AtalHind
टॉप न्यूज़दिल्लीराजनीतिराष्ट्रीय

SBI ने अपनी वेबसाइट से चुनावी बॉन्ड से जुड़े दस्तावेज़ डिलीट किए

भारतीय स्टेट बैंक ने अपनी वेबसाइट से चुनावी बॉन्ड से जुड़े दस्तावेज़ डिलीट किए

भारतीय स्टेट बैंक ने अपनी वेबसाइट से चुनावी बॉन्ड से जुड़े दस्तावेज़ डिलीट किए

नई दिल्ली: (SBI)भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने अपनी वेबसाइट से चुनावी बॉन्ड (electoral bonds)से जुड़े दस्तावेज हटा दिए हैं. यह घटनाक्रम ऐसे समय में सामने आया है जब बैंक ने राजनीतिक दलों द्वारा भुनाए गए चुनावी बॉन्ड का विवरण जमा करने के लिए 30 जून तक का समय मांगा है.SBI-Bonds-Info-Deleted

रिपोर्ट के अनुसार, जो लिंक या वेबपेज एसबीआई की वेबसाइट पर मौजूद नहीं हैं, उनमें डोनर्स (चंदा देने वालों) के लिए ऑपरेटिंग दिशानिर्देश और अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न या एफएक्यू वाले वेबपेज शामिल हैं.State Bank of India deleted documents related to electoral bonds from its website

डोनर्स के लिए दिशानिर्देश शीर्षक वाले दस्तावेज़ में मूल रूप से एक गजट अधिसूचना थी, जिसे 2 जनवरी, 2018 को जारी किया गया था. इसमें बुनियादी जानकारी जैसे कि कौन चुनावी बॉन्ड खरीद सकता है, चुनावी बॉन्ड किस मूल्यवर्ग में उपलब्ध थे, चुनावी बॉन्ड खरीदने के लिए कौन से दस्तावेज आवश्यक थे, बॉन्ड, कैसे खरीदें (एनईएफटी, ऑनलाइन लेनदेन आदि के जरिये) और बॉन्ड की खरीद के लिए एसबीआई की कौन-सी शाखाएं अधिकृत हैं वगैरह दर्ज थे.bhaarateey stet baink ne apanee vebasait se chunaavee bond se jude dastaavez dileet kie

वहीं, एफएक्यू वाले हिस्से में एसबीआई ने चुनावी बॉन्ड से संबंधित बुनियादी जानकारी जैसे केवाईसी जरूरतें और बॉन्ड की खरीद के लिए आवश्यक नागरिकता प्रमाण आदि दिए गए थे. हटाए गए दस्तावेज़ वरिष्ठ पत्रकार नितिन सेठी और एक अन्य सोशल मीडिया यूजर @Indian_nagrik द्वारा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स X(पहले ट्विटर) पर साझा किए गए.
उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट(Supreme Court) ने देश के सबसे बड़े सरकारी स्वामित्व वाले बैंक को 6 मार्च तक खरीदे गए सभी चुनावी बॉन्ड्स का विवरण जारी करने का आदेश दिया था. आंकड़ों के अनुसार, बॉन्ड्स की नवीनतम किश्त सहित कुल मिलाकर एसबीआई द्वारा 16,518.11 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बेचे गए हैं.

 

SBI Bonds Info Deleted

Advertisement
Advertisement

Related posts

राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा: आडवाणी और जोशी ना अमीर हस्तियों को हाँ

editor

क्या मनोहर सरकार हड़पना चाहती है किसानो की 1810 एकड़ जमीन ,8 घंटे हाई वोल्टेज ड्रामा

atalhind

दीपेंद्र हुड्डा खुद की करा रहे पब्लिसिटी

atalhind

Leave a Comment

URL