी सफाई कराई जा रही है। रूपिन्द्र ने कहा कि ग्रामीणों को नोटिस दिया गया था और उसके बाद ही कार्रवाई की गई है।
बॉक्स
बीडीपीओ ने मामले में बात करने से किया इनकार
Advertisement
साहा की बीडीपीओ रूबल से जब इस मामले बारे में मोबाइल पर बात की तो उन्होंने फोन नहीं उठाया जब उन्होंने फोन नहीं उठाया तो कार्यालय में जाकर उनसे बात करनी चाहि लेकिन  उन्होंने पहले तो बात करने इनकार कर दिया, लेकिन बाद में इस मामले से पल्ला झाड़ते हुए ग्राम सचिव से बात करने को कहा। बीडीपीओ के सामने ही केसरी के ग्राम सचिव नीरज ने कहा कि ग्रामीणों ने पंचायती जमीन पर कब्जा किया हुआ है बाकि आपने जो लिखना है लिख दो, हम इस बारे में ज्यादा बात नहीं करेंगे। नीरज ने कहा कि मैं आपको इस बारे में क्यों जवाब दूं, अगर ग्रामीण आंएंगे तो उन्हें जवाब दूंगा।
Advertisement
Advertisement

Related posts

हरियाणा में न तो पुस्तकें उपलब्ध और न ही छात्रों के खाते में पैसे आये

admin

मधु सारवान तो मात्र भाजपा का मोहरा थी गुरुग्राम जिला परिषद चेयरमैन के चुनाव में देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बीजेपी हारी है ।

atalhind

मोदी सरकार को कड़ी फटकार एससी बोला न्यायाधिकरणों में अधिकारियों की नियुक्ति न करके अर्द्ध न्यायिक संस्थाओं को ‘शक्तिहीन’ कर रहा है केंद्र

atalhind

Leave a Comment

URL