AtalHind
गुरुग्राम टॉप न्यूज़

हरियाणा सरकार ने कितनी रिश्वत खाई ,मजदूरों को मरवाने के लिए  एस एस लिंडंन फलोरर्स से ,एक मौत ! जिम्मेदार मंत्री होना चाहिए सजा मंत्री को मिलनी चाहिए 

हरियाणा सरकार ने कितनी रिश्वत खाई ,मजदूरों को मरवाने के लिए  एस एस लिंडंन फलोरर्स से ,गलत काम अधिकारी करता है तो जिम्मेदार मंत्री होना चाहिए सजा मंत्री को मिलनी चाहिए

पहले बनाई आसमान छूती बिल्डिंग…बाद में बेसमेंट की खुदाई !

बेसमेंट की खुदाई के दौरान  मिट्टी ढहने से मौके पर दबे कई मजदूर

यह हादसा मंगलवार को थाना खेड़कीदौैला के गांव सिकंदरपुर में हुआ

18 वर्षीय मिट्टी में दबे मजदूर को निकालकर अस्पताल पहुंचाया गया

एसएस ग्रुप के द्वारा गांव सिकंदरपुर में यह पूरा प्रोजेक्ट निर्माणाधीन

सत्ता पक्ष के सांसद के स्वामित्व वाले एसएस लिंडन फलोर का निर्माण

अटल हिन्द /फतह सिंह उजाला
गुरुग्राम । देश की राजधानी के दक्षिणी दिल्ली के साथ लगते गुरुग्राम जिसकी पहचान मेडिकल हद के साथ-साथ अब हाई राइज बिल्डिंग, रेजिडेंशियल फ्लोर के रूप में भी बनती जा रही है। इसी गुरुग्राम सिटी में हाई राइज बिल्डिंग्स और हादसों के बीच लगता है कोई गहरी सांठगांठ भी हो चुकी है ? अभी चिंतल पैराडिसो सोसायटी का मामला ठंडा भी नहीं हुआ कि मंगलवार को एक और मामला सुर्खियां बन गया ।

 

मंगलवार को थाना खेड़की दौला क्षेत्र में गांव सिकंदरपुर में हाई राइज बिल्डिंग्स के कंस्ट्रक्शन और यहां बन चुके फ्लोर के साथ ही बेसमेंट की खुदाई के दौरान अचानक मिट्टी ढह गई । जिस समय यह हादसा हुआ बताया गया है करीब आधा दर्जन मजदूर मौके पर काम कर रहे थे। जैसे ही हाई राइज बिल्डिंग निर्माणाधीन साइट से सटी हुई बेसमेंट में मिट्टी ढ़ही तो खलबली मच गई । आनन-फानन में फायर ब्रिगेड सहित अन्य विभागों को इस हादसे के बारे में जानकारी दी गई ।समाचार लिखा जाने तक उपचार के दौरान गजेंद्र पाल नेदम तोड़ दिया।

मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों के द्वारा बिना समय गवाएं बचाव कार्य आरंभ किया गया । कथित रूप से मिट्टी ढहने के दौरान तीन मजदूर दबने की बात बताई गई , मिट्टी में दबे मजदूरों को रेस्क्यू कर बाहर निकाला गया। लेकिन इस दौरान एक मजदूर की हालत गंभीर होने की वजह से उसे अस्पताल में एडमिट करवाया गया है।

अस्पताल में एडमिट करवाए गए मजदूर की पहचान गजेंद्र पाल 18 वर्ष पुत्र फूल सिंह निवासी बरेली उत्तर प्रदेश के रूप में की गई है ।

जैसा की हरियाणा सरकार के मुखिया ढिंढोरा पीटते रहते है की उनके जैसा मुख्यमंत्री कोई नहीं हुआ बात भी सही है हरियाणा में जितने यू टर्न करनाल विधायक मनोहर खटटर ने बतौर मुख़्यमंत्री लेकर इतिहास रचा है हरियाणा में पिछले 7 सालों से पहले कभी नहीं हुआ है।

अब रही बात हरियाणा को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने की उसमे भी मनोहर लाल खटटर का अपना चुनावी हल्का करनाल रिश्वत मामलों को लेकर इतिहास रचने को है हर रोज नए घोटाले सामने आ रहे है। लेकिन यहाँ मामला कुछ और है यानी संगीन है की एस एस ग्रुप से हरियाणा सरकार ने कितनी रिश्वत ली मजदूरों को मरवाने के लिए क्या हरियाणा सरकार की नजर में मजदुर इंसान नहीं है ,क्या मजदुर की कोई कीमत नहीं ,अगर है तो एस एस ग्रुप को  बिल्डिंग बनाने के बाद बेसमेंट की खुदाई की इजाजत किस अधिकारी  ने दी इसलिए मनोहर सरकार के नियमों अनुसार तो गलत काम अधिकारी करता है तो जिम्मेदार मंत्री होना चाहिए सजा मंत्री को मिलनी चाहिए ?

