AtalHind
व्यापार

haryana धान खरीद में बड़ा फर्जीवाड़ा : कुंजपुरा के मंडी सचिव और सुपरवाइजर सहित 3 सस्पेंड

धान खरीद में बड़ा फर्जीवाड़ा : कुंजपुरा के मंडी सचिव और सुपरवाइजर सहित 3 सस्पेंड
करनाल(atal hind) कुंजपुरा के अंतर्गत आने वाली घीड़ में करीब 24 हजार क्विंटल धान का फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड के चीफ एडमिनिस्ट्रेटर विनय सिंह ने कुंजपुरा मंडी सचिव अनिल कुमार, घीड़ मंडी सुपरवाइजर धीरज, आक्शन रिकार्डर धर्मवीर को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है। बोर्ड सीए की करनाल में अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही है, इससे पहले ही करनाल, तरावड़ी, इंद्री के सचिवों को सस्पेंड किया जा चुका हैं। यहीं नहीं भ्रष्टाचार के बड़े मामले सामने आने के बाद करनाल जिले की कई मंडियां अब रडार पर आ चुकी हैं, जिनकी पुख्ता रिपोर्ट मिल चुकी है, जल्द ही कई मंडियों में कार्यरत अधिकारियों पर गाज गिर सकती है।
हलांकि इस बारे में अभी विभाग के अधिकारी ने पूरी जानकारी देने से मना कर दिया, लेकिन इतना तय है कि कार्यवाही जल्द ही होने की संभावना है। वहीं घीड़ मंडी में धान खरीद में फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद सरकार ने करनाल ओर निसिंग के कई राइस मिलर्स निशाने पर आ चुके हैं, क्योंकि जिला नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के अधिकारी को कई शिकायतें मिली हैं। जिसके बाद कभी भी इन राइस मिलर्स पर चैकिंग की जा चुकी है।
क्या भ्रष्टाचार में मंडी के अधिकारी ही शामिल?
मंडियों में कब से धान खरीद में भ्रष्टाचार चल रहा हैं, क्या इस खेल में केवल मंडी के कुछ अधिकारी शामिल हैं? आरोप है कि अकेले मंडिय़ों के अधिकारी अन्य खरीद एजेंसियों के अधिकारियों के बिना भ्रष्टाचार का खेल संभव नहीं है। कई राइस मिलर्स, कई मंडियों के अधिकारियों, कर्मचारियों से मिलीभगत करके पोर्टल नजर रखे हुए हैं ताकि भ्रष्टाचार को अंजाम दे सके।
कई राइस मिलर्स की मिली शिकायतें : डीएफएससी
डीएफएससी अशोक रावत ने बताया कि भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्यवाही जारी हैं, करनाल व निसिंग के कई राइस मिलर्स की शिकायतें मिली हैं, मामला हेड क्वार्टर के संज्ञान में है। किसी भी वक्त इन मिलों में चैकिंग होंगी। हर पहलू को खंगाला जा रहा हैं, काफी कुछ सबूत मिलें हैं। जिनके आधार पर आगामी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।
क्या मंडियों में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार फैला, जो अधिकारी सख्त कार्यवाही पर भी नहीं मानते
सवाल है कि क्या मंडियों में बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार का खेल चलता हैं, करोड़ों रुपए का लेन-देन होता है। इसकी पुष्टि इसी बात से हो रही है कि करनाल की मंडियों में कार्यरत चार सचिवों को सस्पेंड किया जा चुका है, बावजूद मंडियों में खेल बदस्तूर जारी है। हालांकि सरकार इस खेल को रोकने के लिए पूरी सर्तकता से काम कर रही हैं, फिर भी बड़े पैमाने पर क्यों भ्रष्टाचार का खेल नहीं रूक रहा?
कई मंडियों की रिपोर्ट संज्ञान में : विनय सिंह
हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड के चीफ एडमिनिस्ट्रेटर विनय सिंह ने बताया कि घीड़ मंडी में भ्रष्टाचार को देखते हुए कुंजपुरा मंडी सचिव, घीड़ मंडी सुपरवाइजर, आक्शन रिकार्डर धर्मवीर को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है। करनाल की कई मंडियों की रिपोर्ट उनके संज्ञान में है, जल्द ही उन पर कार्यवाही होंगी। इन मंडियों के बारे में फिलहाल कुछ नहीं बता सकते। मंडियों में भ्रष्टाचार अब नहीं चलेगा, किसी को बख्शा नहीं जाएगा। किसानों का धान समर्थन मूल्य पर बिके, सीधा लाभ किसानों को। इसके लिए गंभीरता के साथ हर मंडी पर पूरी नजर है।
Advertisement

Related posts

जीएसटी के करोडो रुपए गबन करने वाले 3 आरोपी चीका पुलिस द्वारा गिरफतार,

admin

भारतीय निर्यातक अमेज़ॅन ग्लोबल सेलिंग पर बम्पर हॉलिडे शॉपिंग सीजन के लिए तैयार

editor

मुकेश अंबानी ने हर घंटे कमाए 90 करोड़, अडाणी की नेटवर्थ 1.20 लाख करोड़ बढ़ी

admin

Leave a Comment

URL