Advertisement

सूत्रों के मुताबिक एस एस ग्रुप के द्वारा एस एस लिंडंन फलोरर्स का निर्माण कार्य सिकंदरपुर में युद्ध स्तर पर करवाया जा रहा है । बताया गया है कि यह पूरा प्रोजेक्ट सत्ताधारी भाजपा के राजस्थान टोंक से सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया के स्वामित्व वाला ही है या फिर उनकी इस पूरे प्रोजेक्ट में हिस्सेदारी होने की बात कही जा रही है ।

मामला सत्ता पक्ष के सांसद और प्रभावशाली राजनेता से जुड़ा होने के कारण हादसे सहित घटनाक्रम के संदर्भ में अधिकारी खुलकर बोलने से बचते दिखाई दिये। थाना खेड़की दौला के अंतर्गत गांव सिकंदरपुर में जिस स्थान पर बेसमेंट की मिट्टी ढ़ही, यहां मौके के हालात और स्थिति किसी को भी गहरी चिंता में डुबोकर सोचने के लिए विवश करने के लिए पर्याप्त है ।

जिस प्रकार से निर्माणाधीन बिल्डिंग से सटी हुई जगह पर मिट्टी ढ़ही है , उसे देखते हुए बिल्डिंग के अपने स्थान पर खड़े रहने पर भी सवाल हादसे के बाद जवाब की तलाश में है ? वही लोगों का यह भी कहना है मंगलवार जैसा हादसा मानसून के दौरान या फिर बरसात के दौरान हुआ होता तो किसी भी बड़ी अनहोनी घटना घटित होने की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता है ।

यदि ऐसा होता तो बीते दिनों चिंतल पैराडिसो सोसायटी से भी कई गुना घातक हादसा हो सकता था ।

लेकिन मौके पर काम कर रहे मजदूरों का भाग्य उनके साथ था, जिसकी वजह से सभी मजदूर सुरक्षित बच गए।

How much bribe did the SS Group Haryana government eat to get the laborers killed? From SS Linden Flowers, if the officer does the wrong thing, then the minister should be responsible, the minister should be punished

मंगलचार को गुरुग्राम के सेक्टर 84-85 में एस एस ग्रुप के एसएस लिंडन फ्लोर्स के कंस्ट्रक्शन साइट्स पर बेसमेंट की खुदाई के दौरान की बड़ा हादसा हो गया।

 जिसमें बेसमेंट बनाने के लिए मिट्टी की खुदाई का काम किया जा रहा था । उस दौरान मिट्टी खिसक गई और उसमें तीन मजदूर जो काम कर रहे थे वो मिट्टी के नीचे दब गए।

वहां काम करने वाले और लोगों ने यह दृश्य देख शोर मचाना शुरू कर दिया और दबे हुए लोगों को निकालने में जुट गए ।इस दौरान पुलिस और फायर ब्रिगेड को भी सूचना दी गई, सूचना मिलते ही तुरंत पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंच गई और रेस्क्यू कर 2 लोगों को सुरक्षित मिट्टी से बाहर निकाल लिया गया।

जबकि एक जिसकी हालत खराब हो गई, उसे निकालकर अस्पताल में भर्ती करा दिया गया । डॉक्टरों के अनुसार घायल मजदूर की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। पुलिस घटना के बारे में जानकारी हासिल कर रही है कि यह हादसा हुआ जो हुआ कैसे।

मंगलचार को करीब 9. 30 बजे बेसमेंट की खुदाई के दौरान मिट्टी नीचे धंस गई और इसकी चपेट में 3 मजदूर आ गए । मौके पर पहुंचे दमकल कर्मी और पुलिस़ तुरंत मिट्टी हटा मजदूरों को सुरक्षित निकालने में जुट गए। जिसमें 2 मजदूरों को सुरक्षित और एक को घायल अवस्था में निकाला गया, जिसको अस्पताल में उपचार के लिए भेज दिया गया।

जहां घायल मजदूर की हालत अभी भी गंभीर बताई जा रही है। एसएस ग्रुप जहां पर यह हादसा हुआ है , वह बीजेपी के बड़े नेता व राजसथान से सांसद का है । इसीलिए प्रशासन ने इस मामले में चुप्पी साध रखी है । मीडिया के सामने प्रशासन का कोई भी अधिकारी कुछ भी कहने से बचता दिखाई दिया। ऐसा ही एक हादसा चिंतल सोसाइटी में हुआ था।

जिससे बाद प्रशासन उस पर जांच बैठा दी थी  कि ऐसा हादसा इस ग्रुप की बन रही नई सोसाइटी में भी हो सकता है। तस्वीरों में साफ़ देख देख सकते हैं कैसे पहले बिल्डिंग खड़ी कर दी गई और बाद में बेसमेंट की खुदाई का काम किया जा रहा है ।

जिसमें मिट्टी नीचे धंस गई और इसमें मजदूर दब गए। क्या अब बीजेपी नेता व रसूखदार सांसद के खिलाफ प्रशासन कोई कार्रवाई करता है या इस पर लीपापोती कर इस केस को यहीं पर बंद कर दिया जाता है , यह तो आने वाला समय ही बताएगा ?

Advertisement
Advertisement

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति ATAL HIND उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार #ATALHIND के नहीं हैं, तथा atal hind उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

अटल हिन्द से जुड़ने के लिए शुक्रिया। जनता के सहयोग से जनता का मीडिया बनाने के अभियान में कृपया हमारी आर्थिक मदद करें।

Related posts

कैथल प्रशासन द्वारा निर्धारित  खाद्य पदार्थों के दामों में कुछ नहीं सब गोल-माल है

admin

कानून आम जनता पर लागू होते है नवजोत सिद्दू जैसे खददरधारी नेताओं पर नहीं ,बिजली विभाग का 10 – 20 हजार नहीं बल्कि पूरे 8,67,540 बकाया

admin

सादे कागज पर साइन कर के आपसे कोई 10 लाख रुपये उधार ले और वापस करने से मना कर दे तो क्या करना चाहिए?

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this:
URL